Category: टीकाकरण (vaccination)

टीकाकरण के बाद शिशु की तकलीफ को इस तरह करें शांत

By: Salan Khalkho | 3 min read

शिशु का टीकाकार शिशु को बीमारियोँ से बचाने के लिए बहुत जरुरी है। मगर टीकाकार से शिशु को बहुत तकलीफों का सामना करना पड़ता है। जानिए की आप किस तरह अपने शिशु को टीकाकरण २०१८ से हुए दर्द से शिशु को कैसे राहत पहुंचा सकते हैं।

calm a child after vaccination टीकाकरण के बाद शिशु की तकलीफ को इस तरह करें शांत

कोई माँ अपने बच्चे को तकलीफ नहीं पहुँचाना चाहती है। 

मगर

टीकाकरण एक ऐसी प्रिक्रिया है जिससे की शिशु को बहुत दर्द और तकलीफों का सामना करना पड़ता है। 

माँ को चाहे जितना भी दुख हो अपने बच्चे को दर्द में देखकर - लेकिन बच्चे का टीकाकरण तो करवाना ही पड़ता है। 

टीकाकरण से शिशु को कुछ बहुत दर्द का सामना करना पड़ता है। उसे कुछ घंटो से लेकर कुछ दिनों के लिए बुखार तक चढ़ जाता है। मगर फिर भी शिशु का टिका कारन तो करवाना ही पड़ता है।

शिशु का टीकाकरण शिशु को बहुत प्रकार के जानलेवा बीमारियोँ से बचाता है। पढ़िए शिशु टीकाकरण 2018  

कोई माँ अपने बच्चे को दर्द में नहीं देख सकती है।

इसीलिए इस लेख में हम आप को बताएँगे की टीकाकरण के बाद आप अपने बच्चे की तकलीफ को कम करने के लिए क्या-क्या कर सकती हैं। 

अगर आप job करती हैं तो अपने शिशु के टीकाकरण के लिए आप कुछ दिनों की छुट्टी ले लीजिये। टीकाकरण के बाद बच्चे को जो तकलीफ होगी उसमे वो सिर्फ आप को ही खोजेगा। उन दिनों आप कुछ और काम भी नहीं कर पाएंगी। बच्चे के पापा के मजूदगी की भी आवश्यकता होगी। बच्चे का पिता बच्चे के साथ खेल के उसका ध्यान उसके दर्द से हटा सकता है। 

यहां हम आप को बताएँगे पांच तरीके जिनकी सहायता से आप टीकाकरण के बाद अपने शिशु के तकलीफ को कम कर सकेंगी। 

बच्चे को अपने गोदी में ले लें take infant in your arms

१. बच्चे को अपने गोदी में ले लें

टीकाकरण की प्रक्रिया समाप्त होने पे बच्चे को तुरंत अपने गोदी में उठा लें। शरीर के जिस जगह पे टीकाकरण की प्रक्रिया हुई है उस स्थान को हलके हाथों से सहलाएं - ताकि बच्चे को थोड़ा आराम मिले। बच्चे को गोदी में उठा के अपने छाती से सटा के रखने से बच्चे को बहुत सुकून मिलता है। कुछ समय के लिए ही सही - उसका थोड़ा सा दर्द भी कम होता है। 

बच्चे के ध्यान को भटकायें distract child attention from vaccination

२. बच्चे के ध्यान को भटकायें

आप का बच्चा जितना ज्यादा टीकाकरण की प्रक्रिया के बारे में सोचेगा, उसे उतना ज्यादा मानसिक तकलीफ होगा। बच्चे के ध्यान को टीकाकरण से हटा के कही और केंद्रित करें। इससे आप का शिशु थोड़ी देर की लिए अपने दर्द को भूल जायेगा। बच्चे को उसका पसंदीदा खिलौना खेलने को दें। बच्चे को घर के बहार लेके जाएँ और उसे पेड़ पौधे और पक्षियां दिखाएँ। इससे आप का शिशु अपनी बेचैनी को भुला पायेगा। 

शिशु को स्तनपान कराएं breastfeeding to sooth a child after vaccination

३. शिशु को स्तनपान कराएं

कहा जाता है की अच्छा आहार कोई भी गम को भुला सकता है। और यही बात शिशु पे भी लागु होती है। बच्चे को स्तनपान करने से उसकी तकलीफ कुछ समय के लिए समाप्त हो जाती है। कुछ शिशु विशेषज्ञों की राय है की माँ के दूध में ऐसे hormones होते हैं जो बच्चे के तकलीफ को कम कर देते हैं। माँ के दूध से शिशु को नींद भी अच्छी आती है। 

दर्द को कम करने वाली cream to relieve vaccination pain

४. दर्द को कम करने वाली cream 

बाजार में शिशु को टीकाकरण से हुए दर्द को कम करने के लिए बहुत से cream उपलब्ध है। अब तो बाजार में स्प्रे (spray) भी उपलब्ध है। स्प्रे के इस्तेमाल से टीकाकरण वाली स्थान नम्ब हो जाती है और कुछ ही सेकंड के अंदर बच्चे को आराम और ठण्ड मिलती है। इस प्रकार के cream के इस्तेमाल और उपलब्धता बारे में कृपया अपने शिशु के डॉक्टर से बात करें। 

बच्चे को चीनी दें give sugar to child to minimise vaccination pain

५. बच्चे को चीनी दें

इस बात को देखा गया है की चीनी बच्चे को टीकाकरण से हुए दर्द को कम करने की छमता रखता है। बच्चे को टीकाकरण से पहले थोड़ी सी चीनी खाने को दे दें। या फिर चीनी का syrup बना के - एक ड्रॉपर में भर के भी टीकाकरण से पहले बच्चे के मुँह में दे सकती हैं। इससे बच्चा टीकाकरण की प्रक्रिया पे ज्यादा ध्यान नहीं देगा और उसे दर्द भी कम होगा। 

प्रायः यह देखा गया है की माताएं बहुत सेहमी हुई और दरी से रहती हैं जब वे अपने बच्चे को टीकाकरण के लिए ले के जाती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योँकि माताएं टीकाकरण की प्रक्रिया पे ध्यान देती हैं। आप को टीकाकरण की प्रक्रिया पे नहीं बल्कि इस बात पे ध्यान देना है की आप किस तरह अपने बच्चे के तकलीफ को कम कर सकें। 

टीकाकरण के बाद बच्चे को बुखार भी हो सकता है। यह बेहद आम बात है। इसका मालाब की टिका काम कर रहा है। यह बुखार अपने आप ही दो दिनों के अंदर ख़त्म हो जायेगा। आप बस बच्चे को वो सारी दवाएं देती रहें जो आप के डॉक्टर ने देने को कहा हो। इसके साथ आप इस बात पे ध्यान दे की आप अपने नन्हे शिशु की तकलीफ को किस तरह कम कर सकती हैं। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

teachers-day
बच्चों-के-हिचकी
शिशु-में-हिचकी
शिशु-हिचकी
दूध-के-बाद-हिचकी
नवजात-में-हिचकी
SIDS
कोलोस्‍ट्रम
Ambroxol-Hydrochloride
ठण्ड-शिशु
शिशु-potty
सरसों-के-तेल-के-फायदे
मखाना
Neonatal-Care
भीगे-चने
शिशु-क्योँ-रोता
शिशु-मालिश
-शिशु-में-एलर्जी-अस्थमा
अंडे-की-एलर्जी
शिशु-एलर्जी
नारियल-से-एलर्जी
रंगहीनता-(Albinism)
fried-rice
पेट-दर्द
दाल-का-पानी
गर्भावस्था
बच्चे-बैठना
शिशु-को-आइस-क्रीम
शिशु-गुस्सा
चिकनगुनिया

Most Read

दही-चावल
सूजी-उपमा
वेजिटेबल-पुलाव
इडली-दाल
संगति-का-प्रभाव
अंगूर-को-आसानी-से-किस-तरह-छिलें-
अंगूर-के-फायेदे
हानिकारक-आहार
अंगूर-शिशु-आहार
india-Indian-Independence-Day-15-August
पारिवारिक-माहौल
बच्चे-बुद्धिमान
baby-sleep
हड्डियाँ-ज्यादा-मजबूत
नवजात-बच्चे-का-दिमागी-विकास
बच्चों-की-मजेदार-एक्टिविटीज-
बच्चा-बात
स्मार्ट-फ़ोन
बच्चों-के-उग्र-स्वाभाव
शिशु-आहार
गर्भ-में-सीखना
Vitamin-C-benefits
homemade-baby-food
बच्चों-के-पेट-के-कीड़े
पेट-में-कीड़े
शिशु-में-कैल्शियम-की-कमी
abandoned-newborn
बच्चों-के-साथ-यात्रा
बच्चे-ट्यूशन
पढ़ाई-का-माहौल
best-school-2018
बच्चे-के-पीठ-दर्द
board-exam
India-expensive-school
ब्लू-व्हेल
शिशु-के-लिए-नींद
film-star-school
डिस्टे्रक्टर
winter-season
बच्चे-के-कपडे
बच्चे-को-साथ-सुलाने-के-फायेदे
बच्चे-को-सुलाएं
सिर-का-आकार
दूध-पीते-ही-उलटी
बच्चे-में-हिचकी
बच्चे-का-वजन
Weight-&-Height-Calculator
शिशु-का-वजन
Indian-Baby-Sleep-Chart
teachers-day

Other Articles

indexed_240.txt
Footer