Category: स्वस्थ शरीर

मां का दूध अमृत है बच्चे के लिए

By: Salan Khalkho | 3 min read

मां का दूध बच्चे के लिए सुरक्षित, पौष्टिक और सुपाच्य होता है| माँ का दूध बच्चे में सिर्फ पोषण का काम ही नहीं करता बल्कि बच्चे के शरीर को कई प्रकार के बीमारियोँ के प्रति प्रतिरोधक क्षमता भी प्रदान करता है| माँ के दूध में calcium होता है जो बच्चों के हड्डियोँ के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है|

माँ का दूध क्योँ जरुरी है बच्चे के लिए

माँ का दूध किसी बच्चे के लिए अमृत से कम नहीं। 

माँ का दूध शिशु के विकास, संरक्षण, और संवर्धन का काम करता है। 

नवजात बच्चे में रोगों से लड़ने की रोग-प्रतिरोधात्मक शक्ति नहीं होती है। इसका मतलब बच्चे का शरीर रोगों से लड़ने में सक्षम नहीं होता है। 

बच्चे को रोगों से लड़ने की शक्ति माँ के दूध से मिलती है। माँ का दूध बच्चे को विभिन्न प्रकार के बीमारियोँ से लड़ने में सक्षम बनता है। माँ के दूध में रोगाणुओं को नाश करने वाले तत्त्व होते हैं जो बच्चे को होने वाले बीमारियोँ से सुरक्षित रखते हैं। 

इस लेख में आप पढ़ेंगे: 

  1. माँ का दूध बच्चे के लिए जीवन रक्षक है
  2. माँ का दूध है सर्वश्रेष्ठ आहार
  3. लेक्टोफोर्मिन
  4. माँ का दूध बच्चे को बीमारी से बचाता है
  5. माँ का दूध बचाये बच्चे को हर बीमारियोँ से
  6. बच्चों की हड्डियां होती हैं मजबूत
  7. गाए का दूध नहीं है सुरक्षित
  8. स्तनपान करना माँ की सेहत के लिए भी अच्छा है
  9. Video: मां का दूध अमृत है बच्चे के लिए

माँ का दूध बच्चे के लिए जीवन रक्षक है

जिन बच्चों को बचपन में माँ का दूध नहीं मिलता उन बच्चों को कई प्रकार की बीमारियोँ का सामना करना पड़ता है। इन बच्चों को विशेष कर पेट और मस्तिष्क की बीमारियां ज्यादा सताती हैं। इसी लिए डॉक्टर हमेशा राय देते हैं की बच्चे को कम से कम 6 month से लेकर 10 month तक माँ का दूध ही देना चाहिए। माँ का दूध श्रेष्ठ आहार ही नहीं बल्कि जीवन रक्षक भी है। माँ के दूध का कोई विकल्प नहीं है। 

माँ का दूध है सर्वश्रेष्ठ आहार 

मां का दूध बच्चे के लिए सुरक्षित, पौष्टिक और सुपाच्य होता है। यह बच्चे को सिर्फ पोषक तत्त्व ही नहीं प्रदान करता है बल्कि बच्चे के पेट की गड़बड़ियों को भी दूर करता है। यह बच्चे में दमा और कान की बीमारी को नहीं होने देता। 

लेक्टोफोर्मिन

माँ के दूध में लेक्टोफोर्मिन नमक तत्त्व है। ये बच्चे के आंत में लोह तत्त्व को बांध देता है जिस वजह से बच्चे का शरीर कई प्रकार के रोगों से बचा रहता है। 

माँ का दूध बच्चे को बीमारी से बचाता है

माँ का दूध बच्चे में सिर्फ पोषण का काम ही नहीं करता बल्कि बच्चे के शरीर को कई प्रकार के बीमारियोँ के प्रति प्रतिरोधक क्षमता भी प्रदान करता है। माँ के शरीर की प्रतिरोधक छमता बच्चे को माँ के दूध के जरिये मिलता है। इसका मतलब नियमित स्तनपान करने से बच्चे के शरीर में माँ के शरीर जितना रातिरोधक छमता विकसित हो जाती है। 

माँ का दूध बचाये बच्चे को हर बीमारियोँ से

माँ का दूध कई भयंकर बीमारियॉओं का तोड़ है। शोध में यह बात सामने आयी है की माँ का दूध - रक्त कैंसर, मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी भयंकर बीमारियों से छुटकारा दिलाने में सक्षम होता है। 

there is no substitute for mothers milk

बच्चों की हड्डियां होती हैं मजबूत 

माँ के दूध में calcium होता है जो बच्चों के हड्डियोँ के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जिन बच्चों को शुरू से माँ का दूध नसीब होता है उन अब्छों की हड्डियां ज्यादा मजबूत होती है। 

गाए का दूध नहीं है सुरक्षित 

जिन बच्चों को शुरुआती दिनों से गाए का दूध दिया जाता है उन बच्चों में आगे चल कर एलेर्जी होने की सम्भावना रहती है। शिशु को हमेशा माँ का दूध ही पिलाना चाहिए। माँ का दूध बच्चे के लिए सुरक्षित रहता है और उसे मोटापे से भी बचाता है। 

स्तनपान करना माँ की सेहत के लिए भी अच्छा है

ऐसा पाया गया है की जो माँ अपने बच्चे को नियमित रूप से स्तनपान कराती है उनमें स्तन कैंसर की सम्भावना बहुत कम रहती है। उन महिलायों की मानसिक छमता भी बढ़ती है और वे स्तनपान न करने वाली माओं से ज्यादा स्वस्थ्य भी रहती हैं। 

Video: मां का दूध अमृत है बच्चे के लिए

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_120.txt
Footer