Category: शिशु रोग

पराबेन (paraben) क्योँ है शिशु के लिए हानिकारक

By: Salan Khalkho | 3 min read

बाजार में उपलब्ध अधिकांश बेबी प्रोडक्ट्स जैसे की बेबी क्रीम, बेबी लोशन, बेबी आयल में आप ने पराबेन (paraben) के इस्तेमाल को देखा होगा। पराबेन (paraben) एक xenoestrogens है। यानी की यह हमारे शारीर के हॉर्मोन production के साथ सीधा-सीधा छेड़-छाड़ करता है। क्या कभी आप ने सोचा की यह आप के शिशु शारीरिक और मानसिक विकास के लिए सुरक्षित है भी या नहीं?

why is paraben dangerous for kids health पराबेन (paraben) क्योँ है शिशु के लिए हानिकारक

मीडिया में - अख़बारों में आज कल पराबेन (paraben) का बेबी प्रोडक्ट्स में इस्तेमाल काफी सुर्खियों में है। 

क्या आप ने कभी सोचा की पराबेन (paraben) है क्या?

बेबी प्रोडक्ट्स में इसका इस्तेमाल क्योँ किया जाता है?

क्या यह आप के शिशु के लिए सुरक्षित है भी या नहीं?

इस लेख में आप पढेंगे:

  1. पराबेन (paraben) से सम्बंधित जानकारी
  2. क्या है पराबेन (paraben)?
  3. कितना सुरक्षित है पराबेन (paraben) का इस्तेमाल?
  4. क्या पराबेन (paraben) का इस्तेमाल वाकई सुरक्षित है?
  5. पराबेन (paraben) बच्चों के लिए क्योँ हानिकारक है?

पराबेन (paraben) से सम्बंधित जानकारी

पराबेन (paraben) का इस्तेमाल बहुत बड़े पैमाने पे बेबी प्रोडक्ट्स में किया जाता है। इसे इसलिए नहीं इस्तेमाल किया जाता है की शिशु के लिए इसके कोई फायदे हैं। 

पराबेन (paraben) में ऐसा कोई भी गुण नहीं है जो आप के बच्चे को फायदा पहुंचाए। पराबेन (paraben) का इस्तेमाल बच्चों से सम्बंधित उत्पाद में इस लिए किया जाता है क्योँकि यह बेबी प्रोडक्ट्स में जीवाणु के विकास (growth of bacteria) को रूकता  है। 

इससे बेबी प्रोडक्ट्स को बहुत दिनों तक बिना ख़राब हुए रखा जा सकता है। 

क्या है पराबेन (paraben)?

पराबेन (paraben) एक umbrella term है। वैज्ञानिक  भाषा में ये para-hydroxybenzoic acid का chemical compound है जिसे preservatives के लिए इस्तेमाल किया जाता है। 

कितना सुरक्षित है पराबेन (paraben) का इस्तेमाल?

अमेरिका के New York City स्थित त्वचा रोग विशेषज्ञ (dermatologist) Fran E. Cook-Bolden के अनुसार इतिहासिक रूप से बहुत सालों से पराबेन (paraben) का इस्तेमाल सौंदर्य प्रसाधनों में बहुत ही सुरक्षित रूप से किया जा रहा है। इसलिए इसका इस्तेमाल बेबी प्रोडक्ट्स में सुरक्षित माना जा सकता है। 

क्या पराबेन (paraben) का इस्तेमाल वाकई सुरक्षित है? 

अब तक दुनिया में पराबेन (paraben) के इस्तेमाल में अनगिनत शोध हो चुके हैं। शोध से निकले निष्कर्ष चौकाने वाले हैं। 

समय समय पे हुए शोध में यह पाया गया है की पराबेन (paraben) एक xenoestrogens है। उन सभी तत्वों को "xenoestrogens" कहा जाता है जो इंसान के शरीर में मौजूद hormone - oestrogen की नक़ल करते हैं। हमारा शरीर जरुरत के अनुसार विभिन्न प्रकार के हॉर्मोन को बनता है ताकि शरीर स्वस्थ रह सके। अगर शरीर में ऐसे हॉर्मोन बन जाये जिसकी आवश्यकता नहीं है तो व्यक्ति बीमार पड़ जाएगा। या फिर हॉर्मोन बनाने में असमर्थ हो जाये जिसकी आवशकता है तो भी बीमार हो जायेगा। 

xenoestrogens चूँकि hormone - oestrogen की नक़ल करता है - शरीर के organs उस तरह से काम करना शुरू कर देते हैं जिस तरह से उन्हें काम नहीं करना चाहिए। इसके शरीर पे गंभीर परिणाम होते हैं। 

क्या आप जानना चाहती हैं की पराबेन (paraben) पे हुए शोध में क्या पाया गया?

सुन कर शायद डर जाएँगी आप?

जी हाँ!

पराबेन (paraben) पे हुए शोध में पाया गया की यह महिलाओं में स्तन कैंसर (breast cancer) को बढ़ावा देता है। यह reproductive organs को भी बीमार कर देता है - या काम करना बंद कर देता है। बच्चों में समय से पहले puberty आ जाती है और लड़कों में sperm count को कम कर देता है। 

पराबेन (paraben) पे शोध में यह निश्चित हो चूका है की यह breast tumors को बनने में उकसाता है। 

पराबेन (paraben) बच्चों के लिए क्योँ हानिकारक है?

ऊपर जितने भी हानिकारक गुण बताये गए हैं वे सभी बड़ों के लिए हैं। ऐसा इस लिए क्योँकि पराबेन (paraben) पे अब तक अनगिनत शोध हो चुके हैं मगर, कोई भी शोध छोटे बच्चों पे आधारित नहीं है। 

लेकिन एक बात तो तय है की अगर पराबेन (paraben) बड़े लोगो के शरीर में हॉर्मोन के production में her-फेर करता है तो छोटे बच्चों के हॉर्मोन को भी छेड़ने की छमता रखता है। 

बच्चों का विकास नियंत्रित होता है उनके शरीर में बनने वाले हॉर्मोन के दुवारा। अगर बच्चों के हॉर्मोन को ही छेड दिया जाये तो आप समझ सकते हैं की बच्चे की विकास पे क्या प्रभाव पड़ेगा। 

  1. बच्चों का शारीरिक विकास रूक जायेगा
  2. उनकी लम्बाई घट जाएगी
  3. दिमागी विकास रूक जाएगी
  4. हो सकता है की उन्हें हॉर्मोन के बिगड़े हुए हालत के कारण कोई गंभीर बीमारी का सामना भी करना पड़ जाये। 
Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_320.txt
Footer