Category: स्वस्थ शरीर

नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के तरीके

By: Salan Khalkho | 3 min read

अगर जन्म के समय बच्चे का वजन 2.5 kg से कम वजन का होता है तो इसका मतलब शिशु कमजोर है और उसे देखभाल की आवश्यकता है। जानिए की नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के लिए आप को क्या क्या करना पड़ेगा।

नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के तरीके

क्या आप जानते हैं?

की एक नवजात बच्चे का वजन जन्म के समय कितना होना चाहिए। 
Ideal baby weight for normal डिलीवरी

नवजात बच्चे का वजन 2.5 kg से 4 kg के लगभग सही माना जाता है। अगर जन्म के समय बच्चे का वजन 2.5 kg से कम वजन का होता है तो इसका मतलब शिशु कमजोर है और उसे देखभाल की आवश्यकता है। 

ज्यादातर प्री-मेच्योर बच्चे (premature child) में वजन कम होता है। ऐसे में माँ-बाप का चिंतित होना लाजमी है। मगर कुछ बातों का ख्याल रखा जाये तो आप को चिंता की आवश्यकता नहीं। 

अगर आप के बच्चे का वजन 2.5 kg से कम है तो अपने डॉक्टर से संपर्क बनाये रखें। आप हर यथा संभव कोशिश करें की आप का बच्चा बीमार न पड़े। जिन बच्चों का वजन जन्म के समय 2 kg से कम होता है उन्हें विशेष देखभाल की आवश्यकता होती है। 

हम आप को बताएँगे की किस तरह आप अपने बच्चे का वजन बढ़ा सकते हैं। 

बच्चे का कम वजन होना तो माँ-बाप के लिए चिंता का विषय है - मगर क्या आप ने कभी सोचा है की बच्चे का कम वजन होने से बच्चे को क्या क्या परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। 

कम वजन शिशु का शारीरिक समस्या

कम वजन शिशु का शारीरिक समस्या

जिन बच्चों का वजन जन्म के समय कम रहता है उन्हें कई प्रकार के समस्याओं का सामना करना पड़ता है। सबसे पहली समस्या यह है की ऐसे बच्चों के शरीर में वासा की मात्रा बेहद निचले स्तर पे होती है। जिसके कारण ये बच्चे अपने शरीर का तापमान बनाये रखने में असमर्थ होते हैं। 

SIDS - बच्चों की अचानक मृत्यु 

जिन बच्चों का वजन पहले वर्ष में कम होता है उनमें अचानक मृत्यु का खतरा बना रहता है। इसे अंग्रेजी में SIDS - sudden infant death syndrome भी कहते हैं। जिन बच्चों का वजन जन्म के समय कम होता है - अगर उनका ध्यान न रखा जाये तो ऐसे 90 प्रतिशत शिशु मृत्यु की घटना छह महीने से पहले हो जाती है। इसका मतलब अगर पहले छह महीने शिशु का उचित ख्याल रखा जाये तो उसके जीने की सम्भावना 90 प्रतिशत तक बढ़ जाती है। 

कम वजन नवजात बच्चों में क्योँ होती है मृत्यु

कम वजन नवजात बच्चों में क्योँ होती है मृत्यु?

इसके दो कारण है। जन्म के समय जिस प्री-मेच्योर शिशु का वजन कम होता है उनके फेफड़े सही तरीके से विकसित नहीं होते है। इस वजह से इन बच्चों को साँस लेने मैं और दूध पीने (स्तनपान) में भी दिक्कत हो सकती है। प्री-मेच्योर बच्चों में इन्फेक्शन यानि संक्रमण का भी बहुत खतरा रहता है। साथ ही साथ इन बच्चों में पेट से जुड़ी समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है क्योँकि इनका पाचन तंत्र पूरी तरह विकसित नहीं होता है। यह भी एक कारण है की जन्म के बाद इनका वजन उतना नहीं बढ़ता है जितना की बाकि बच्चों का बढ़ता है।  

पहले छह महीने हैं खास

कम वजन में जन्मे प्री-मेच्योर बच्चे की अगर पहले छह महीने सही देख रेख की जाये तो संकट बहुत हद तक कम किया जा सकता है। समय के साथ बच्चे का  फेफड़ों विकसित हो जायेगा और उसकी साँस लेने की समस्या भी समाप्त हो जाएगी। समय के साथ बच्चे का immune system भी विकसित हो जायेगा और खुद ही संक्रमण से शरीर का बचाव कर सकेगा। यही बात उसके पाचन तंत्र के साथ भी है। वो भी समय के साथ विकसित हो जायेगा और फिर बच्चा जो भी खायेगा वो उसके शरीर को लगेगा।

बच्चे के लिए स्तनपान है अमृत

ऐसे बच्चे के लिए स्तनपान है अमृत

कम वजन जन्मे प्री-मेच्योर नवजात बच्चों के लिए तो माँ का दूध मानो अमृत तुल्य है। माँ के दूध से बच्चे के शरीर को एंटीबाडी मिलता है। एंटीबाडी एक तरह का प्रोटीन है जो बच्चे के शरीर में पनप रहे संक्रमण को मार भगाता है। चूँकि बच्चे का immune system पूरी तरह विकसित नहीं है इसलिए वो खुद antibody नहीं बना पता है। मगर जैसे जैसे बच्चा बड़ा होगा उसका immune system पूरी तरह विकसित हो जायेगा और तब उसका शरीर खुद ही संक्रमण से लड़ने में सक्षम हो जायेगा। यानि पहले छह महीने कम वजन बच्चे को जितना हो सके अपना स्तनपान कराएं। यह उसके लिए आहार भी है और दवा भी। 

कम वजन शिशु को स्तनपान में दिक्कत

कम वजन शिशु को स्तनपान में दिक्कत 

कम वजन शिशु का फेफड़ा पूरी तरह विकसित नहीं होता है इसलिए उन्हें दूध पीने में बहुत दिक्कत होती है। ऐसे बच्चों को दूध पिलाने के लिए आप को बहुत धैर्य रखने की आवश्यकता है। आप को अपने बच्चे को बार बार दूध पिलाने की कोशिश करनी पड़ेगी। एक बार जब आपका बच्चा दूध पीना सिख ले तब आप को उतनी मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। अगर तमाम कोशिशों के बावजूद भी आप का बच्चा दूध नहीं पि पा रहा है तो आप अपने दूध को निकल कर उबले कप से या चम्मच के सहायता से भी पिलाने की कोशिश कर सकती हैं। अगर आप फिर भी दिक्कत का सामना करती है तो आप खासतौर से प्री मेच्योर बच्चों के लिए बनी फीडिंग बोतल का इस्तेमाल कर सकती हैं। जब तक बच्चे का वजन सामान्य न हो जाये उसे हर दो घंटे पे दूध पिलाती रहें। 

कम वजन बच्चे का तापमान ऐसे करें नियंत्रित

कम वजन बच्चे का तापमान ऐसे करें नियंत्रित

कम वजन जन्मे प्री-मेच्योर नवजात बच्चों को अपने शरीर का तापमान सामान्य बनाये रखें में दिक्कत होता है। ऐसे मैं उसका ख्याल रखना बेहद चुनौतीपूर्ण है। जब बच्चा शरीर का तापमान नियंत्रित करने में असमर्थ रहता है तो उसमे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे मैं आप को अपने बच्चे के शरीर का तापमान कृत्रिम तरीकों से संतुलित करने की आवश्यकता पड़ेगी। 

कम वजन बच्चे की खास देखभाल की जरूरत है

कम वजन नवजात बच्चे में रोग प्रतिरोधी क्षमता (immunity power) बहुत कम होती है। इसीलिए उन्हें संक्रमण का खतरा बना रहता है। ऐसे बच्चों को संक्रमण से बचाने के लिए माँ का दूध तो एक विकल्प है ही। साथ ही ऐसे बच्चों की खास देखभाल की भी जरूरत है। बच्चे को पहले साल हर प्रकार के संक्रमण से बचा के रखें। बदलते मौसम में बच्चों का खास ख्याल रखने की आवश्यकता है। समय के साथ जैसे जैसे बच्चा बड़ा होता है - उसकी रोग प्रतिरोधक छमता मजबूत हो जाती है और उसे उतने ध्यान की आवश्यकता नहीं रहती है। 

कम वजन - प्री-मेच्योर शिशु का वजन इस तरह बढ़ाएं 

  1. जन्म के बाद बच्चे को माँ के संपर्क में रखें। माँ की त्वचा के संपर्क में रहने से बच्चे के शरीर का तापमान नियंत्रित रहेगा। 
  2. मौसम के अनुसार बच्चे को कपडे पहनाये। ठण्ड में बच्चे को अच्छी तरह ढक के रखें। बच्चे को ऊनि कपडे पहनाये। गर्मियों में बच्चे को सूती कपडे पहनाये। 
  3. गर्मियों में बच्चे को ऐसे कमरे में रखें जो बाकि कमरों के मुकाबले ठंडा हो। 
  4. ठण्ड में बच्चे को ऐसे कमरे में रखें जो बाकि कमरों से गर्म हो। कमरे की खिड़कियों को बंद रखें ताकि बहार से ठण्ड हवा अंदर न आये। 
  5. बिना डॉक्टर से पूछे बच्चे को नेहलाये नहीं। जब तक आप का बच्चा एक साल का न हो जाये या फिर उसका वजन सामान्य बच्चों के जितना न हो जाये, उसे नहलाएं नहीं। क्योँकि आप का बच्चा खुद से अपना शारीरिक तापमान नियंत्रित करने में अभी असमर्थ है। और इस अवस्था मैं बच्चे को नहलाना हानिकारक हो सकता है। सप्ताह में एक बार, बच्चे को रुई के पोहे से या साफ सूती कपडे को भीगा कर उससे बच्चे के शरीर को पोछ कर साफ करें। 
  6. बच्चे के शरीर को हर समय ढक कर रखें
  7. बच्चे को एक पल के लिए भी बिना कपडे के ना रखें। 
Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

स्मार्ट-फ़ोन
बच्चों-के-उग्र-स्वाभाव
शिशु-आहार
गर्भ-में-सीखना
Vitamin-C-benefits
homemade-baby-food
बच्चों-के-पेट-के-कीड़े
पेट-में-कीड़े
शिशु-में-कैल्शियम-की-कमी
abandoned-newborn
बच्चों-के-साथ-यात्रा
बच्चे-ट्यूशन
पढ़ाई-का-माहौल
best-school-2018
बच्चे-के-पीठ-दर्द
board-exam
India-expensive-school
ब्लू-व्हेल
शिशु-के-लिए-नींद
film-star-school
डिस्टे्रक्टर
winter-season
बच्चे-के-कपडे
बच्चे-को-साथ-सुलाने-के-फायेदे
बच्चे-को-सुलाएं
सिर-का-आकार
दूध-पीते-ही-उलटी
बच्चे-में-हिचकी
बच्चे-का-वजन
Weight-&-Height-Calculator

Most Read

12-month-baby-food-chart
दलीय-है-baby-food
सेवई-baby-food
सूजी-का-उपमा-baby-food
गाजर-का-हलवा-baby-food
जुडवा-बच्चों-का-गावं
बच्चे-को-डकार
टीके-से-बुखार
Jaundice-in-newborn-in-hindi
कम-वजन-बच्चे
शिशु-के-कपड़े
गाजर-की-खिचड़ी
शिशु-आहार
मुंग-का-दाल
लौकी-की-प्यूरी
चावल-का-खीर
आटे-का-हलुआ
केले-का-smoothie
मसूर-दाल
मटर-की-प्यूरी
केले-का-प्यूरी
चावल-का-शिशु-आहार
अवोकाडो-का-प्यूरी
शकरकंद-की-प्यूरी
गाजर-का-प्यूरी
कद्दू-की-प्यूरी
रागी-का-खिचड़ी
रागी-डोसा
पालक-और-याम
अवोकाडो-और-केले
गाजर-मटर-और-आलू-से-बना-शिशु-आहार
पपीते-का-प्यूरी
मछली-और-गाजर
सूजी-उपमा
दही-चावल
वेजिटेबल-पुलाव
इडली-दाल
संगति-का-प्रभाव
अंगूर-को-आसानी-से-किस-तरह-छिलें-
अंगूर-के-फायेदे
हानिकारक-आहार
अंगूर-शिशु-आहार
india-Indian-Independence-Day-15-August
पारिवारिक-माहौल
बच्चे-बुद्धिमान
baby-sleep
हड्डियाँ-ज्यादा-मजबूत
नवजात-बच्चे-का-दिमागी-विकास
बच्चों-की-मजेदार-एक्टिविटीज-
बच्चा-बात

Other Articles

indexed_200.txt
Footer