Category: बच्चों का पोषण

बच्चों को दूध पीने के फायदे

By: Salan Khalkho | 2 min read

माँ के दूध से मिलने वाले होर्मोनेस और एंटीबाडीज बच्चे के स्वास्थ्य के लिए बेहद जरुरी है| ये बच्चे के शरीर को viruses और bacteria से मुकाबला करने में सक्षम बनता है| स्तनपान वाले बच्चों में कान का infection, साँस की बीमारी और diarrhea कम होता है| उन बच्चों को डॉक्टर को भी कम दिखाना पड़ता है|

maa ka doodh in hindi औरतों की छाती - महिला का दूध - milk in hindi

माँ का दूध बच्चों के लिए सर्वश्रेष्ठ है क्योँकि इसमें जरुरी पोषक तत्त्व जैसे की vitamins, protein और fat ठीक उसी अनुपात में बच्चे को मिलता है जैसा की उसे चाहिए। जैसे-जैसा बच्चा बड़ा होता है उसकी nutritional needs बदलती रहती है। बच्चे की बदलती जरुरत के अनुसार माँ के दूध में मौजूद तत्वों का अनुपात भी बदलता रहता है।

माँ का दूध बच्चे के उम्र के हर पड़ाव में सबसे उपयुक्त आहार है और वो सब बच्चे को देता है जो बच्चे के विकास के लिए जरुरी है। माँ का दूध बच्चे को उस रूप में मिलता है जिससे उसका पाचन तंत्र आसानी से हजम कर सके। माँ के स्तनों में दूध बच्चे की आवश्यकता के अनुसार बनता है। ठीक उसी तरह जिस तरह बच्चे के शरीर को चाहिए।

माँ के दूध से बच्चे को माँ के शरीर की होर्मोनेस और एंटीबाडीज भी मिलती है। ये होर्मोनेस और एंटीबाडीज बच्चे के स्वास्थ्य के लिए बेहद जरुरी है। माँ के दूध में मौजूद antibodies बच्चे के शरीर को सक्षम बनता है की वो viruses और bacteria के साथ मुकाबला कर सके और स्वस्थ रह सके। जिन बच्चों को शुरुआती 6 month में केवल माँ का दूध मिल उन बच्चों में कान का infection, साँस की बीमारी और diarrhea कम होता है। उन बच्चों को डॉक्टर को भी कम दिखाना पड़ता है। 

गाए के स्तनों में दूध उस तरह बनता है जिस तरह एक बछड़े के शरीर को आवश्यकता होती है। गाए का दूध बच्चे के लिए आहार तो हो सकता है मगर वो सारे hormones और antibodies नहीं दे सकता जो माँ के दूध से बच्चे को  मिलता है। इसीलिए माँ के दूध से बच्चा स्वस्थ्य और तंदरुस्त होता है। 

गाए के दूध में गाए वाले हॉर्मोन और गाए वाले antibody होते हैं जो एक बछड़े के लिए उपयुक्त है मगर एक नवजात शिशु के लिए नहीं। यही कारण है की गाए का दूध देने पे बच्चे को दस्त हो जाता है और बहुत से बच्चों को एलेर्जी का सामना भी करना पड़ता है। दस्त और एलेर्जी गाए के दूध से बच्चे को होने वाले कुछ side affects हैं। 

बच्चों से सम्बंधित शोध में यह बात सामने आयी है की जिन बच्चों को माँ का दूध मिला उनका IQ score बाकि बच्चों के मुकाबले ज्यादा पाया गया। गाए के दूध में ऐसा हॉर्मोन नहीं की जो मानव IQ score बढ़ाने में सहायक हो सके। स्तनपान कराने के दौरान माँ और बच्चा भौतिक तौर पे एक दूसरे के बहुत करीब होते हैं, दोनों की त्वचा एक दूसरे के संपर्क में होती है। और ये समय जो दोनों एक दूसरे के साथ गुजरते हैं, मदद करता है माँ और बच्चे में एक अच्छी bonding develop करने मैं। 

स्तनपान वाले बच्चे में मोटापा की समस्या कम देखी गयी है। हर साल भारत में लाखों बच्चे SIDS (sudden infant death syndrome) से मौत के शिकार होता हैं। जिन बच्चों को स्तनपान कराया जाता है उन बच्चों को SIDS का खतरा भी कम रहता है। 

अगर आप एक माँ हैं तो संकल्प लीजिये की आप अपने बच्चे को पहले 6 month सिर्फ अपना स्तनपान ही कराएंगी। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_120.txt
Footer