Category: बच्चों का पोषण

बच्चों में अंगूर के स्वास्थ्य लाभ

By: Salan Khalkho | 4 min read

अंगूर में घनिष्ट मात्र में पाशक तत्त्व होते हैं जो बढते बच्चों के शारीरक और बौद्धिक विकास के लिए जरुरी है। अंगूर उन कुछ फलों में से एक हैं जो बहुत आसानी से बच्चों को digest हो जाते हैं। जब आपका बच्चा अपच से पीड़ित है तो अंगूर एक उपयुक्त फल है। बच्चे को अंगूर खिलाने से उसके पेट की acidity कम होती है। शिशु आहार baby food

बच्चों में अंगूर के स्वास्थ्य लाभ Grapes for Baby Food शिशु आहार

बच्चों को अंगूरों से अनेक स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होते हैं - जैसे की एंटीऑक्सिडेंट की आपूर्ति, central nervous system की सुरक्षा है। अंगूर बच्चों में natural laxative के रूप में भी काम करती है। यह पचाने में आसान है  और  श्वसन रोगों का सुधर, रक्त की मात्रा में सुधार और जिगर की रक्षा करता है।

अगर आप ६ महीने के शिशु को अंगूर खिलाना चहते हैं तो आप उसे अंगूर की प्यूरी भी बना के दे सकते हैं। 

बच्चों के लिए अंगूर के स्वास्थ्य लाभ

अंगूर में घनिष्ट मात्र में पाशक तत्त्व होते हैं जो बढते बच्चों के शारीरक और बौद्धिक विकास के लिए जरुरी है। बच्चों को साबूत अंगूर ना दें बल्कि अंगूर को दो टुकड़ों में चाकू से कट के दें। इससे बच्चों के गले में अंगूर के फसने का खतरा नहीं रहता। बच्चों को अंगूर देने से पहले आप अंगूर के छिलके को निकल के भी दे सकती हैं। सही तरीके से आप अंगूर के छिलकों को बहुत आसानी से और तुरंत निकल सकती हैं। 

 

अंगूर में पोषक तत्त्व शिशु आहार

एक कप अंगूर में विटामिन मी मात्र 

  • विटामिन A – 92 IU
  • विटामिन C – 3.7 mg
  • विटामिन B1 (thiamine) – .08 mg
  • विटामिन B2 (riboflavin) – .05 mg
  • Niacin – .27 mg
  • फोलेट – 4 mcg
  • इसमें और भी तरह विटामिन्स कम मात्रा मैं विधमान है 

एक कप अंगूर में मिनरल (खनिज तत्वों) की मात्र 

  • पोटैशियम – 176 mg
  • फॉस्फोरस – 9 mg
  • मैग्नीशियम – 5 mg
  • कैल्शियम – 13 mg
  • सोडियम – 2 mg
  • आयरन – .27 mg
  • बहुत थड़ी मात्रा में इसमें  मैनगनीज, कॉपर  और जिंक भी पाया जाता है। 

माना जाता है कि Middle East में 6 से 8 हजार साल पहले अंगूर की खेती की जाती थी। यहां से अंगूर एशिया, मिस्र, यूरोप और अमेरिका के अन्य हिस्सों में फैला। फिलहाल भारत के कई राज्यों में अंगूर का उत्पादन होता है।

क्या बच्चों को अंगूर देना सुरक्षित है?

हाँ, बच्चे को अंगूर देना सुरक्षित है। लेकिन, कुछ बातों का ध्यान रखने की आवश्यकता है। केवल मसले (mash) किए हुए अंगूर को बच्चे को दिया जाना चाहिए। खड़ा अंगूर न दें क्योंकि बच्चों के गले में फसने का और इससे घुटन होने का बड़ा खतरा होता है। अगर जरुरी बातों का ख्याल रखें तो आप अपने बच्चे को 6-8 महीने की उम्र से ही अंगूर देना प्रारंभ कर सकती हैं। 

बच्चों को अंगूर देते समय इन बातों का ख्याल रखें 

  • पूरा साबुत अंगूर न दें: बच्चों को पूरा अंगूर देना, विशेषकर जिनके दांत नहीं हैं, हानिकारक हो सकता है।  अंगूर से घुटन का खतरा रहता है क्योंकि वे बच्चों के गले में फंस सकते हैं। इसके बजाय, बच्चों को देते वक्त अंगूर को मैश करें और शिशुओं को अंगूर का pulp दें। अंगूर को मैशिंग करते वक्त बीज हटा दें। बच्चों को पूरे बीज को निगलने में समस्या हो सकती है।
  • बच्चों को अंगूर का juice न दें: अक्सर, कुछ माता-पिता सोचते हैं कि juice देना, फलों का पल्प देने से बेहतर होता है। बच्चों के चिकित्सक बच्चों को फलों का juice देने से माता-पिता को मना करते हैं। आम तौर पर, फलों के juice बहुत मीठे होते हैं और बच्चों को उस मीठे स्वाद से लगाव हो जाता है, ऐसा होने पे बच्चे दुसरे कम मीठे आहार खाने में आना कानी करते हैं। 

Grapes for Baby Food When can baby eat grape


बच्चों को अंगूर से होने वाले स्वास्थ्य लाभ - शिशु में अंगूर के फायेदे 

Antioxidants की आपूर्ति

बच्चे के आहार और वजन में बढ़ने के अनुपात को अगर आप देखें तो आपको अंदाजा मिल जायेगा की बच्चों को अधिक आहार खाने की आवश्यकता है। बढते बच्चों को ज्यादा आहार की आवश्यकता है। जरुरी पोषक तत्वों की आवश्यकता की पूर्ति के लिए बच्चों का शारीर तजी से आहार को metabolize करता है। मगर तेज़ मेटाबोलिज्म की वजह से बच्चे के शारीर में free radicals का उत्पादन भी तेज़ हो जाता है। Free radicals बच्चों के DNA को को प्रभावित करता है और उसे नुकसान पहुंचता है। अंगूर में प्रचुर मात्र में Antioxidants होता है जो free radicals को बांध देता है और बच्चों के DNA को प्रभावित करने से रूकता है। अंगूर केवल बच्चों के भूक को ही शांत नहीं करता, उन्हें केवल उर्जा ही नहीं देता, बल्कि बच्चों के शारीर में पैदा हो रहे free radicals से भी लड़ता है। 

केंद्रीय तंत्रिका तंत्र का संरक्षण (Protection of central nervous system): 

शिशुओं में केंद्रीय तंत्रिका तंत्र एक विकासशील प्रक्रिया है। जिस तरह आपका बच्चा बढ़ रहा है, उसका तंत्रिका तंत्र भी विकसित हो रहा है। जैसे-जैसे बच्चा उम्र में बढ़ता है, नए न्यूरॉन्स के रूप और नए तंत्रिका कनेक्शन बनते हैं। यह एक नाजुक संतुलन है जो भविष्य में बच्चे की स्मृति और बुद्धि को प्रभावित करता है। बच्चों को अंगूर देकर आप उनके न्यूरॉन्स को क्षति से बचा सकते है और उनके मस्तिष्क की अच्छी स्वस्थ्य सुनिश्चित कर सकते हैं।

प्राकृतिक laxative के रूप में कार्य (Acts as a natural laxative)

अंगूरों में काफी मात्रा में dietary fiber होते हैं। यह dietary fiber पानी को अवशोषित कर मल को भारी मगर नरम बनाता हैं जिससे bowel movements बहुत आसानी से होती हैं।

आसानी से पचने योग्य (Easily digestible)

अंगूर उन कुछ फलों में से एक हैं जो बहुत आसानी से बच्चों को digest हो जाते हैं। जब आपका बच्चा अपच से पीड़ित है तो अंगूर एक उपयुक्त फल है। बच्चे को अंगूर खिलाने से उसके पेट की acidity कम होती है।  

श्वसन रोगों के लिए उपाय (Remedy for respiratory diseases)

बच्चों और शिशुओं में शीतल रोगों से संक्रमित होने की सम्भावना ज्यादा होती है जैसे की आम सर्दी, खांसी,  अस्थमा और ब्रोंकाइटिस। अपने बच्चे को अंगूर देना अस्थमा जैसे रोगों के लिए एक अच्छा उपाय है। 

रक्त की गुणवत्ता और रक्त की संख्या में सुधार (Improving blood quality and blood count)

रक्त की गुणवत्ता हीमोग्लोबिन के स्तर को दर्शाती है और रक्त गणना लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या को दर्शाती है। अंगूरों को नियमित रूप से शिशुओं और बच्च कों देने से उनमे हीमोग्लोबिन का स्तर बढता है और लाल रक्त कोशिकाओं में सुधार होता है। 

जिगर को उत्तेजित करता है (Stimulates liver) 

अंगूर यकृत के उत्तेजक के रूप में कार्य करते हैं और इसे ठीक कर देते हैं। जिगर की उत्तेजना से जिगर की गतिविधि और पित्त स्राव में वृद्धि होती है। पित्त स्राव पाचन में एक आवश्यक कदम है 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_160.txt
Footer