Category: स्वस्थ शरीर

बच्चा बिस्तर से गिर पड़े तो क्या करें - संकेत और लक्षण

By: Admin | 4 min read

अगर बच्चा बिस्तर से गिर पड़े तो आप को कौन से बातों का ख्याल रखना चाहिए? कौन से लक्षण और संकेत ऐसे हैं जो शिशु के अंदरूनी चोट के बारे में बताते हैं। शिशु को चोट से तुरंत रहत पहुँचाने के लिए आप को क्या करना चाहिए? इन सभी सवालों के जवाब आप इस लेख में पढ़ेंगी।

बच्चा बिस्तर से गिर पड़े तो क्या करें - संकेत और लक्षण

लगभग हर बच्चे कभी ना कभी खेलते हुए बिस्तर से गिरते हैं। 

छोटे बच्चे बहुत चंचल होते हैं। छेह महीने से एक साल तक के बच्चे करवट लेना सीखते हैं और बिना सहारे के बैठने की कोशिश करने लगते हैं। 

चूँकि उनका अधिकांश समय बिस्तर पे ही गुजरता है, उनके बिस्तर से गिरने की सम्भावना अधिक रहती है। 

गिरने की वजह से बच्चे को कभी-कभी गंभीर चोट लग सकती है। चोट अगर अंदरूनी है, तो बहार से चोट की गंभीरता के बारे में जानना बहुत मुश्किल है। 

बच्चा बिस्तर से गिर पड़े और अगर आप उसमे हमारे बताये हुए लक्षणों को देखें तो बच्चे को तुरंत डोक्टर के पास लेके जाएँ। हो सकता है की बच्चे को सर में या फिर शारीर में कोई अंदरूनी चोट लगा हो। 

समय पे बच्चे का इलाज होने पे और उचित देख-भाल से बच्चा कुछ ही समय में पूर्ण रूप से स्वस्थ हो जायेगा। लेकिन इसके लिए यह पता होना जरुरी है की बच्चे को चोट लगा-है की नही। क्यूंकि अगर बच्चे को चोट लगी है, तो समय पे इलाज महत्वपूर्ण है। 

अगर बच्चा बिस्तर से गिर पड़े और उसे सर पे चोट लगे तो आप को निम्न बातें जाननी चाहिए। 

इस लेख में:

  1. छेह माह से एक साल तक के बच्चों का गिरना
  2. बिस्तर से गिरने पे बच्चे के सर पे चोट
  3. क्या करें जब बच्चा बिस्तर से गिर पड़े
  4. शिशु को बस्तर से गिरने से किस तरह बचाएं?
  5. ध्यान दें

छेह माह से एक साल तक के बच्चों का गिरना

जब बच्‍चा घुटनों के बल चलना शुरू करता है, तो उनकी विशेष निगरानी करनी पड़ती है। थोड़ी सी असावधानी, और थोडा सा नजर हटते ही बच्चे ना जाने कब बिस्तर के एक सिरे से दुसरे सिरे तक पहुँच जाते हैं, पता भी नहीं चलता है। 

छेह माह से एक साल तक के बच्चों का गिरना

ऐसे में उनका बिस्तर से गिरने की सम्भावना बहुत बढ़ जाती है। अगर हाल ही में आप का भी बच्चा बिस्तर से निचे गिर गया है, तो आप को बहुत ज्यादा अपने आप को कोसने की कोई आवश्यकता नहीं है। अगली बार से और सावधानी बरतियेगा। 

अधिकांश मामलों में बिस्तर से गिरने पे बच्चों को कोई विशेष चोट नहीं लगता है। इसीलिए अधिकांश मामलों में चिंता की बात नहीं रहती है। 

पढ़ें: बच्चे के अंगूठा चूसने की आदत को कैसे छुडवायें

लेकिन फिर भी यह सुनिश्चित करना आवश्यक है की कहीं बच्चे को कोई अंदरूनी चोट तो नहीं लगी है। कुछ पुराने स्टाइल के बिस्तरों की लम्बाई ज्यादा होती है, जिनसे गिरने पे बच्चों को ज्यादा चोट लगने की सम्भावना रहती है, 

वहीँ कई बार गिरते वक्त बिस्तर के कोने से बच्चे के सर पे चोट लगने की भी सम्भावना रहती है। 

या फिर बिस्तर की निचे पड़े खिलोने या दुसरे सामानों पे गिरते वक्त बच्चे के सर पे चोट लग सकती है। 

इसीलिए हर संभव कोशिश करें की जब बच्चे बिस्तर पे हों तो पूरी सावधानी बाराती जाये। ताकि बच्चों को किसी भी संभावित खतरे से बचाया जा सके। 

बिस्तर से गिरने पे बच्चे के सर पे चोट

बड़ों की तुलना में बच्चों के सर की हड्डी (खोपड़ी) बहुत लचीली होती है। इस वजह से बड़ों की तुलना में बच्चों को सर के फ्रैक्चर की सम्भावना या दुसरे गंभीर चोट की सम्भावना कम रहती है। 

बिस्तर से गिरने पे बच्चे के सर पे चोट

लेकिन बच्चे की लिए गिरना एक अप्रत्याशित घटना होती है जिस वजह से उसे shock लगता है और बच्चा लगातार रोता है। 

अधिकांश मामलों में बच्चा चोट की वजह से नहीं बल्कि गिरने से डर जाता है और इस वजह से रोता है।

क्या करें जब बच्चा बिस्तर से गिर पड़े

सारी सावधानियों के बाद भी अगर बच्चा निचे गिर पड़े तो 

  1. सर्वप्रथम आप अपने बच्चे का ध्यान से निरक्षण करें। देखें की कहीं उसके सर पे कोई चोट, सूजन तो नहीं है। अगर कुछ समय बाद आप का बच्चा शांत हो जाये और आराम से सोये तो उसे सोने दीजिये। 
  2. शिशु के पुरे शरीर का निरक्षण करें की कहीं कोई चोट या सूजन तो नहीं है। बच्चे की आखों को देखिये की वो ठीक से आँखों को फोकस तो कर पा रहा है। 
  3. गिरने के बाद अगर आप का बच्चा बहुत ज्यादा रो रहा हो और अगर रोते-रोते अवचेत (unconscious) हो जाये तो आप पाने बच्चे तो तुरंत नजदीकी शिशु स्वस्थ केंद्र या शिशु विशेषज्ञ के पास ले के जाएँ।  क्या करें जब बच्चा बिस्तर से गिर पड़े
  4. गिरने के बाद अगर आप के बच्चे उलटी हो और उसे बुखार चढ़ जाये तो उसे अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता है। 
  5. बच्चे के गिरने के बाद कुछ दिनों तक आप अपने बच्चे पे नजर रखें। अगर इन दिनों में आप ये पाएं की आप का बच्चा शांत है, सुस्त है और ज्यादा समय सोता है (drowsiness) तो अपने शिशु के डॉक्टर से ये सारी बातें बतलायें। 
  6. शिशु में अगर आप बेहोशी और ऐंठन देखें या मिरगी की तरह के लक्षण दिखे तो शिशु को तुरंत डॉक्टर के पास ले के जाएँ। 

शिशु को बस्तर से गिरने से किस तरह बचाएं?

  1. शिशु को दिन में खेलते वक्त घर में जमीं पे खेलने दें। उसके खेलने के लिए आप जमीं पे चटाई या चादर बिछा सकती हैं। 
  2. शिशु के पहुँच से वो सारी चीज़ें दूर कर दें जिससे शिशु को चोट लग सकती है। उदहारण के लिए अगर टेबल पे पानी भरा बोतल रखा है और आप का शिशु को उत्सुकतावश उसे घींचे तो वह बोतल बच्चे की पैर पे भी गिर सकती है। इसीलिए अगर घर में कोई भी वस्तु रखी हो तो इस बात का ध्यान रखें की कहीं उससे शिशु को चोट तो नहीं लग जाएगी।  शिशु को बस्तर से गिरने से किस तरह बचाएं
  3. शिशु के बिस्तर के लिए आप bed guard का इस्तेमाल कर सकती हैं। 
  4. रात के वक्त आप शिशु को पलने में भी सुला सकती हैं। पलने में चरों तरफ से ग्रिल लगा होने की वजह से बच्चे के गिरने की सम्भावना कम हो जाती है। 
  5. अगर शिशु आप के साथ बिस्तर पे सोता है तो बिस्तर के चारों तरफ कारपेट या गद्दा बिछा दें ताकि अगर बच्चा गिरे भी तो कारपेट या गद्दे पे जिससे उसे चोट कम लगे। 

Prevent baby fell down from bed

ध्यान दें 

  1. मैंने अपनी जिंदगी में शायद ही कोई बच्चा देखा हो जो कभी बिस्तर से नहीं गिरा। इसीलिए अगर आप का बच्चा कभी बिस्तर से गिर भी जाये तो अपने आप को कोसना बंद करें। हर माँ-बाप की तरह आप भी एक बेहतर माँ-बाप हैं। लेकिन सारी सावधानियों के बाद भी अगर बच्चे को चोट लग जाये तो आराम से और विवेक से काम लेने का प्रयास करें। 
  2. चिंतित और परेशान होकर आप अपने शिशु का बेहतर तरीके से देखभाल नहीं कर पाएंगी। 
Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

सिजेरियन-डिलीवरी-के-बाद-खान-पान-(Diet-Chart)
सिजेरियन-डिलीवरी-के-बाद-मालिश
बच्चे-के-दातों-के-दर्द
नार्मल-डिलीवरी-के-बाद-बार-बार-यूरिन-पास-की-समस्या
डिलीवरी-के-बाद-पीरियड
कपडे-जो-गर्मियौं-में-बच्चों-को-ठंडा-व-आरामदायक-रखें-
शिशु-में-फ़ूड-पोइजन-(Food-Poison)-का-घरेलु-इलाज
बच्चों-को-कुपोषण-से-कैसे-बचाएं
बच्चों-में-विटामिन-और-मिनिरल-की-कमी
शिशु-में-चीनी-का-प्रभाव
विटामिन-बच्चों-की-लम्बाई-के-लिए
विटामिन-डी-remedy
बढ़ते-बच्चों-के-लिए-पोष्टिक-आहार
विटामिन-डी-की-कमी
विटामिन-ई-बनाये-बच्चों-को-पढाई-में-तेज़
बढ़ते-बच्चों-के-लिए-शीर्ष-10-Superfoods
कीवी-के-फायदे
शिशु-के-लिए-विटामिन-डी-से-भरपूर-आहार
प्रेगनेंसी-में-वरदान-है-नारियल-पानी
शिशु-में-वायरल-फीवर
किवी-फल-के-फायदे-और-गुण-बच्चों-के-लिए
बच्चों-में-पोषक-तत्वों-की-कमी-के-10-लक्षण
टेढ़े-मेढ़े-दांत-बिना-तार-के-सीधा
चेचक-का-दाग
शिशु-में-Food-Poisoning-का-इलाज---घरेलु-नुस्खे
बच्चों-के-मसूड़ों-के-दर्द-को-ठीक-करने-का-तरीका
बच्चों-की-त्वचा-पे-एक्जीमा-का-घरेलु-इलाज
शिशु-के-पुरे-शारीर-पे-एक्जीमा
छोटे-बच्चों-में-अस्थमा-का-इलाज
जलशीर्ष-Hydrocephalus

Most Read

शिशु-का-वजन-बढ़ाये-देशी-घी
शिशु-को-अंडा
शिशु-को-देशी-घी
देसी-घी
नवजात-शिशु-का-Infant-Growth-Percentile-Calculator
शिशु-का-वजन-बढ़ाएं
BMI-Calculator
गर्भ-में-लड़का-होने-के-लक्षण-इन-हिंदी
लड़की-का-आदर्श-वजन-और-लम्बाई
4-महीने-के-शिशु-का-वजन
ठोस-आहार
डिस्लेक्सिया-Dyslexia
मॉर्निंग-सिकनेस
एडीएचडी-(ADHD)
benefits-of-story-telling-to-kids
बच्चों-पे-चिल्लाना
जिद्दी-बच्चे
सुभाष-चंद्र-बोस
ADHD-में-शिशु
गणतंत्र-दिवस-essay
ADHD-शिशु
बोर्ड-एग्जाम
लर्निंग-डिसेबिलिटी-Learning-Disabilities
-देर-से-बोलते-हैं-कुछ-बच्चे
बच्चों-में-तुतलाने
गर्भावस्था-में-उलटी
प्रेग्नेंसी-में-उल्टी-और-मतली
यूटीआई-UTI-Infection
सिजेरियन-या-नार्मल-डिलीवरी
गर्भपात
डिलीवरी-के-बाद-पेट-कम
डिलीवरी-के-बाद-आहार
होली-सिखाये-बच्चों
स्तनपान-आहार
स्तनपान-में-आहार
प्रेगनेंसी-के-दौरान-गैस
बालों-का-झाड़ना
अपच-Indigestion-or-dyspepsia
प्रेगनेंसी-में-हेयर-डाई
गर्भावस्था-(प्रेगनेंसी)-में-ब्लड-प्रेशर-का-घरेलु-उपचार
गर्भधारण-का-उपयुक्त-समय-
बच्चे-में-अच्छा-व्यहार-(Good-Behavior)
शिशु-के-गले-के-टॉन्सिल-इन्फेक्शन
बच्चों-का-गुस्सा
गर्भावस्था-में-बालों-का-झड़ना
क्या-गर्भावस्था-के-दौरान-Vitamins-लेना-सुरक्षित-है
बालों-का-झाड़ना
बालों-का-झाड़ना
बालों-का-झाड़ना
सिजेरियन-डिलीवरी-के-बाद-देखभाल-के-10-तरीके

Other Articles

indexed_0.txt
Footer