Category: टीकाकरण (vaccination)

शिशु को 10 सप्ताह (ढाई माह) की उम्र में लगाये जाने वाले टीके

By: Salan Khalkho | 3 min read

शिशु को 10 सप्ताह (ढाई माह) की उम्र में कौन कौन से टिके लगाए जाने चाहिए - इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी यहां प्राप्त करें। ये टिके आप के शिशु को कई प्रकार के खतरनाक बिमारिओं से बचाएंगे। सरकारी स्वस्थ शिशु केंद्रों पे ये टिके सरकार दुवारा मुफ्त में लगाये जाते हैं - ताकि हर नागरिक का बच्चा स्वस्थ रह सके।

शिशु को 10 सप्ताह (ढाई माह) की उम्र में लगाये जाने वाले टीके

समय कितनी तेज़ी से निकल जाता है।

है ना! 

ऐसा लगता है की आप के लाडले का जन्म अभी कल ही हुआ हो - और देखते-ही-देखते कब दस सप्ताह गुजर गए पता ही नहीं चला। 

आप का शिशु चूँकि अब दस सप्ताह का हो गया है - यानि की की ढाई माह - टी इसका मतलब है की अब समय आ गया है की उसे कुछ और टिके लगाए जाएँ

जब शिशु को टिका लगता है तो माँ और बच्चे दोनों को बहुत तकलीफ होती है। मगर यह जरुरी है की बच्चे को सारे टिके समय पे लगाए जाएँ - ताकि वो कई प्रकार की जानलेवा बीमारियोँ के संपर्क में आने से बचा रहे सके। 

हम और आप ऐसे युग में रह रहे हैं जहाँ पे चिकित्सा विज्ञानं बहुत तरक्की (medically advanced) कर चूका है। 

मगर अफ़सोस इस बात का है की अभी भी इस संसार में बहुत से बच्चे कई प्रकार के गंभीर बीमारियोँ के प्रति असुरक्षित नहीं हैं। 

ऐसा नहीं है की माँ बाप अपने बच्चे को कुछ चिन्हित बीमारियोँ के प्रति टीकाकरण करवाने में असमर्थ हैं - हकीकत यह है की इन बीमारियोँ के प्रति माँ बाप अपने बच्चे को सरकारी शिशु स्वस्थ केंद्रों में मुफ्त में टिका दिलवा सकते हैं - मगर वे नहीं दिलवाते हैं। 

अब इसे उनकी लापरवाही कहें या कुछ और - पता नहीं। मगर ऐसी लापरवाही भी किस बात की - की जिसकी कीमत बच्चे को जिंदगी भर चुकानी पड़े। 

शिशु के दस सप्ताह पुरे करने पे उसे DTP का दूसरा डोज लगाया जाता है। इसके साथ बच्चे को पोलियो के टिके की - दूसरी खुराक (IPV2) भी दी जाती है। शिशु को हेमोफिलस इन्फ्लुएंजा बी (HIB) की भी दूसरी खुराक इस समय पे दी जाती है। 

शिशु को दस सप्ताह पे दिए जाने वाले टिके का पुर विवरण इस प्रकार है। 

D.P.T. – दूसरी खुराक

यह समय है की आप अपने शिशु को D.P.T. का दूसरा टिका लगवाएं। यह टिका आप के शिशु को बहुत गंभीर बीमारी से बचता है। हर साल करीब एक साल से कम उम्र के तीन लाख बच्चे विकासशील देशों में डिफ्थीरिया, कालीखांसी और टिटनस (Tetanus) के संक्रमण के कारण मृत्यु के शिकार होते हैं। ये मुख्यता वो बच्चे हैं जिन्हे  D.P.T. का टीका वैक्सीन (D.P.T. Vaccine) या तो नहीं लगाया गया या फिर समय पे नहीं लगाया गया। आप अपने शिशु को समय पे डपट का टिका अवश्य लगवाएं। D.P.T. के टिके की दूसरी खुराक के बारे मैं आप पूरी जानकारी यहां प्राप्त कर सकते हैं। 

पोलियो का टिका- दूसरी खुराक (IPV2)

अगर आप ने कभी किसी पोलियो ग्रस्त व्यक्ति को देखा है तो आप जान ही सकते हैं की ये कितनी गंभीर बीमारी है। एक समय था जब भारत में पोलियो होना एक आम बात था। मगर भारत सरकार तीस साल (30 years) के अथक परिश्रम के दुवारा भारत आज पोलियो मुक्त राष्ट्र है। मगर - अगर माँ-बाप अपने बच्चे को पोलियो का टिका लगवाना बंद कर दें तो पोलियो फिर से भारत में होनर लगेगा - और यह होगा उन बच्चों के जरिये जिन्हे पोलियो का पूरा ठीके नहीं लगाया गया है। दस सप्ताह के बच्चे को पोलियो के टिके (IPV2) की दूसरी खुराख दी जाती है। पोलियो वैक्सीन - IPV1, IPV2, IPV3 वैक्सीन (Polio वैक्सीन) के बारे में पूरी जानकारी यहां प्राप्त करें। 

न्यूमोकोकल कन्जुगेटेड वैक्सीन- दूसरी खुराक

न्यूमोकोकल (pneumococcal) का संक्रमण एक contagious बीमारी - जिसका मतलब होता है की इस बीमारी को फ़ैलाने के लिए किसी मछर या मक्खी की जरुरत नहीं पड़ती है - बल्कि इसका संक्रमण एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति को हवा के द्वारा ही फ़ैल जाता है। न्यूमोकोकल (pneumococcal) काफी गंभीर संक्रमण है और इसके संक्रमण से व्यक्ति को निमोनिया (Pneumonia), रक्त संक्रमण या दिमागी बुखार तक होने का खतरा रहता है। शिशु के दस सप्ताह होने पे उसे न्यूमोकोकल कन्जुगेटेड वैक्सीन की दूसरी खुराक दी जाती है। 

हेमोफिलस इन्फ्लुएंजा बी (HIB) – दूसरी खुराक

हेमोफिलस इन्फ्लुएंजा बी (HIB) वैक्सीन - शिशु को बहुत ही खतरनाक विषाणु (bacteria) के संक्रमण से बचाता है। इस खतरनाक  विषाणु (bacteria) का नाम है - Haemophilus influenzae type b - और इस के संक्रमण से दमागी बुखार, मस्तिष्क को छती, फेफड़ों का इन्फेक्शन (lung infection) , मेरुदण्ड का रोग और गले का गंभीर संक्रमण भी शामिल है। दस सप्तह पुरे होने पे शिशु को हेमोफिलस इन्फ्लुएंजा बी के टिके की (HIB) दूसरी खुराक मिलती चाहिए। 

रोटावायरस- दूसरी खुराक

शिशु को गंभीर दस्त लगने का सबसे आम कारण है रोटावायरस का संक्रमण। छह महीने के बच्चे से लेकर दो साल तक के बच्चे को रोटावायरस के संक्रमण का खतरा बना रहता है। रोटावायरस वैक्सीन (RV) (Rotavirus Vaccine) के आभाव में शिशु को रोटावायरस के संक्रमण से बचा पाना लगभग असंभव है। इससे पहले की शिशु पांच साल (5 years) का हो, हर शिशु को कम से कम एक बार तो रोटावायरस के संक्रमण के कारण दस्त होता ही है। रोटावायरस वैक्सीन (RV) (Rotavirus Vaccine) के टिके के बारे में और अधिक जानकारी आप यहां प्राप्त कर सकते हैं। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

भीगे-चने
Neonatal-Care
शिशु-मालिश
-शिशु-में-एलर्जी-अस्थमा
शिशु-क्योँ-रोता
अंडे-की-एलर्जी
शिशु-एलर्जी
नारियल-से-एलर्जी
रंगहीनता-(Albinism)
fried-rice
पेट-दर्द
दाल-का-पानी
गर्भावस्था
बच्चे-बैठना
शिशु-को-आइस-क्रीम
चिकनगुनिया
शिशु-गुस्सा
टीकाकरण-2018
दाई-babysitter
शिशु-एक्जिमा-(eczema)
बच्चों-को-डेंगू
ब्‍लू-व्‍हेल-गेम
शिशु-कान
vaccination-2018
D.P.T.
टाइफाइड-कन्जुगेटेड-वैक्सीन
OPV
कॉलरा
वेरिसेला-वैक्सीन
जन्म-के-समय-टीके

Most Read

हड्डियाँ-ज्यादा-मजबूत
नवजात-बच्चे-का-दिमागी-विकास
बच्चों-की-मजेदार-एक्टिविटीज-
बच्चा-बात
स्मार्ट-फ़ोन
बच्चों-के-उग्र-स्वाभाव
शिशु-आहार
गर्भ-में-सीखना
Vitamin-C-benefits
homemade-baby-food
बच्चों-के-पेट-के-कीड़े
पेट-में-कीड़े
शिशु-में-कैल्शियम-की-कमी
abandoned-newborn
बच्चों-के-साथ-यात्रा
बच्चे-ट्यूशन
पढ़ाई-का-माहौल
best-school-2018
बच्चे-के-पीठ-दर्द
board-exam
India-expensive-school
ब्लू-व्हेल
शिशु-के-लिए-नींद
film-star-school
डिस्टे्रक्टर
winter-season
बच्चे-के-कपडे
बच्चे-को-साथ-सुलाने-के-फायेदे
बच्चे-को-सुलाएं
सिर-का-आकार
दूध-पीते-ही-उलटी
बच्चे-में-हिचकी
बच्चे-का-वजन
Weight-&-Height-Calculator
शिशु-का-वजन
Indian-Baby-Sleep-Chart
teachers-day
शिशु-मैं-हिचकी
शिशु-में-हिचकी
बच्चों-के-हिचकी
शिशु-हिचकी
दूध-के-बाद-हिचकी
नवजात-में-हिचकी
SIDS
कोलोस्‍ट्रम
Ambroxol-Hydrochloride
शिशु-potty
ठण्ड-शिशु
सरसों-के-तेल-के-फायदे
मखाना

Other Articles

indexed_280.txt
Footer