Category: बच्चों का पोषण

12 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)

By: Salan Khalkho | 9 min read

12 महीने या 1 साल के बच्चे को अब आप गाए का दूध देना प्रारम्भ कर सकते हैं और साथ ही उसके ठोस आहार में बहुत से व्यंजन और जोड़ सकते हैं। बढ़ते बच्चों के माँ-बाप को अक्सर यह चिंता रहती है की उनके बच्चे को सम्पूर्ण पोषक तत्त्व मिल पा रहा है की नहीं? इसीलिए 12 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe) बच्चों के आहार सारणी की जानकारी दी जा रही है। संतुलित आहार चार्ट

12 माह के बच्चे का 1 year baby food chart (Indian 12 months Baby Food Recipe) शिशु आहार

जब बच्चा 12 महीने का होता है तो वो बहुत प्रकार के आहारों को ग्रहण करने के लिए शारीरिक तौर पे तैयार हो चुका होता है। 

यूँ कहें तो - आप का बच्चा हर वो आहार ग्रहण करने में अब सक्षम है जो आप खुद खाती हैं। बशर्ते खाना अच्छी  तरह पका हुआ हो और उसको बनाने में बहुत ज्यादा मसाला, नमक या चीनी का इस्तेमाल नहीं हुआ हो। 

12 महीने के बच्चे का आहार तालिका (12 month Baby Food चार्ट - Feeding Schedule) 

Indian Meal Plan for 1 Year old baby 

12 month baby food chart

आहार तालिका को बड़ा करने के लिए click करें - संतुलित आहार चार्ट

Download - 12 माह के बच्चे का शिशु आहार - 1 Year baby food chart (Indian Baby Food Chart/Recipe) in Hindi [PDF]

मै इस बात पे जोर देना चाहूंगा की ऊपर दिया गया चार्ट केवल guideline के लिए है। चूँकि हर बच्चा अलग है, इसीलिए चिन्ता करने की कोई जरुरत नहीं अगर आप का बच्चा कुछ आहारों को ग्रहण करना नहीं चाहता। 

ऊपर दिया गए चार्ट में आहार की मात्रा केवल उदहारण के लिए है। हर बच्चे की शारीरिक बनावट भिन-भिन होती है। इसीलिए किसी बच्चे के लिए आहार की मात्रा ज्यादा तो किसी बच्चे के लिए कम रहेगी। आप अपने बच्चे के बारे मैं ज्यादा जानती हैं। आप का बच्चा आहार की जितनी मात्रा बिना किसी दिकत के ग्रहण कर सके उसे उतना ही दें। अपने बच्चे की तुलना दूसरे बच्चों से ना करें। तथा दूसरे बच्चों के आहार की मात्रा को देख कर अपने बच्चे के आहार की मात्रा का निर्धारण ना करें। अगर आप के बच्चे का वजन कम है तो आप उसे बच्चों का वजन बढ़ाने वाले आहार दे सकती हैं। जैसे की कई प्रकार के दलों को मिला के आहार तैयार कर के बच्चे को खिला सकती हैं। दाल में भरपूर protein होता है और protein मासपेशियां बनाने में महत्वपूर्ण योगदान देता है। 

 

काम वजन बच्चों को वजन बढ़ाने के लिए कई प्रकार के दाल दें

जब आपका बच्चा एक साल का हो जाये तब आप को बच्चे के हिसाब से उसे आहार देना चाहिए। उदहारण के तौर पे अगर आप का बच्चा ठोस आहार ग्रहण नहीं करना चाहता तो उसके आहार को mash कर के उसे खाने को दें। मगर कोशिश करें की बच्चे को अब आहार puree के रूप में ना दें। 

यह भी पढ़ें:

आपको यह भी ध्यान रखना पड़ेगा की आप के परिवार में food allergy का कोई इतिहास तो नहीं। अगर है तो अपने बच्चों को आहार देते वक्त उन आहारों के प्रति सतर्कता बरतें जिनसे आपके परिवार में food allergy का इतिहास है। ऐसे आहारों को पहली बार जब अपने बच्चों को दें तो सुबह या दोपहर पे वक्त दें। शाम को या रात में ना दें। 

महत्वपूर्ण जानकारी - 12 months old babies से सम्बंधित 

  1. 12 महीने के बच्चे को स्तनपान करना जारी रखें या उसे formula milk देते रहें। अभी भी आपके बच्चे का मुख्या आहार दूध ही रहेगा। 
  2. अब समय आ गया है की आने वाले कुछ महीनो में आप चाहें तो अपने बच्चे का दूध पूरी तरह छुड़ा दें। एक ही झटके में बच्चे का दूध पूरी तरह बंद ना करें। बारी-बारी से एक-एक समय का दूध छुड़ाएं। 
  3. अगर आप बोतल से अपने बच्चे को दूध पिलाती हैं तो बोतल से दूध पिलाना बंद कर सकती हैं इसके बदले बच्चे को ग्लास से दूध पीना सिखाएं। 
  4. अगर आप अपने 12 months old baby को अभी भी आहार का puree बनके देती हैं तो अब बंद कर दीजिये वार्ना आगे चलके दिकत हो सकती है। एक साल का बच्चा इतना सक्षम होता है की वो आसानी से आहार को चबा के खा सके। 
  5. अलग अलग प्रकार के आहारों को अपने बच्चे को खाने को दें। अगर आप का 1 year old baby कभी आहार को पूरी तरह ख़त्म नहीं करता है तो चिंता ना करें और जबरदस्ती खिलने की कोशिश भी ना करें। 
  6. अगर आपने अभी तक अपने बच्चे को finger foods नहीं दिया है तो अब वक्त आ आ गया है की आप उसे finger food देना प्रारम्भ करें। 
  7. क्या आपने अपने बच्चे का potty training शुरू कर दिया है? अगर हाँ तो आप potty training करने के सही तरीकों से सम्बंधित इस लेख को पढ़ सकती हैं। अगर आप का बच्चा इसके लिए अभी तक तैयार नहीं हुआ है तो चिंता की कोई बात नहीं। कुछ बच्चे potty training के लिए जल्दी त्यार हो जाते हैं तो कुछ बच्चे देर मैं। यह बिलकुल normal है। 
Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_120.txt
Footer