Category: बच्चों की परवरिश

5 TIPS - कैसे बनाये घर पे पढ़ाई का माहौल

By: Salan Khalkho | 5 min read

अगर आप का बच्चा पढाई में मन नहीं लगाता है, होमवर्क करने से कतराता है और हर वक्त खेलना चाहता है तो इन 12 आसान तरीकों से आप अपने बच्चे को पढाई के लिए अनुशाषित कर सकते हैं।

घर पे पढ़ाई का माहौल study environment at home

पिछले कुछ दशकों में केवल स्कूलों में ही नहीं वरन घरों में भी पढ़ाई का माहौल बदला है। आज के दौर में अभिभावक पढ़ाई को प्राथमिकता देते हैं।  

बचपन से ही बच्चों में अगर पढ़ाई की नीव न रखी गयी तो बच्चे बड़े कक्षाओं में जाने के बाद पढ़ाई की अहमियत को नहीं समझेंगे। 

पढ़ाई में competition कितना बढ़ गया है, ये तो आप जानते ही होंगे। हमारा और आप का जमाना अलग था। हमारे समय में भी competition थी मगर इतनी नहीं। 

आज समय बदल गया है। आज तो जमाना यह है की हर बच्चे को कोई भी नौकरी के लिए उच्च शिक्षा जैसे की इंजीनियरिंग या MBA करना आवश्यक हो गया है। 

जिंदगी में आगे बढ़ने के लिए अब साधारण ग्रेजुएशन से काम नहीं चलेगा। 

बचपन से अगर आप घर में बच्चे को पढ़ाई का माहौल देंगे तो वो पढ़ाई की एहमियत को समझेगा। घर का माहौल अगर पढ़ाई वाला होगा तो बच्चे को पढ़ाई में एकाग्र होने का मौका मिलेगा। 

अगर आप ने अपने बच्चे के लिए tuition का इन्तेजाम किया है तो भी रखें इन बातों का ख्याल। 

आज के दौर में जिंदगी बहुत व्यस्त हो गयी है। अगर पिता अपने काम में देर तक ऑफिस में उलझे रहते हैं और माँ भी अगर अपने काम में व्यस्त है तो बच्चे को पढ़ाई के लिए कौन प्रोत्साहित करेगा? 

घर पे बच्चों के लिए पढ़ाई का माहौल बनाने के लिए टिप्स:

इस लेख में:

1. बच्चों का मार्गदर्शन करने के लिए समय निकालें

अक्सर देखा गया है की जो लोग अपने जिंदगी में सफलता के शिखर पे पहुँचते हैं, उनके बच्चे औरों के मुकाबले कही पीछे रह जाते हैं। 

ऐसा इसलिए क्योँकि इन लोगों ने सफलता की चाह में अपने परिवार को को समय नहीं दिया। जब बच्चों को सही मार्गदर्शन की आवश्यकता थी तो ये लोग अपने काम में व्यस्त थे। 

2. बच्चों की पढाई को प्राथमिकता दें 

अगर आप के परिवार में आप दोनों पति-पत्नी अपने काम में व्यस्त हैं तो आप दोनों को बात करनी होगी और यह कुछ इस तरह का सामंजस्य स्थापित करना होगा ताकि बच्चे को आप दोनों का साथ मिल सके। 

आज के दौर में घरों में पढ़ाई का माहौल बना कर रख पाना माँ और बाप दोनों के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है। 

यह चुनौती सिर्फ माँ बाप की बदलती प्राथमिकताओं के कारण ही पैदा नहीं हुई है, बल्कि इस लिए भी पैदा हुई है क्योँकि शिक्षा का आयाम भी बहुत हद तक बदल गया है। 

3. पढाई के लिए निश्चित स्थान निर्धारित करें 

आज के दौर में महंगाई ने सबकी कमर तोड़ दी है। इसने सिर्फ घर के बड़ों को ही नहीं वरन, बच्चों के पढ़ाई को भी प्रभावित किया है। 

बड़े शहरों में लोग छोटे से flat में सिमट के रहने को मजबूर हो गए हैं। ऐसे में एक ही कमरे में बच्चे अपना पढ़ाई भी करते हैं और बड़े बैठ के टीवी भी देखते हैं। 

अगर घर में कई कमरे हैं तो बच्चों के पढ़ाई के लिए अलग सा कमरा निर्धारित करें। मगर उतने कमरे न हो तो आप पढ़ाई का समय निर्धारित कर सकते हैं। 

पढ़ाई का समय वो हो जब घर पे कम से कम लोग हों ताकि बच्चों को पढ़ाई के लिए एकांत का समय मिल सके।

dedicate a study place for children

4. मेहमानों को बच्चों के पढाई के समय आने का आमंत्रण न दें 

बच्चों के पढ़ाई में सबसे जयदा विध्न उस समय पड़ता है जब घर पे कोई मेहमान आ जाये। बच्चों के पढ़ाई के वक्त किसी भी मेहमान को घर आने का न्योता ना दें। 

अगर कोई मेहमान आ भी जाये तो उनके जाने के बाद बच्चे के अधूरे छूटे पढ़ाई को पूरा करने में बच्चे की मदद करें। 

5. बाहर के कम के कारण बच्चों के पढाई में व्यवधान न पड़े 

अगर आप को किसी काम से घर से बहार जाना हो तो कोशिश करें की बच्चों के स्कूल से वापस घर आने से पहले ही आप घर वापस आ जायें। या तो फिर बच्चों के पढ़ाई ख़त्म कर लेने के बढ़ बहार का काम निपटाएं। 

6. बच्चों के पड़ी के वक्त आप भी कोई पत्रिका पढें

बच्चों के पढ़ाई के वक्त आप भी कोई किताब पढ़ें। इसका बच्चे पे मनोवैज्ञानिक असर पड़ता है और आप का बच्चा और भी ज्यादा मन लगा के पढने लगता है। 

अगर आप गहरा का काम करते करते थक जाती हैं, तो आप थोड़ा सा आराम करने के लिए इस समय का उपयोग कर सकती। इस समय आप आरामदायक कुरी पे बैठ के कोई मनपसंद पुस्तक या अख़बार पढ़ सकती हैं। 

7. पढाई के वक्त बच्चों को disturb ना करें 

अगर आप किटी पार्टी की शौक़ीन हैं तो आप को बच्चे के पढ़ाई के लिए अपने शौक से समझौता करने की जरुरत नहीं है। अपने घर पे किटी पार्टी का आयोजन ऐसे समय पे करें जब बच्चे स्कूल पे हों। 

लेकिन अगर ऐसा संभव नहीं है तो जिस कमरे में आपका बच्चा पढ़ रहा हो उस कमरे में किसी को भी जाने न दें। हाँ लेकिन बच्चे जिस कमरे मैं पढ़ रहे हों, आप दो-से-तीन बार उस कमरे में अवश्य जाएँ। 

बच्चों को पता होना चाहिए की आप का ध्यान उन पे लगा हुआ है।

8. पढाई से पहले बच्चों को गरिष्ट आहार ना दें 

बच्चों के पढ़ाई के समय से पहले बच्चों को कोई भी ऐसी चीज़ न खिलाएं जिससे उन्हें सुस्ती आये। बच्चों के टेबल पे पानी की एक बोतल अवश्य रख दें। ताकि उसे पानी लेने के लिए किचिन तक ना आना पड़े। 

9. बच्चों को हर थोड़ी देर में break दें 

बच्चों के पढ़ाई के दौरान हर 45 minute पे उन्हें थोड़ा रेस्ट करने को दें। Break के दौरान बच्चों से केवल पढ़ाई से सम्बंधित बातें ही करें। इससे उनका फोकस नहीं बिगड़ेगा। 

10. बच्चों को पढाई से सम्बंधित जगहों पे घुमाने ले जाएँ 

अगर आप बच्चों को कहीं बहार घुमाने ले जाने के लिए plan कर रहे हैं तो ऐसे centers पे ले के जाएँ जो विशेष रूप से बच्चों के education पे design किये गए हों। ऐसी जगहों पे बच्चों को अपना एप्टीट्यूड टैस्ट करने का मौका मिलता है।  

11. बच्चों के पढाई के समय से समझौता न करें 

कुछ लोग आप को यह सुझाव दे सकते हैं की बच्चो जबरदस्ती पढने के लिए न बैठाएं। जब उनका खेलने का मन है तो उन्हें खेलने दें और जब पढ़ाई का मन हो तो पढने बैठाएं। 

खेल के वक्त बच्चे को पढने बैठाएंगे तो वो  एकाग्र हो कर पढ़ाई नहीं कर पायेगा। यह बात सही है। मगर यह भी सही है की अधिकांश बच्चों का मन पढ़ाई में कभी नहीं लगता है। 

बच्चों का मन पढ़ाई में लगे उसके लिए माँ-बाप को मशकत करनी पड़ती है। भले ही बच्चो का मन पढ़ाई में न लगे, उन्हें पढ़ाई के लिए जो समय निर्धारित किया गया है, उस समय उन्हें केवल पढ़ाई करने दें और कुछ भी नहीं। 

हो सकता है की बच्चे का मन पढ़ाई में न लगे, ये भी हो सकता है की बच्चा कुछ भी हासिल न करे। मगर कुछ दिनों बाद बच्चा पढ़ाई-के-लिए-निर्धारित-समय में ढल जायेगा। 

फिर बच्चो को पढ़ाने के लिए आपको उसके मन पे निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। जब पढ़ाई का समय होगा तो बच्चा अपने आप उस समय पे पढने बैठ जायेगा। 

encourage children for outdoor games

12. बच्चों को outdoor games खेलने के लिए प्रोत्साहित करें 

जो आप के बच्चे के खेलने का समय है उसमे उन्हें आउटडोर गेम्स अपने दोस्तों के साथ खेलने दें। इस डर में न जियें की आप के बच्चों को दूसरे बच्चे गन्दी हरकत सीखा देंगे। 

जो बच्चे दूसरे बच्चों के साथ नहीं खेलते, उनके आईक्यू लैवल का स्तर बहुत कम हो जाता है। 

outdoor games improve children IQ

बच्चों को बहार खेलने जरूर भेजें। चाहें तो आप भी उनके साथ बहार जाएँ। इससे ना केवल आप के बच्चे का आईक्यू लैवल बढ़ेगा, बल्कि यह उसके शाररिक विकास के लिए भी जरुरी है। 

जो बच्चे शारीरिक रूप से थका देने वाले खेल खेलते हैं, उनका बौद्धिक विकास बाकि बच्चों की उपेक्षा बेहतर होता है। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_200.txt
Footer