Category: स्वस्थ शरीर

दूध पिने के बाद बच्चा उलटी कर देता है - क्या करें

By: Salan Khalkho | 7 min read

अगर आप का शिशु बहुत ज्यादा उलटी करता है, तो आप का चिंता करना स्वाभाविक है। बच्चे के पहले साल में दूध पिने के बाद या स्तनपान के बाद उलटी करना कितना स्वाभाविक है, इसके बारे में हम आप को इस लेख में बताएँगे। हर माँ बाप जिनका छोटा बच्चा बहुत उलटी करता है यह जानने की कोशिश करते हैं की क्या उनके बच्चे के उलटी करने के पीछे कोई समस्या तो नहीं। इसी विषेय पे हम विस्तार से चर्चा करते हैं।

दूध पिने के बाद बच्चा उलटी कर देता है - क्या करें

इस लेख में

शिशु को उलटी की समस्या

शिशु के प्रथम साल में उलटी एक बेहद ही आम बात है। इसमें आम तौर पे आप को कोई चिंता करने की बात नहीं है। शिशु को उलटी कई कारणों से हो सकती है। 

1 month baby vomiting after feeding

यह किसी बीमारी से सभी हो सकती है - जैसे की खांसी की वजह से या ढेकार लेने की वजह से या फिर अत्यधिक मात्र में दूध पी लेने की वजह से भी। 

कारण चाहे जो भी हो, उलटी चिंता का विषेय नहीं है। हाँ बीमारी जरुर चिंता का विषेय है। अधिकांश मामलों में बच्चों की उलटी स्वता ही एक साल होते - होते अपने आप ही ख़तम हो जाती है।   

हर बार स्तनपान के बाद उलटी - क्या करें

अगर आप का शिशु हर दिन स्तनपान या बोतल से दूध पिने के बाद थोडा बहुत उलटी कर देता है तो इसमें कोई भी चिंता की बात नहीं है। 

how to prevent child from immediatly vomiting after feeding

बच्चों का पेट बहुत छोटा होता है। उसमें बहुत सारा आहार समां नहीं सकता है। इसीलिए शिशु को थोडा-थोडा आहार हर थोड़ी-थोड़ी देर पे देने की आवश्यकता पड़ती है।

यह भी पढ़ें: बच्चों में उलटी - क्या सामान्य है और क्या नहीं

 यही वजह है की बच्चों को हर थोड़ी-थोड़ी देर पे भूख लग जाती है और वे रोने आगते हैं। जब बच्चे दूध पिते हैं तो उससे ना केवल उनकी भूख शांत होती है बल्कि उनकी भावनात्मक जरुरत भी पूरी होती है। 

उन्हें माँ की निकटता अच्छी लगती है और इसी वजह से वे जरुरत से ज्यादा दूध पी लेते हैं - आगे चलकर इसकी वजह से उन्हें उलटी होती है। 

कुछ बच्चे दूध पिते वक्त बहुत सारा हवा (वायु) भी निगल लेते हैं और जो अन्दर जाकर गैस बनता है और टेप में मौजूद दूध को धक्का मारकर बहार निकलता है।

baby vomiting after feeding formula no fever

शिशु की उलटी को किस तरह से रोकें

शिशु की उलटी को रोकने का दो सबसे आसन तरीका है। 

  • आप अपने शिशु को केवल उतना ही दूध पिलायें जितना की उसकी जरुरत है। अगर आप शिशु को बोतल से ज्यादा दूध पिलाएँगी तो वह बोतल में मौजूद सारा दूध पिलेगा। क्यूंकि बच्चों को अपने भूख का अंदाजा नहीं होता है। इसलिए आप को ही अपने शिशु की दूध की आवश्यकता का ध्यान रखना पड़ेगा और उतना ही दूध पिलाना पड़ेगा जितना की उसके छोटे से पेट में अट सके। अगर आप इतना करती है तो अधिकांश मामलों में आप का शिशु उलटी करा बंद कर देगा। 
  • शिशु को दूध पिलाने के तुरंत बाद आप उसे अपने छाती पे खड़ा गोदी लेकर थपकी देने की कोशिश करें। इससे कुछ ही देर में शिशु को डकार आ जायेगा और दूध पिटे वक्त जो हवा (वायु) अंदर गयी है उसे बहार आने का मौका मिलेगा। यह शिशु की उलटी को रूकने का सबसे कारगर तरीका है। 

baby vomiting after feeding through nose

उलटी कब बनती है चिंता का विषेय

  1. अगर आप के बच्चे को बिना रुके लगातार उलटी हो रही है और साथ में उसे दस्त भी हो रहा है तो यह बहुत घम्भीर समस्या है। अगर आप का बच्चा जो खा रहा है वो सब उलटी कर के निकल दे रहा है तो आप को तुरंत शिशु-के-डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। उलटी और दस्त की वजह से बच्चे के शारीर से पानी और नमक की मात्र तेज़ी से घटने की वजह से उसकी जान भी जा सकती है
  2. कई बार बच्चों को उलटी किसी संक्रमण की वजह से भी होती है। बच्चों को संक्रमण लगना बहुत आम बात है। बच्चों को रोगप्रतिरोधक तंत्र इतना मजबूत नहीं होता है की उनके शारीर की रक्षा कर सके। इसीलिए बच्चों को आसानी से संक्रमण लग जाता है। बच्चे अपने हातों के सहारे चलने की कोशिश करते हैं जिससे निरंतर फर्श के संपर्क में रहने की वजह से उनके हात गंदे हो जाते है। फिर जब बच्चे अपने इस गंदे हात को अपने मुह में डालते हैं तो संक्रमण फर्श से सीधा बच्चे के मुह में चला जाता है जहाँ से संक्रमण शिशु के शारीर में प्रवेश करता है। आप अपने बच्चे को संक्रमण से बचने के लिए कोशिश करें की आप का शिशु बार-बार अपने गंदे हातों को मुह में नहीं डाले। यह भी ध्यान रखें की आप का शिशु अपने गंदे खिलौने को भी अपने मुह मैं नहीं डाले। इससे भी उसे संक्रमण लगने का खतरा बन जाता है।  

बच्चों में संक्रमण

शिशु के प्रारंभी साल में संक्रमण होना बहुत ही आम बात है। शिशु में उलटी की समस्या संक्रमण की वजह से भी होती है। जब बच्चे को संक्रमण की वजह से उलटी होती है तो दूध शिशु के मुह से बहुत तेज़ी से बहार आता है। 

home remedies to stop vomiting in babies

शिशु को संक्रमण मुख्यता विषाणु की वजह से होता है। लेकिन कभी कभार यह जीवाणु की वजह से भी हो सकता है। अगर शिशु को संक्रमण की वजह से उलटी हो रहा है तो आप के शिशु को बुखार भी होगा और उसे दस्त की समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है।

 चूँकि यह संक्रमण एक बच्चे को दुसरे बच्चे तक आसानी से फैलता है, सावधानी बरतें की घर में दुसरे बच्चों में भी यह संक्रमण नहीं फैले। संक्रमण की वजह से बच्चों को पेट दर्द भी होता है। 

Rotaviruses, बच्चों में संक्रमण का मुख्या वजह है। इस संक्रमण में बच्चे को बुखार और दस्त भी होता है। यह विषाणु बहुत ही संक्रामक होता है। इसलिए बहुत ही सावधानी बरतने की आवश्यकता रहती है। Rotaviruses का वैक्सीन भी उपलब्ध है जो शिशु को Rotaviruses के संक्रमण से बचाता है। 

how to avoid baby vomiting after feeding

उलटी की किन घटनाओं में शिशु को तुरंत डोक्टर के पास लेके जाएँ

  • शिशु को लगातार उलटी दस्त हो रहा हो 
  • शिशु को बुखार है
  • उलटी में खून या हरे रंग का पदार्थ
  • अत्याधिक पेट दर्द
  • पेट का फूलना या पेट में सुजन
  • बच्चे का सुस्त होना
  • पेशाब नहीं होना या कम होना
  • मुह सुखना, आंसू का नहीं बनना
  • 24 घंटे से ज्यादा देर तक उलटी होना

newborn vomiting after breastfeeding

शिशु की उलटी में यह सावधानी बरतें

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

Footer