Category: बच्चों की परवरिश

अपने बच्चे को ब्‍लू-व्‍हेल गेम से इस तरह बचाएं

By: Salan Khalkho | 4 min read

अब तक ३०० बच्चों की जन ले चूका है हत्यारा ब्‍लू-व्‍हेल गेम। अगर आप ने सावधानी नहीं बाराती तो आप का भी बच्चा हो सकता है शिकार। ब्‍लू-व्‍हेल गेम खलता है बच्चों के मानसिकता से। बच्चों का दिमाग बड़ों की तरह परिपक्व नहीं होता है। इसीलिए बच्चों को ब्‍लू-व्‍हेल गेम से सुरक्षित रखने के लिए माँ-बाप की समझदारी और सूझ-बूझ की भी आवश्यकता पड़ेगी।

अपने बच्चे को ब्‍लू-व्‍हेल गेम से इस तरह बचाएं

चौंक जाइयेगा ये जान कर आप की - 

पुरे विश्व में ब्‍लू व्‍हेल गेम को सर्च करने के मामले में भारत पहली स्थान पे है। 

दरिंदगी की हद ही पार हो गई!

सुनने में भी अटपटा सा लगता है!

क्या - कोई विडियो गेम कभी बच्चों की जान ले सकता है भला?

विश्वास नहीं होता!

मगर अफ़सोस - की यह बात सच है।

कातिल ब्‍लू-व्‍हेल गेम ने अब तक ३०० से ज्यादा बच्चों की जान

इस कातिल ब्‍लू-व्‍हेल गेम ने अब तक ३०० से ज्यादा बच्चों की जान ले चूका है। 

इस बात से यह पता चलता है की बच्चों के दिमाग पे कंप्यूटर, इन्टरनेट और ऑनलाइन गेम्स का बहुत प्रभाव पड़ता है। 

बच्चों को दुनियादारी की समझ नही होती है और वो जो भी देखते हैं उसे सच मन बैठते हैं। इसीलिए माँ-बाप के लिए यह जरुरी है की ध्यान रखें की उनका बच्चा किन चीज़ों में अपना समय ज्यादा व्यतीत करता है। 

कुछ सॉफ्टवेयर हैं जो पेरेंट्स की मदद करते हैं बच्चों को इंटरनेट की जोखिमों से बचाने में। इन्हे पैरेंटल कन्ट्रो एप्स (parental control apps) के नाम से जाना जाता है। हम आपको कुछ बेहतरीन (parental control apps) के बारे में बताएँगे जो आपके बच्चों की सुरक्षा करेगा जब आपके बच्चे ऑनलाइन होते हैं।

Blue Whale Game Safety for Kids in Hindi

क्या है ब्‍लू-व्‍हेल गेम Blue Whale Game Safety for Kids in Hindi

क्या है  ब्‍लू-व्‍हेल गेम?

ब्‍लू-व्‍हेल गेम को साल 2013 में रशिया में बनाया गया था। इस गेम को 25 साल के फिलिप नमक एक व्यक्ति ने बनाया है। 

उसे इस गेम को बनाने और गेम के द्वारा बच्चों की हत्या के मामले में जेल हो चका है। कुछ ही दिनों में फेसबुक की ही तरह रूस की एक सोशल मीडिया साइट पे यह गेम काफी प्रसिद्ध हो गया। 

फिर वहां से यह पूरी दुनिया में फ़ैल गया। दुनिया के जिस-जिस देश में यह गेम गया, इसने भरी संख्या में बच्चों की जान ली। 

गेम इस स्तर पे पहुँच गया है जहाँ से इस रोकना कई देशों की सरकार के लिए भी मुश्किल हो गया है। 

ब्‍लू-व्‍हेल गेम बच्चों के मन को प्रभावित करता है

ब्‍लू-व्‍हेल गेम बच्चों के मन को प्रभावित करता है

ब्‍लू-व्‍हेल गेम का असर बच्चों के कोमल मन को प्रभावित करता है और उनके सोचने-समझने की छमता को ख़त्म कर देता है। 

ब्‍लू-व्‍हेल गेम के एडमिनिस्ट्रेटर की बात मने तो यह कोई गेम नहीं है बल्कि एक कम्‍यूनिटी है। इस कम्युनिटी के के लोगों को ५० टास्क दिए जाते हैं। 

इस ५० टास्क को ५० दिनों में पूरा किया जाना होता है। इस टास्क को पूरा करने वालों को साक्ष्य के रूप में अपना फोटो और वीडियो अपलोड करना होता है। 

ये टास्क मासूम बच्चों को इतना उलझा के रख देते हैं की उन्हें पता ही चलता की कब एक के बाद एक टास्क करते करते - वे टास्क के गुलाम इस कदर बन जाते हैं की जब उन्हें कहा जाता है की अब आप अपनी जान दे दीजिये तो वो बच्चे जान देने से पहले एक बार के लिए भी नहीं सोचते हैं और अपनी जान खुद ले लेते हैं। 

हर टास्क को ख़त्म करने पे बच्चों को एक अजीब सी उपलब्धि का एहसास होता है। और इस सिलसिलेवार टास्क के जल में उन्हें आत्महत्या भी एक साहसिक उपलब्धि की तरह दिखाई देती है। 

अवसादग्रस्‍त किशोरो को लुभाता है ब्‍लू-व्‍हेल गेम

अवसादग्रस्‍त किशोरो को लुभाता है ब्‍लू-व्‍हेल गेम 

ब्‍लू-व्‍हेल गेम अपनी तरफ आकर्षित करता है अवसादग्रस्‍त किशोरो को। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के अनुसार भारत में करीब 5 करोड़ अवसाद रोगी हैं। 

इनमे भारी संख्या बच्चों की है। जब अवसादग्रस्‍त बच्चे इस गेम के संपर्क में आते हैं तो वे तुरंत इसके मेंबर बन जाते हैं। 

ब्‍लू-व्‍हेल गेम के एडमिनिस्ट्रेटर्स कम्‍यूनिटी के मेंबर्स के कमजोर मनोबल को जानते हैं और इसी का फायदा उठा के वे बच्चों को आत्‍महत्‍या के लिए प्रेरित। वे आत्‍महत्‍या को एक साहसिक कदम बताते हैं। 

बच्चों को ब्‍लू-व्‍हेल गेम से बचने का तरीका

बच्चों को ब्‍लू-व्‍हेल गेम से बचने का तरीका

ब्‍लू व्‍हेल गेम को सर्च करने के मामले में भारत के बच्चे और युवा पीढ़ी सबसे ऊपर स्थान पे है। हो सकता है यह आकड़ें इस लिए इस तरह हों क्योँ की भारत की जनसँख्या बहुत अधिक है। 

मगर यह भी सच है की चीन की जनसँख्या भारत से भी ज्यादा है मगर यह देश ब्‍लू व्‍हेल गेम के सर्च के मामले में भारत से बहुत पीछे है। इसका मतलब भारतीय माँ-बाप को इस गेम की वजह से चिंता करने की आवश्यकता है। 

  1. अपने बच्चों के साथ समय बिताना शुरू करें और उन्हें आभासी और वास्‍तविक दुनिया में अंतर करना सिखाएं।
  2. बच्चों को जीवन का मूल्य बताएं और उन्हें यह भी बताएं की जीवन उन्हें सिर्फ एक बार ही मिलता है। 
  3. उन्हें बताएं की जीवन से महत्वपूर्ण और कोई उपलब्धि नहीं है। जीवन है तो सब कुछ है। हार-जीत लगा रहता है। समय के साथ परिस्थितियॉं बदलती रहती हैं और अगर वे किसी बात को ले के परेशान हैं तो माँ-बाप उनकी मदद कर सकते हैं। 
  4. अपने बच्चों पे सफलता के लिए जरूरत से ज्यादा दबाव न बनायें। हर बच्चे की छमता अलग अलग होती है। हर बच्चे की कुछ ताकत होती है और कुछ कमजोरी। अपने बच्चों की तुलना किसी से भी नहीं करें। अपने बच्चों को कभी भी निचा न दिखाएँ - विशेषकर दूसरों के सामने। 
  5. अपने बच्चों के साथ समय बिताते वक्त उनके अध्यापकों और दोस्तों के बारे में पूछे। इससे आप को अपने बच्चे के निजी जिंदगी के बारे में पता चलेगा। आप को यह भी पता चलेगा की आप के बच्चे को कोई परेशान तो नहीं कर रहा है। 
  6. अगर आप अपने बच्चे के सवभाव में परिवर्तन देखें तो तुरंत सजग हो जाएँ। आगे जरुरत पड़े तो विशेषज्ञ से कॉउंसलिंग भी करवाएं। 
  7. अपने बच्चों को बताएं को आप उनसे बहुत प्यार करते हैं और वे आप के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। अपने बच्चों को समस्या से लड़ना सिखाएं और उनके अंदर लीडरशिप-महानता के गुणों का विकास करने के लिए प्रयास करें। 
  8. बच्चों को हमेशा भाषण देने की बजाएं उनको सुनने की भी कोशिश करें। एक अच्‍छे पेरेंट बनने की पहली सीढ़ी है एक अच्छे श्रोता बनना। 

Protect Your Child from Blue Whale Challenge Game in Hindi

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_240.txt
Footer