Category: बच्चों की परवरिश

Sex Education - बच्चों को किस उम्र में क्या पता होना चाहिए!

By: Salan Khalkho | 3 min read

सेक्स से सम्बंधित बातें आप को अपने बच्चों की उम्र का ध्यान रख कर करना पड़ेगा। इस तरह समझएं की आप का बच्चा अपने उम्र के हिसाब से समझ जाये। आप को सब कुछ समझने की जरुरत नहीं है। सिर्फ उतना बताएं जितना की उसकी उम्र में उसे जानना जरुरी है।

बच्चे की उम्र के अनुसार sex education

कुछ विषय ऐसे होते हैं जिनके बारे कोई भी माँ-बाप आपने बच्चों से बात करना नहीं चाहते हैं। सेक्स सम्बन्धी बातें  उन्ही कुछ चुनिंदा विषयोँ में से एक है। 

मगर यह जरुरी है,

की आप अपने बच्चों से इस सम्बन्ध में बात करें। अगर आप अपने बच्चो को यौन शोषण की घटनाओं से बचाना चाहते हैं तो बच्चों के साथ समय बिताना, उनके साथ बातें करने शुरू करें। 

जब बच्चे आप के साथ comfortable feel करना शुरू करेंगे तो वे आप के साथ बिना हिचक उन बातों को share करेंगे जो उन्हें पसंद नहीं। वे आप के साथ बड़ों की उन हरकतों को भी शेयर करेंगे जो उन्हें पसंद नहीं। 

सेक्स से सम्बंधित बातें आप को अपने बच्चों की उम्र का ध्यान रख कर करना पड़ेगा। 

  • इस तरह समझएं की आप का बच्चा अपने उम्र के हिसाब से समझ जाये। 
  • आप को सब कुछ समझने की जरुरत नहीं है। सिर्फ उतना बताएं जितना की उसकी उम्र में उसे जानना जरुरी है। 

बच्चों को सेक्स सम्बन्धी जानकारी देना क्योँ जरुरी है? (You you should give sex education to your children?)

  1. अगर आप का बच्चा 10 साल से कम उम्र का है तो sex education उस बचाएगा बाल यौन शोषण की किसी भी मुमकिन घटना से। अधिकतर बच्चे जिनके साथ यौन शोषण होता है, उन्हें तो यह पता भी नहीं होता की उनके साथ यौन शोषण हो रहा है। 
  2. अगर आप का बच्चा teenage वाली उम्र में है तो उम्र के इस पड़ाव में sex education  उसे रोकेगा कोई भी गलत कदम उठाने से। इस उम्र में अक्सर बच्चे हर प्रकार का experiment करना चाहते हैं। 
  3. बच्चे चाहे बड़े हो या छोटे, उन में सेक्स से सम्बंधित विषयोँ के बारे मैं जानने की बड़ी जिज्ञासा होती है। अगर आप उन्हें अपनी तरह से शिक्षा नहीं देंगे तो वे ये जानकारी या तो इंटरनेट पे खोजेंगे या ऐसे सूत्रों से पता करने की कोशिश करेंगे जो शायद बच्चे के लिए सही न हो। इंटरनेट पे मौजूद अधिकांश जानकारी बच्चों को ध्यान में रखकर तैयार नहीं की गयी है। ऐसे में इंटरनेट पे सेक्स सम्बन्धी जानकारी खोजना, बच्चों के लिए फायदा कम और नुकसान ज्यादा करेगा। 

सेक्स से सम्बंधित बातें आप को अपने बच्चों की उम्र का ध्यान रख कर करना पड़ेगा

उम्र के हिसाब से सेक्स जानकारी - Guide to giving age appropriate sex education to children

हर बच्चा अलग होता। और माँ-बाप से बेहतर एक बच्चे को कौन समझ सकता है। यहां पर हम आप को rough रूप-रेखा देना चाहेंगे जिसके मदद से आप बच्चे के उम्र के हिसाब से सेक्स-सम्बन्धी जानकारी दे सकेंगे।  

2 साल या उससे कम उम्र के बच्चे

2 साल से कम उम्र के बच्चों को इतना सिखएं की वो अपने शरीर के हर अंग का नाम बता सके, यहां तक की अपने गुप्तांगों के नाम भी बता सके। अधिकांश 2 साल तक के बच्चे स्त्री और पुरुष में भेद करना जानते हैं और वो देख के बता सकते हैं की कौन स्त्री है और कौन पुरुष।

2 साल से 5 साल तक के बच्चे

इस उम्र के बच्चों को पता होना चाहिए की स्त्री और पुरुष जब साथ रहते हैं तो स्त्री के गर्भ में बच्चा जन्म लेता है। बच्चों को इस उम्र में यह भी पता होना चाहिए की कोई उनके शरीर को छू नहीं सकता। सिर्फ उनके माता पिता या दादा -दादी ही छू सकते हैं वो भी सफाई करते वक्त। बच्चों को यह भी पता होना चाहिए की किस तरह से बड़े उनके शरीर को नहीं पकड़ सकते (या किस तरह से पकड़ सकते हैं) और किन जगहों पे नहीं छू सकते हैं। 

उम्र के हिसाब से सेक्स जानकारी - Guide to giving age appropriate sex education to children

पांच साल से लेकर 8 साल तक की उम्र के बच्चे

बच्चों को पता होना चाहिए की किस तरह से समाज में रहना है। उन्हें पता होना चाहिए की कपडे बंद कमरे में सिर्फ माता पिता या दादा-दादी के उपस्थिति में ही बदलने चाहिए। घर में या बहार वे नग्न अवस्था में नहीं जा सकते। उन्हें हर वक्त कपडे पहनने चाहिए जिससे उनके विशेष अंग छुपे रहें। जब दूसरे कपडे बदल रहे हों तो उस कमरे में नहीं जाना चाहिए। आपको बच्चों को puberty से सम्बंधित बातों को भी बच्चों को बतानी चाहिए क्योँकि बहुत से बच्चों में 10 साल से पहले ही puberty के कारण शारीरिक बदलाव आ जायेंगे। बच्चों को मोठे तौर पे इंसानो में बच्चे कैसे पैदा होते हैं इसकी जानकारी होनी चाहिए। 

नौ से 12 साल की उम्र के बच्चे

ऊपर जितनी भी बातें बताई गई हैं उनके आलावा बच्चों को सुरक्षित सेक्स के बारे में भी जानकारी दें। बच्चों को सेक्स से होने वाले बीमारियोँ के बारे में भी जानकारी दें। हालाँकि यह उम्र बहुत छोटी है, मगर अगर इस उम्र में बच्चों को मोटा-मोटी इन बातों की जानकारी है तो आगे चल कर इनके काफी आम आएगा। सेक्स सम्बन्धी बातों का पता इससे पहले की बच्चों को बहार से पता लगे, आप उन्हें सही जानकारी दे दें। बच्चों को बताएं की positive relationship क्या है और कैसे अच्छे relationship ख़राब हो सकते हैं। 

तेराह साल से अठारा साल के उम्र के बच्चे

उस उम्र के बच्चे इतने बड़े हो चुके होते हैं की वो किसी से सेक्स सम्बन्धी बातें करना नहीं चाहेंगे, खास कर अपने माँ-बाप से। मगर अगर आपने बच्चों से शुरू से ही इन विषयोँ के बारे में बात की है तो आपको अपने बच्चों से इस उम्र में भी सेक्स सम्बन्धी बात करने में उतनी दिकत नहीं आएगी। इस उम्र में अगर बच्चे सेक्स सम्बन्धी दिक्कतों का सामना करें तो बहुत हद तक लाजमी है की वे समाधान के लिए अपने माँ-बाप के पास ही जायेंगे। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_240.txt
Footer