Category: टीकाकरण (vaccination)

जापानीज इन्सेफेलाइटिस (Japanese Encephalitis) का वैक्सीन - Schedule और Side Effects

By: Salan Khalkho | 4 min read

मस्तिष्क ज्वर/दिमागी बुखार (Japanese encephalitis - JE) का वैक्सीन मदद करता है आप के बच्चे को एक गंभीर बीमारी से बचने में जो जापानीज इन्सेफेलाइटिस के वायरस द्वारा होता है। मस्तिष्क ज्वर मछरों द्वारा काटे जाने से फैलता है। मगर अच्छी बात यह है की इससे वैक्सीन के द्वारा पूरी तरह बचा जा सकता है।

मस्तिष्क ज्वर दिमागी बुखार जापानीज इन्सेफेलाइटिस का टीका (Japanese encephalitis vaccine - JE)

जापानीज इन्सेफेलाइटिस (Japanese Encephalitis) एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है जो मछरों के काटने से फैलता है। जापानीज इन्सेफेलाइटिस (मस्तिष्क ज्वर/दिमागी बुखार) की अधिकांश घटनाएँ देखने को मिलती है। एशिया महाद्वीप के गावों, देहातों और बीहड़ों में जापानीज इन्सेफेलाइटिस की घटनाएँ देखने को मिलती है। मगर इस बीमारी का प्रकोप सिर्फ गावों तक ही सिमित नहीं है। शहरों में भी यह बीमारी धीरे धीरे अपना पैर पसार रही है। 

जापानीज इन्सेफेलाइटिस - डोज़ (dose) - Schedule of immunization

  • पहली खुराक - 1 वर्ष की उम्र में
  • दूसरी खुराक - 1 वर्ष की उम्र में (कुछ महीनो के अंतराल पे)
  • तीसरी खुराक - 1 वर्ष की उम्र में (कुछ महीनो के अंतराल पे)  
  • सभी डोज़ लग जाना चाहिए)

जापानीज इन्सेफेलाइटिस (Japanese Encephalitis) का संक्रमण एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति को नहीं फैलता है। इसका संक्रमण केवल एक खास किस्म के वायरस के द्वारा होता है, जो मच्छर या सूअर के द्वारा फैलते हैं। जिन जगहों में जापानीज इन्सेफेलाइटिस की घटनाएँ जयादा देखने को मिलती हैं, उन जगहों पे जापानीज इन्सेफेलाइटिस (Japanese Encephalitis) के संक्रमण का खतरा भी ज्यादा होता है। 

अधिकांश व्यक्ति जो जापानीज इन्सेफेलाइटिस (Japanese Encephalitis) से संक्रमित हैं, कोई भी लक्षण प्रदर्शित नहीं करते हैं की जिनसे संक्रमण होने का पता चल सके। मगर बाकि लोगों को बुखार, सर दर्द या फिर दिमागी बुखार (मस्तिष्क ज्वर) के लक्षण दिख सकते हैं। 

इसीलिए आवश्यक है की हर बच्चे को  टीकाकरण चार्ट - 2018 के अनुसार समय पे टीका लगवाया जाये और बच्चे को तथा देशो को जापानीज इन्सेफेलाइटिस की महामारी से बचाया जा सके। 

यह टीका क्योँ दिया जाता है?

जापानीज इन्सेफेलाइटिस (Japanese Encephalitis) का वैक्सीन  एक बहुत ही प्रभावी और आसन तरीका है अपने शिशु को इस भयंकर बीमारी से बचने का। Japanese encephalitis (JE) vaccine के इस्तेमाल से शिशु के अन्दर इस बीमारी के वायरस के प्रति रोग प्रतिरोधक छमता (increased immunogenicity) विकसित हो जाती है। 

दुष्प्रभाव (side effects)

जापानीज इन्सेफेलाइटिस (Japanese Encephalitis JE) का वैक्सीन दिए जाने पे हर दस में से चार बच्चों में कुछ हलके फुल्के टिके के दुष्प्रभाव (mild and short-lived side effects) देखने को मिलते हैं - जो कुछ समय पश्च्यात बिना इलाज के ही ठीक हो जाते हैं। जापानीज इन्सेफेलाइटिस का टिका (Japanese Encephalitis JE) देने पे निम्न दुष्प्रभाव देखने को मिलते हैं। 

  1. त्वचा पे सूजन (soreness) 
  2. त्वचा पे जिस जगह पे टिका लगाया गया है उस जगह की त्वचा लाल पड़ जाती है 
  3. सरदर्द
  4. मांसपेशियोँ में दर्द

ये दुष्प्रभाव ऐसे हैं जिनसे घबराने की कोई भी आवश्यकता नहीं है। मगर ये देशप्रभाव अगर गंभीर रूप लेलें तो शिशु के डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें या फिर अपने बच्चे को नजदीकी शिशु स्वस्थ केंद्र पे लेके जाएँ।

सावधानी (precuations)

जापानीज इन्सेफेलाइटिस (Japanese Encephalitis JE) के वैक्सीन से कुछ दुष्प्रभाव (side effects) होना आम बात है और इनसे परेशान होने की कोई भी आवश्यकता नहीं है। परन्तु कुछ बच्चों में ये दुष्प्रभाव (side effects) गंभीर रूप ले सकते हैं - हालाँकि ऐसे दुष्प्रभाव (side effects) का होना बहुत ही दुर्लभ बात है। गंभीर दुष्प्रभाव (side effects) में समलित हैं 

  1. त्वचा पे लाल फुले हुए चकते पड़ना (urticaria or hives) [शीतपित्त (hives) - swollen, pale red bumps or plaques]
  2. बच्चे के चेहरे का सूज जाना (swelling of the face)
  3. साँस लेने में कठिनाई 

इस प्रकार के लक्षण बेहद दुर्लभ हैं - मगर अगर आप के बच्चे में ये लक्षण दिखे तो तुरंत अपने बच्चे को लेके डॉक्टर के पास जाएँ ताकि समय पे उचित इलाज हो सके। 

यह टीका किन बच्चों को नहीं लगाया जाना चाहिए 

  • अगर आप का बच्चा बीमार है या टीके वाले दिन स्वस्थ महसूस नहीं कर रहा है तो उसे उस दिन टीका न लगवाएं। बच्चे को जापानीज इन्सेफेलाइटिस (Japanese Encephalitis) का वैक्सीन तभी लगवाएं जब वह पूरी तरह से स्वस्थ हो जाये। 


Video: दिमागी बुखार की कहानी - The story of Brain Fever

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

बच्चों-को-गोरा-करने-का-तरीका-
गोरा-बच्चा
शिशु-diet-chart
खिचड़ी-की-recipe
बेबी-फ़ूड
पौष्टिक-दाल-और-सब्जी-वाली-बच्चों-की-खिचड़ी
पांच-दलों-से-बनी-खिचडी
बेबी-फ़ूड
शिशु-आहार
सब्जियों-की-प्यूरी
भोजन-तलिका
चावल-का-पानी
सेरेलक
सेब-बेबी-फ़ूड
बच्चों-के-लिए-खीर
सेब-पुडिंग
बच्चों-का-डाइट-प्लान
बच्चों-में-भूख-बढ़ने
फूड-प्वाइजनिंग
baby-food
बच्चे-की-भूख-बढ़ाने-के-घरेलू-नुस्खे
अपने-बच्चे-को-कैसे-बुद्धिमान-बनायें
शिशु-को-सुलाने-
एक-साल-तक-के-शिशु-को-क्या-खिलाए
दूध-पिने-के-बाद-बच्चा-उलटी-कर-देता-है----क्या-करें
रोते-बच्चों-को-शांत-करने-के-उपाए
सूजी-का-खीर
गर्मियों-में-अपने-शिशु-को-ठंडा-व-आरामदायक-कैसे-रखें
नाख़ून-कुतरने
सतरंगी-सब्जियों-के-गुण

Most Read

बच्चों-मे-सीलिएक
बच्चों-में-स्किन-रैश-शीतपित्त
बच्चों-में-अण्डे-एलर्जी
बच्चे-को-दूध-से-एलर्जी
दस्त-में-शिशु-आहार
टीकाकरण-चार्ट-2018
बच्चों-का-गर्मी-से-बचाव
आयरन-से-भरपूर-आहार
सर्दी-जुकाम-से-बचाव
बच्चों-में-टाइफाइड
बच्चों-में-अंजनहारी
बच्चों-में-खाने-से-एलर्जी
बच्चों-में-चेचक
डेंगू-के-लक्षण
बच्चों-में-न्यूमोनिया
बच्चों-का-घरेलू-इलाज
बच्चों-में-यूरिन
वायरल-बुखार-Viral-fever
बच्चों-में-सर्दी
एंटी-रेबीज-वैक्सीन
चिकन-पाक्स-का-टिका
टाइफाइड-वैक्सीन
शिशु-का-वजन-बढ़ाने-का-आहार
दिमागी-बुखार
येलो-फीवर-yellow-fever
हेपेटाइटिस-बी
हैजा-का-टीकाकरण---Cholera-Vaccination
बच्चों-का-मालिश
गर्मियों-से-बचें
बच्चों-का-मालिश
बच्चों-की-लम्बाई
उल्टी-में-देखभाल
शहद-के-फायदे
बच्चो-में-कुपोषण
हाइपोथर्मिया-hypothermia
ठोस-आहार
बच्चे-क्यों-रोते
टीके-की-बूस्टर-खुराक
टीकाकरण-का-महत्व
अंगूठा-चूसना-
बिस्तर-पर-पेशाब-करना
नकसीर-फूटना
बच्चों-में-अच्छी-आदतें
बच्चों-में-पेट-दर्द
बच्चों-के-ड्राई-फ्रूट्स
ड्राई-फ्रूट-चिक्की
विटामिन-C
दाँतों-की-सुरक्षा
6-से-12-वर्ष-के-शिशु-को-क्या-खिलाएं

Other Articles

indexed_280.txt
Footer