Category: शिशु रोग

बच्चों में सर्दी, खांसी तथा जुखाम का इलाज

By: Salan Khalkho | 4 min read

खांसी और जुकाम आमतौर पर सर्दी के वायरस के संक्रमण के कारण होता है। ये आम तौर पर अपने आप दूर हो जाते हैं, और एंटीबायोटिक दवाएं आमतौर पर किसी काम की नहीं होती हैं। पेरासिटामोल या इबुप्रोफेन कुछ लक्षणों को कम कर सकते हैं। ध्यान रखें की आप के बच्चे को पर्याप्त मात्रा में पीने मिल रहा है।

Table of contents

बच्चों में सामान्य सर्दी क्या है?

बच्चों में सर्दी होना सबसे आम बीमारियों में से एक है। हर साल यह किसी भी अन्य बीमारी की तुलना में बच्चों को अधिक परेशां करता है। भारत में हर साल लाखों लोगों को सर्दी होती है।

सर्दी  से सम्बंधित कुछ तथ्य:

ज़्यादातर बच्चों को साल में कम से कम 6 से 8 बार सर्दी-जुकाम होता है। जो बच्चे डेकेयर तथा स्कूल जाते हैं उन्हें सर्दी होने की सम्भावना अधिक रहती है।

6 साल की उम्र के बाद सर्दी, खांसी और जुखाम, बच्चों को कम होती है।

बच्चों को पतझड़ और ठण्ड मौसम  के दौरान जखन, खांसी और सर्दी होने की संभावना अधिक रहती है।

बच्चे में सामान्य सर्दी के कारण 

जुकाम तब होता है जब बच्चा सर्दी के वायरस के संपर्क में आता है और उसकी वजह से नाक और गले की परत में जलन (सूजन) हो जाता है। सर्दी 200 से अधिक विभिन्न वायरस के कारण हो सकती है। लेकिन ज्यादातर सर्दी-जुकाम राइनोवायरस के कारण होता है।

सर्दी बच्चे को तब लगती है जब,आपके बच्चे किसी ऐसे व्यक्ति के संपर्क में आते हैं जो सर्दी के वायरस से पहले से संक्रमित हो। 

कोल्ड वायरस इस तरह संक्रमण फैलता है:

हवा के माध्यम से - यदि सर्दी-जुकाम से संक्रमित व्यक्ति छींकता या खांसता है, तो थोड़ी मात्रा में वायरस हवा के संपर्क में आ जाता है। फिर अगर आपका बच्चा उस हवा में सांस लेता है, तो वायरस आपके बच्चे की नाक में पहुँच जाता है।

सीधे संपर्क से - इसका मतलब है कि जब आपका बच्चा किसी संक्रमित व्यक्ति को छूता है या संपर्क में आता है तो संक्रमित हो जाता है। बच्चों के लिए सर्दी से संक्रमित होना काफी आसान है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे अक्सर अपनी नाक, मुंह और आंखों को छूते रहते हैं और फिर वे दूसरे लोगों को या वस्तुओं को छूते हैं। इससे वायरस फैल सकता है। यह जानना महत्वपूर्ण है कि वायरस वस्तुओं के माध्यम से फैल सकते हैं, जैसे कि खिलौने, जिन्हें किसी संक्रमित व्यक्ति ने छुआ है।

सामान्य सर्दी से किन बच्चों को ज्यादा  खतरा है?

सभी बच्चों को सामान्य सर्दी का खतरा रहता है। वयस्कों की तुलना में उन्हें सर्दी होने की संभावना अधिक होती है। 

सर्दी के कुछ कारण ये है:

कम प्रतिरोध - जब संक्रमण फ़ैलाने वाले कीटाणुओं से लड़ने की बात आती है तो बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली एक वयस्क की तरह मजबूत नहीं होती है।

सर्दियों का मौसम - अधिकांश श्वसन संबंधी बीमारियां पतझड़ और सर्दियों में ही होती हैं। इस मौसम में नमी भी कम हो जाती है। इससे नाक के रास्ते सूख जाते हैं और संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

स्कूल या डेकेयर - जब बच्चे अन्य ढेर सरे बच्चों के निकट संपर्क में होते हैं तो सर्दी आसानी से फैलती है।

हाथ से मुंह का संपर्क - बच्चे बिना हाथ धोए अपनी आंख, नाक या मुंह को छूते हैं। यह कीटाणुओं के फैलने का सबसे आम तरीका है।

एक बच्चे में सामान्य सर्दी के लक्षण क्या हैं?

आपके बच्चे के कोल्ड वायरस के संपर्क में आने के 1 से 3 दिन बाद से सर्दी के लक्षण शुरू हो जाते हैं। लक्षण अक्सर लगभग 1 सप्ताह तक रहते हैं। लेकिन वे 2 सप्ताह तक चल सकते हैं। प्रत्येक बच्चे के लिए लक्षण थोड़े अलग हो सकते हैं।

शिशुओं में, ठंड के लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

  • नींद न आना
  • उतावलापन
  • नाक में जमाव
  • कभी-कभी उल्टी और दस्त
  • बुखार

बड़े बच्चों में ये लक्षण हो सकता है:

  • भरी हुई, बहती नाक
  • गले में खराश 
  • नम आँखें
  • छींक आना
  • खांसी
  • जाम 
  • मांसपेशियों और हड्डियों में दर्द
  • सिर दर्द
  • बुखार
  • ठंड लगना
  • नाक से पानी जैसा स्राव जो गाढ़ा होकर पीला या हरा हो जाता है
  • अत्यधिक थकान (थकान)

बच्चों में अगर लक्षण फ्लू जैसी अन्य स्वास्थ्य समस्याओं की तरह लगे तो सावधान हो जाएँ। तुरंत डॉक्टर की से परामर्श करें। 

बच्चे में सामान्य सर्दी का निदान कैसे करें?

अधिकांश सामान्य सर्दी का निदान लक्षणों के आधार पर किया जाता है। लेकिन ठंड के लक्षण अन्य जीवाणु संक्रमण, एलर्जी और स्वास्थ्य समस्याओं की तरह लग सकते हैं। इसीलिए डॉक्टर की राय आवश्यक है। 

बच्चे में सामान्य सर्दी का इलाज कैसे करें? 

सामान्य सर्दी का कोई इलाज नहीं है। अधिकांश बच्चे सर्दी से अपने आप ठीक हो जाते हैं। एंटीबायोटिक्स वायरल संक्रमण के खिलाफ काम नहीं करते हैं, इसलिए वे सर्दी को ठीक करने में इस्तेमाल नहीं आते हैं। इसके बजाय, सही उपचार यही है की आप बीमारी के कम होने तक बच्चे के लक्षणों को कम करने की कोशिश करें है। आप वो सब करें जो आप के बच्चे को सर्दी के दौरान बेहतर महसूस करने में मदद मिले। उदहारण के लिए:

  • अपने बच्चे को भरपूर मात्रा में तरल पदार्थ दें, जैसे पानी, इलेक्ट्रोलाइट घोल, सेब का रस और गर्म सूप। यह dehydration (निर्जलीकरण) को रोकने में मदद करता है।

  • आपके बच्चे को भरपूर आराम मिले यह सुनिश्चित करें।

  • बंद नाक की समस्या को कम करने के लिए, nesal-spray का प्रयोग करें। आप उन्हें बिना प्रिस्क्रिप्शन के खरीद सकते हैं, और वे बच्चों के लिए सुरक्षित हैं। 

  • अपने बच्चे को सिगरेट तथा चूलह के धुएं से दूर रखें। धुआं नाक और गले में जलन को और बढ़ा देगा।

  • बच्चों को कोई भी दवा बिना डॉक्टर के परामर्श के न दें। इन बातों का ध्यान रखें:

  • 19 वर्ष या उससे कम उम्र के बच्चे को कभी भी एस्पिरिन न दें जब तक कि आपके बच्चे के डॉक्टर द्वारा निर्देशित न किया जाए। यह बच्चे में रेये सिंड्रोम नामक एक दुर्लभ लेकिन गंभीर स्थिति पैदा कर सकता है।

  • 6 महीने या उससे कम उम्र के शिशु को कभी भी इबुप्रोफेन न दें।

  • अपने बच्चे को तब तक घर पर रखें जब तक कि वह 24 घंटे तक बुखार से मुक्त न हो जाए।

  • सांस लेने में आसानी हो इसके लिए रात में अपने बच्चे के कमरे में कूल-मिस्ट ह्यूमिडिफायर का प्रयोग करें।
Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

शिशु-के-दांतों-के-बीच-गैप-डायस्टेमा-कारण-और-उपचार
बच्चों-के-टेड़े-मेढे-दांत-crooked-teeth-remedy
अंगूठा-चूसने-से-शिशु-के-दांत-ख़राब
नवजात-शिशु-और-बच्चों-के-स्वस्थ-के-लिए-UHT-Milk
पोक्सो-एक्ट-POCSO
कैल्शियम-से-भरपूर-आहार-जो-बनायें-बच्चों-को-मजबूत
मिसकैरेज---लक्षण,-कारण-और-बचाव
हाई-ब्लड-प्रेशर-इन-प्रेगनेंसी
UHT-Milk-शिशु-को-एक्जिमा-से-बचाता-है
क्या-UHT-Milk-ताजे-दूध-से-बेहतर-है
क्या-UHT-Milk-को-उबालने-की-आवश्यकता-है
बच्चों-के-दांत-टेढ़े-crooked-teeth-prevention
क्या-12-महीने-के-शिशु-को-full-fat-UHT-milk-दिया-जा-सकता-है
शिशुओं-में-कब्ज-की-समस्या
UTH-milk-को-कितने-दिनों-तक-सुरक्षित-रखा-जा-सकता-है
बच्‍चों-में-दांत-काटने-की-आदत-को-दूर-करने-का-आसन-तरीका
बच्चों-में-सब्जियां-के-प्रति-रूचि-इस-तरह-जगाएं
गर्भावस्था-में-Vitamin-A-की-कमी-के-खतरनाक-परिणाम-
सिजेरियन-की-वजह-से-मौत
जानलेवा-हो-सकता-है-गर्भावस्था-में-Vitamin-B12-का-ना-लेना
गर्भावस्था-में-खतरों-से-बचाए-ये-महत्वपूर्ण-विटामिन-और-सप्लीमेंट
गर्भावस्था-में-Vitamin-E-ना-लेना-खतरनाक-हो-सकता-है-
गर्भावस्था-में-विटामिन-C-शिशु-के-लिए-घातक-हो-सकता-है
गर्भावस्था-में-विटामिन-A-से-सम्बंधित-सावधानियां-और-खतरे
शिशु-कुपोषण
गर्भावस्था-में-Vitamin-D
स्टडी-हैबिट्स
टीकाकरण-चार्ट-2018
नवजात-शिशु-को-ठीक-से-पॉटी-नहीं-हो-रही-क्या-करें
कपड़े-का-मास्क-और-ओमनी-क्रोम

Most Read

सिजेरियन-डिलीवरी-के-बाद-खान-पान-(Diet-Chart)
सिजेरियन-डिलीवरी-के-बाद-मालिश
बच्चे-के-दातों-के-दर्द
डिलीवरी-के-बाद-पीरियड
नार्मल-डिलीवरी-के-बाद-बार-बार-यूरिन-पास-की-समस्या
कपडे-जो-गर्मियौं-में-बच्चों-को-ठंडा-व-आरामदायक-रखें-
शिशु-में-फ़ूड-पोइजन-(Food-Poison)-का-घरेलु-इलाज
बच्चों-को-कुपोषण-से-कैसे-बचाएं
बच्चों-में-विटामिन-और-मिनिरल-की-कमी
शिशु-में-चीनी-का-प्रभाव
विटामिन-बच्चों-की-लम्बाई-के-लिए
बढ़ते-बच्चों-के-लिए-पोष्टिक-आहार
विटामिन-डी-remedy
विटामिन-डी-की-कमी
विटामिन-ई-बनाये-बच्चों-को-पढाई-में-तेज़
बढ़ते-बच्चों-के-लिए-शीर्ष-10-Superfoods
कीवी-के-फायदे
शिशु-के-लिए-विटामिन-डी-से-भरपूर-आहार
शिशु-में-वायरल-फीवर
प्रेगनेंसी-में-वरदान-है-नारियल-पानी
किवी-फल-के-फायदे-और-गुण-बच्चों-के-लिए
टेढ़े-मेढ़े-दांत-बिना-तार-के-सीधा
बच्चों-में-पोषक-तत्वों-की-कमी-के-10-लक्षण
चेचक-का-दाग
बच्चों-के-मसूड़ों-के-दर्द-को-ठीक-करने-का-तरीका
शिशु-में-Food-Poisoning-का-इलाज---घरेलु-नुस्खे
बच्चों-की-त्वचा-पे-एक्जीमा-का-घरेलु-इलाज
शिशु-के-पुरे-शारीर-पे-एक्जीमा
छोटे-बच्चों-में-अस्थमा-का-इलाज
जलशीर्ष-Hydrocephalus
बच्चों-में-माईग्रेन-के-लक्षण-और-घरेलु-उपचार
बच्चों-में-दमा-का-घरेलु-उपाय,-बचाव,-इलाज-और-लक्षण
बच्चों-में-बाइपोलर-डिसऑर्डर-
शिशु-के-दांतों-में-संक्रमण-के-7-लक्षण
बच्चे-के-दाँत-निकलते
बच्चा-बिस्तर-से-गिर
बाइपोलर-डिसऑर्डर-(bipolar-disorder)
शिशु-में-बाइपोलर-डिसऑर्डर
क्या-बच्चे-बाइपोलर-डिसऑर्डर-(Bipolar-Disorder)-
गर्भावस्था-की-खुजली
गर्भधारण-कारण,-लक्षण-और-इलाज
त्वचा-की-झुर्रियां-कम-करें-घरेलु-नुस्खे
शिशु-का-घुटनों-के-बल-चलने-के-फायेदे
शिशु-की-आंखों-में-काजल-या-सुरमा-हो-सकता-है-खतरनाक-
आहार-जो-माइग्रेन-के-दर्द-को-बढ़ाते-हैं
शिशु-में-कब्ज-की-समस्या-का-घरेलु-उपचार-
शिशु-की-तिरछी-आँख-का-घरेलु-उपचार
शिशु-में-कब्ज-की-समस्या-और-घरेलु-उपचार
अंगूठा-चूसने-से-शिशु-के-दांत-ख़राब
नवजात-शिशु-और-बच्चों-के-स्वस्थ-के-लिए-UHT-Milk

Other Articles

Footer