Category: स्वस्थ शरीर

बच्चों का बिस्तर पर पेशाब करना कैसे रोकें (bed wetting)

By: Salan Khalkho | 4 min read

अगर 6 वर्ष से बड़ा बच्चा बिस्तर गिला करे तो यह एक गंभीर बीमारी भी हो सकती है। ऐसी स्थिति मैं आपको डॉक्टर से तुरंत सलाह लेनी चाहिए। समय पर डॉक्टरी सलाह ना ली गयी तो बीमारी बढ़ भी सकती है।

बच्‍चा बिस्‍तर पर पेशाब

अक्सर कई माँ बाप बच्चे के बिस्तर पर पेशाब करने से हैं परेशान होते हैं। बच्चों का बिस्तर पे पिशाब करना (bed wetting) शिशु करना एक आम समस्या है। ज्यादातर यह समस्या 4 से 5 वर्ष से काम आयु के बच्चों में देखने को मिलती है। बच्चे जैसे जैसे बड़े होते हैं वे अपने मूत्राशय पर नियंत्रण रखना सिख लेते हैं। 

अगर बच्चा बिस्‍तर पर पेशाब कर देता है तो उसे कभी ना डाटें। कोई बच्चा जान बुझ कर बिस्तर पे पेशाब नहीं करता। 

बच्‍चा बिस्‍तर पर पेशाब ना करे इसके लिये आसान टिप्‍स

  1. बच्चे को आदत डालिए की वह सोने से पहले पेशाब जरूर करे। 
  2. अगर बच्चा कभी जल्दी सो जाये तो उसे गोद में उठाकर शौचालय ले जाएँ 
  3. अगर बच्चा अकेले सोता है तो उसके कमरे में हल्का रौशनी वाला बल्ब लगाएं ताकि रात में उठकर वह स्वंय भी बिना किसी मदद के शौचालय जा सके 
  4. जागने के बाद भी पेशाब कर ले
  5. रात्रि 8 बजे के बाद जयादा पानी ना दें 
  6. अगर बच्चा फिर भी कभी बिस्‍तर पर पेशाब कर दे तो उसे मारें नहीं बल्कि प्यार से समझाएं 
  7. सोने से 1 घंटा पहले भोजन करा देना चाहिए 
  8. बच्चे को सोते से जगाकर कुछ भी खाने और पीने को नहीं देना चाहिए

बिस्तर पे पिशाब करना (bed wetting) कोई गंभीर समस्या नहीं है। हालाँकि कुछ मामलों में 15 से 20 वर्ष के आयु के बच्चों में भी ये समस्या देखने को मिलती है। ऐसी इस्थिति मैं इसे एक बीमारी माना जाता है। बड़ी उम्र के बच्चे इस बीमारी के बारे में बताने में शर्म महसूस करते हैं जिसकी वजह से उनका सही समय पे इलाज नहीं हो पाता है।

छोटे बच्चे अगर बिस्तर गिला करें तो उसे बीमारी नहीं मानना चाहिए। कुछ समय के बाद वे अपने मूत्राशय पर नियंत्रण रखना सिख जायेंगे और यह समस्या स्वतः समाप्त हो जाएगी। 

अगर 6 वर्ष से बड़ा बच्चा बिस्तर गिला करे  तो यह एक गंभीर बीमारी भी हो सकती है। ऐसी स्थिति मैं आपको डॉक्टर से तुरंत सलाह लेनी चाहिए। समय पर डॉक्टरी सलाह ना ली गयी तो बीमारी बढ़ भी सकती है। 

क्या आपका शिशु सोते हुए बिस्तर पर पेशाब करता है

अगर आपका बच्चा Bed पर Urine-पेशाब करता है तो कुछ तरीके हैं जिनके मदद से आप बच्चे का बिस्तर पर पेशाब करना रोक सकती हैं। 

बच्चे का बिस्तर पर पेशाब करना

बच्चे बिस्तर गीला (पेशाब) क्यों करते है 

  1. बच्चों के पेट में कीड़े होना
  2. नींद में पेशाब करने के सपने देखने के कारण
  3. पारिवारिक इतिहास (family history)
  4. हार्मोन्स की गड़बड़ी से
  5. डायबीटीज़ (टाइप 1) के कारण
  6. ब्लैडर(urinary-bladder) की मसल्स कमजोर होने के कारण
  7. कब्ज के कारण
  8. डर या तनाव के कारण
  9. नींद में पेशाब करने के सपने देखने के कारण
  10. किसी बीमारी के कारण
  11. किसी दवा के साइड इफ़ेक्ट के कारण
  12. गहरी नींद के कारण
  13. मौसम की वजह से - जैसे की सर्दी और बरसात के शुरुआत में 

बिस्तर में पेशाब करने का घरेलू इलाज

तिल और गुड़ 
तिल और गुड़ को साथ मिला कर उसका मिश्रण बना लें। इसे खिलने से बच्चे का बिस्तर पे पिशाब करने का रोग ख़तम हो जायेगा। तिल और गुड़ के इस मिश्रण में अजवायन का चूर्ण मिलकर बच्चे को खिलने से और भी कई शारीरिक फायदे पहुँचते हैं। 

आवंला 
अंदाज से 10 ग्राम आवंला और 10 ग्राम काला जीरा साथ मिलकर पीस लें। इसमें लगभग इतनी ही मात्रा में चीनी पीस कर मिला दें। इस मिश्रण को हर दिन बच्चे को पानी के साथ खिलने से बच्चे को बिस्तर पे पिशाब नहीं होगा। आवंला को बारीक़ पीस कर रोजाना शहद के साथ 3 ग्राम सुबह और शाम खिलने से भी लाभ पहुँचता है। 

मुनक्का
हर दिन पांच मुनक्का बच्चों को खिलने से बच्चों का बिस्तर में पेशाब करने का रोग ख़तम हो जाता है। 

अखरोट और किशमिश
प्रतिदिन दो अखरोट और बीस किशमिश बच्चों को खिलाने से बिस्तर में पेशाब करने की समस्या दूर हो जाती है। 

दूध में एक चम्मच शहद 
एक कप ठण्डे फीके दूध में एक चम्मच शहद मिलाकर सुबह-शाम चालिस दिनों तक बच्चे को पिलाइए और तिल-गुड़ का एक लड्डू रोज खाने को दीजिए। अपने बच्चे को लड्डू चबा-चबाकर खाने के लिए प्रोत्हासित कीजिये और फिर शहद वाला एक कप दूध पीने के लिए दें। बच्चे को खाने के लिए लड्डू सुबह के समय दें। लड्डू के सेवन से कोई नुकसान नहीं होता। आप जब तक चाहें बच्चे को इसका सेवन करा सकते हैं।

बिस्तर में पेशाब करना एक बीमारी भी हो सकता है 

6 साल से बड़े उम्र के बच्चे अगर बिस्तर गिला करें तो उसका कारण जानना बेहद जरुरी है। बड़े बच्चों का बिस्तर पे पेशाब करना किसी बीमारी के संकेत भी हो सकते हैं। कुछ संभावित बिमारियों के बारे में आपको जानना जरुरी है जिनकी वजह से बच्चों में बिस्तर गिला करने की समस्या पैदा हो जाती है। 

छोटा मूत्राशय
बच्चों का शरीर वस्यकों के शरीर की तरह पूरी तरह विकसित नहीं होता। मूत्राशय उनमें से एक है। हर बच्चे का शरीर एक तरह से विकसित नहीं होता। कुछ बच्चे जल्दी विकसित होते हैं और कुछ बच्चे समय लेते हैं। कई बच्चे जब छोटे होते हैं तो उनका मूत्राशय सामान्य से छोटा होता है। इस वजह से वे रात भर पेशाब करते रहते हैं और बिस्तर गिला करते रहते हैं। 

मूत्र संक्रमण 
अगर बच्चे को मूत्र संक्रमण (urine infection) हो जाये तो बच्चे को बार बार पेशाब लगेगा। रात को सोते वक्त बच्चा पेशाब को नियंत्रित नहीं कर पायेगा। मूत्र संक्रमण में बच्चे को पेशाब में जलन, बुखार, बार बार पेशाब, और पेशाब की मात्रा में कमी आता है। 

अनुवांशिकता (hereditary)
एक अध्यन के अनुसार, 70 प्रतिशत बच्चे जिनमे पेशाब करने की समस्या पाई जाती है यह भी पाया गया की उनके माँ या बाप भी बचपन में बिस्तर पे पेशाब करते थे। DNA में मौजूद chromosome के द्वारा यह शारीरिक गुण माँ या बाप से बच्चे में आता है। 

हॉर्मोन 
इंसान के शरीर में पेशाब का नियंत्रण हॉर्मोन के द्वारा होता। इस हॉर्मोन को Anti Diuretic हॉर्मोन कहा जाता है। इस हॉर्मोन का कार्य होता है की किडनी को पेशाब के आने का संकेत दे। इस हॉर्मोन की कमी कारण किडनी को पेशाब के आने का समय पे पता ही नहीं चल पता और बच्चा रात को सोते वक्त बिस्तर पे पेशाब कर देता है। 

मानसिक तनाव के कारण
कभी कभी बच्चा जब अत्यधिक तनाव में भी होता है तो बिस्तर पे पेशाब कर देता है। बच्चे को यह तनाव किसी भी कारण से हो सकता है जैसे की डांट, मार, घर से दूर रहना, डर लगना, अकेले सोना, परीक्षा में अच्छे मार्क्स स्कोर करना इत्यादि। 

तांत्रिक प्रणाली का सही तरीके से काम ना करना
कई बार जब बच्चों की तांत्रिक प्रणाली सही ढंग से कार्य नहीं करती तो बच्चों को इस परिशानी को झेलना पड़ता है। जब तांत्रिक प्रणाली सही ढंग से कार्य नहीं करता तो मूत्राशय भरा होने के बावजूद बच्चों के दिमाग को सही समय पे सन्देश नहीं मिल पाता और बच्चा बिस्तर के पेशाब कर देता है। 

मधुमेह 
मधुमेह की समस्या काफी बढ़ती जा रही है। यह एक गंभीर समस्या है। सिर्फ वयस्कों में ही नहीं वरन मधुमेह की समस्या अब बच्चों में भी आम बात होती जा रही है। मधुमेह से पीड़ित बच्चे अक्सर बिस्तर में पेशाब कर देते हैं। खून के जाँच के द्वारा मधुमेह के बारे में पता लगाया जा सकता है की बच्चा मधुमेह से ग्रसित है की नहीं। 

बच्चे बिस्तर गीला क्यों करते है

Video: बेड वेटिंग का मेडिकल उपचार - Medical treatment of bed wetting

Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

आयरन-से-भरपूर-आहार
सर्दी-जुकाम-से-बचाव
बच्चों-में-टाइफाइड
बच्चों-में-अंजनहारी
बच्चों-में-खाने-से-एलर्जी
बच्चों-में-चेचक
डेंगू-के-लक्षण
वायरल-बुखार-Viral-fever
बच्चों-का-घरेलू-इलाज
बच्चों-में-यूरिन
बच्चों-में-न्यूमोनिया
बच्चों-में-सर्दी
एंटी-रेबीज-वैक्सीन
चिकन-पाक्स-का-टिका
टाइफाइड-वैक्सीन
दिमागी-बुखार
शिशु-का-वजन-बढ़ाने-का-आहार
येलो-फीवर-yellow-fever
हेपेटाइटिस-बी
हैजा-का-टीकाकरण---Cholera-Vaccination
गर्मियों-से-बचें
बच्चों-का-मालिश
बच्चों-का-मालिश
बच्चों-की-लम्बाई
उल्टी-में-देखभाल
ठोस-आहार
शहद-के-फायदे
बच्चो-में-कुपोषण
हाइपोथर्मिया-hypothermia
बच्चे-क्यों-रोते

Most Read

गर्भ-में-लड़का-होने-के-लक्षण-इन-हिंदी
बच्चे-का-वजन
टीकाकरण-चार्ट-2018
शिशु-का-वजन-बढ़ाएं
बच्चों-में-यूरिन
बच्चों-को-गोरा-करने-का-तरीका-
कई-दिनों-से-जुकाम
खांसी-की-अचूक-दवा
बंद-नाक
balgam-wali-khansi-ka-desi-ilaj
sardi-jukam
सर्दी-जुकाम-की-दवा
बच्चे-की-भूख-बढ़ाने-के-घरेलू-नुस्खे

Other Articles

जानलेवा हो सकता है गर्भावस्था में Vitamin B12 का ना लेना
जानलेवा-हो-सकता-है-गर्भावस्था-में-Vitamin-B12-का-ना-लेना पूरी गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला के लिए यह बहुत आवश्यक है की वह ऐसे पोषक तत्वों को अपने आहार में सम्मिलित करें जो गर्भ में पल रहे शिशु के विकास के लिए जरूरी है। गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला के शरीर में कई प्रकार के परिवर्तन होते हैं तथा गर्भ में पल रहे शिशु का विकास भी बहुत तेजी से होता है और इस वजह से शरीर को कई प्रकार के पोषक तत्वों की आवश्यकता पड़ती है। पोषक तत्वों की कमी शिशु और माँ दोनों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। इसी तरह का एक बहुत महत्वपूर्ण पोषक तत्व है Vitamin B12.
Read More...

होली सिखाये बच्चों को मानवीय मूल्यों का महत्व
होली-सिखाये-बच्चों होली मात्र एक त्यौहार नहीं है, बल्कि ये एक मौका है जब हम अपने बच्चों को भारतीय संस्कृति के बारे में जागरूक कर सकते हैं। साथ ही यह त्यौहार भाईचारा और सौहाद्रपूर्ण जैसे मानवीय मूल्यों का महत्व समझने का मौका देता है।
Read More...

6 महीने के शिशु का आदर्श वजन और लम्बाई
6-महीने-के-शिशु-का-वजन 6 महीने के शिशु (लड़के) का वजन 7.9 KG और उसकी लम्बाई 24 से 27.25 इंच के आस पास होनी चाहिए। जबकि 6 महीने की लड़की का वजन 7.3 KG और उसकी लम्बाई 24.8 और 28.25 इंच होनी चाहिए। शिशु के वजन और लम्बाई का अनुपात उसके माता पिता से मिले अनुवांशिकी और आहार से मिलने वाले पोषण पे निर्भर करता है।
Read More...

बच्चों की नाक बंद होना - सरल उपचार
बच्चों-की-नाक-बंद-होना बदलते मौसम में शिशु को जुकाम और बंद नाक की समस्या होना एक आम बात है। लेकिन अच्छी बात यह है की कुछ बहुत ही सरल तरीकों से आप अपने बच्चों की तकलीफों को कम कर सकती हैं और उन्हें आराम पहुंचा सकती हैं।
Read More...

अकस्मात शिशु मृत्यु सिंड्रोम (SIDS) - कारण और बचाव
SIDS कुछ बातों का ख्याल अगर रखा जाये तो शिशु को SIDS की वजह से होने वाली मौत से बचाया जा सकता है। अकस्मात शिशु मृत्यु सिंड्रोम (SIDS) की वजह शिशु के दिमाग के उस हिस्से के कारण हो सकता है जो बच्चे के श्वसन तंत्र (साँस), दिल की धड़कन और उनके चलने-फिरने को नियंत्रित करता है।
Read More...

ठण्ड में ऐसे करें बच्चों की देखभाल तो नहीं पड़ेंगे बीमार
winter-season बच्चों की मन जितना चंचल होता है, उनकी शरारतें उतनी ही मन को मंत्रमुग्ध करने वाली होती हैं। अगर बच्चों की शरारतों का ध्यान ना रखा जाये तो उनकी ये शरारतें उनके लिए बीमारी का कारण भी बन सकती हैं।
Read More...

बच्चे बुद्धिमान बनते हैं जब आप हर दिन उनसे बात करते हैं|
बच्चे-बुद्धिमान आज के बदलते परिवेश में जो माँ-बाप समय निकल कर अपने बच्चों के साथ बातचीत करते हैं, उसका बेहद अच्छा और सकारात्मक प्रभाव उनके बच्चों पे पड़ रहा है। बच्चों की अच्छी परवरिश करने के लिए सिर्फ पैसों की ही नहीं वरन समय की भी जरुरत पड़ती है। बच्चे माँ-बाप के साथ जो क्वालिटी समय बिताते हैं, वो आप खरीद नहीं सकते हैं। बच्चों को जितनी अच्छे से उनके माँ-बाप समझ सकते हैं, कोई और नहीं।
Read More...

सूजी उपमा बनाने की विधि - शिशु आहार
सूजी-उपमा सूजी का उपमा एक ऐसा शिशु आहार है जो बेहद स्वादिष्ट है और बच्चे बड़े मन से खाते हैं| यह झट-पैट त्यार हो जाने वाला शिशु आहार है जिसे आप चाहे तो सुबह के नाश्ते में या फिर रात्रि भोजन में भी परसो सकती हैं| शिशु आहार baby food for 9 month old baby
Read More...

केले का प्यूरी बनाने की विधि - शिशु आहार
केले-का-प्यूरी केला पौष्टिक तत्वों का बेहतरीन स्रोत है। ये उन फलों में से एक हैं जिन्हे आप अपने बच्चे को पहले आहार के रूप में भी दे सकती हैं। इसमें लग-भग वो सारे पौष्टिक तत्त्व मौजूद हैं जो एक व्यक्ति के survival के लिए जरुरी है। केले का प्यूरी बनाने की विधि - शिशु आहार (Indian baby food)
Read More...

हरे मटर की प्यूरी बनाने की विधि - शिशु आहार
मटर-की-प्यूरी फाइबर और पौष्टिक तत्वों से युक्त, मटर की प्यूरी एक बेहतरीन शिशु आहार है छोटे बच्चे को साजियां खिलने का| Step-by-step instructions की सहायता से जानिए की किस तरह आप ताज़े हरे मटर या frozen peas से अपने आँखों के तारे के लिए पौष्टिक मटर की प्यूरी कैसे त्यार कर सकते हैं|
Read More...

जुडवा बच्चों का गावं - हैरत में डाल दे
जुडवा-बच्चों-का-गावं जुड़वाँ बच्चे पैदा होना इस गावं में आम बात है और इस गावं की खासियत भी| इसी कारण इस गावं में जुड़वाँ बच्चों की संख्या हर साल बढ़ रही है|
Read More...

12 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe)
12-month-baby-food-chart 12 महीने या 1 साल के बच्चे को अब आप गाए का दूध देना प्रारम्भ कर सकते हैं और साथ ही उसके ठोस आहार में बहुत से व्यंजन और जोड़ सकते हैं। बढ़ते बच्चों के माँ-बाप को अक्सर यह चिंता रहती है की उनके बच्चे को सम्पूर्ण पोषक तत्त्व मिल पा रहा है की नहीं? इसीलिए 12 माह के बच्चे का baby food chart (Indian Baby Food Recipe) बच्चों के आहार सारणी की जानकारी दी जा रही है। संतुलित आहार चार्ट
Read More...

बारिश में शिशुओं और बच्चों को स्वस्थ्य रखने के नुस्खे
बारिश-में-शिशुओं-का-स्वस्थ्य बच्चे बरसात के मौसम का आनंद खूब उठाते हैं। वे जानबूझकर पानी में खेलना और कूदना चाहते हैं। Barsat के ऐसे मौसम में आप की जिम्मेदारी अपने बच्चों के प्रति काफी बढ़ जाती हैं क्योकि बच्चा इस barish में भीगने का परिणाम नहीं जानता। इस स्थिति में आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा।
Read More...

बच्चों को सिखाएं प्रेम और सहनशीलता का पाठ
प्रेम-और-सहनशीलता आज के दौर के बच्चे बहुत egocentric हो गए हैं। आज आप बच्चों को डांट के कुछ भी नहीं करा सकते हैं। उन्हें आपको प्यार से ही समझाना पड़ेगा। माता-पिता को एक अच्छे गुरु की तरह अपने सभी कर्तव्योँ का निर्वाह करना चाहिए। बच्चों को अच्छे संस्कार देना भी उन्ही कर्तव्योँ में से एक है।
Read More...

बच्चे के मेमोरी को बूस्ट करने का बेस्ट तरीका
बच्चे-के-मेमोरी-को-बूस्ट-करने-का-बेस्ट-तरीका बच्चे के साथ अगर पेरेंट्स सख़्ती से पेश आते है तो बच्चे सारे काम सही करते हैं। ऐसे वो सुबह उठने के बाद दिनचर्या यानि पेशाब ,पॉटी ,ब्रश ,बाथ आदि सही समय पर ले कर नाश्ते के लिए रेड़ी हो जायेंगे। और खुद से शेक और नाश्ता तथा कपड़े भी सही रूप से पहन सकेंगे।
Read More...

BCG वैक्सीन Guide (dose, side effects, precautions)
BCG-वैक्सीन बीसीजी का टिका (BCG वैक्सीन) से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी जैसे की dose, side effects, टीका लगवाने की विधि।The BCG Vaccine is currently uses in India against TB. Find its side effects, dose, precautions and any helpful information in detail.
Read More...

दूध पिने के बाद बच्चा उलटी कर देता है - क्या करें
दूध-पिने-के-बाद-बच्चा-उलटी-कर-देता-है----क्या-करें अगर आप का शिशु बहुत ज्यादा उलटी करता है, तो आप का चिंता करना स्वाभाविक है। बच्चे के पहले साल में दूध पिने के बाद या स्तनपान के बाद उलटी करना कितना स्वाभाविक है, इसके बारे में हम आप को इस लेख में बताएँगे। हर माँ बाप जिनका छोटा बच्चा बहुत उलटी करता है यह जानने की कोशिश करते हैं की क्या उनके बच्चे के उलटी करने के पीछे कोई समस्या तो नहीं। इसी विषेय पे हम विस्तार से चर्चा करते हैं।
Read More...

कैसे करें अपने शिशु की मालिश?
बच्चों-का-मालिश बच्चों का मालिश बहुत महत्वपूर्ण है। आप के बच्चे का स्पर्श आप के प्यार और दुलार का एक माध्यम है। मालिश इसी का एक रूप है। जिस प्रकार से आप के बच्चे को पौष्टिक भोजन की आवशकता अच्छे growth और development के लिए जरुरी है, उसी तरह मालिश भी जरुरी है।
Read More...

बच्चों में यूरिन कम या बार-बार होना
बच्चों-में-यूरिन मूत्राशय के संक्रमण के कारण बच्चों में यूरिन कम या बार-बार होना होने लगता है जो की एक गंभीर समस्या है। मगर सही समय पर सजग हो जाने से आप अपने बच्चे को इस बीमारी से और इस की समस्या को बढ़ने से रोक सकती हैं।
Read More...

बच्चों मे सीलिएक रोग: लक्षण और कारण
बच्चों-मे-सीलिएक बच्चों में होने वाली कुछ खास बिमारियों में से सीलिएक रोग (Celiac Disease ) एक ऐसी बीमारी है जिसे सीलिएक स्प्रू या ग्लूटन-संवेदी आंतरोग (gluten sensitivity in the small intestine disease) भी कहते हैं। ग्लूटन युक्त भोजन लेने के परिणामस्वरूप छोटी आंत की परतों को यह क्षतिग्रस्त (damages the small intestine layer) कर देता है, जो अवशोषण में कमी उत्पन्न करता (inhibits food absorbtion in small intestine) है। ग्लूटन एक प्रोटीन है जो गेहूं, जौ, राई और ओट्स में पाया जाता है। यह एक प्रकार का आटो इम्यून बीमारी (autoimmune diseases where your immune system attacks healthy cells in your body by mistake) है जिसमें शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता अपने ही एक प्रोटीन के खिलाफ एंटी बाडीज (antibody) बनाना शुरू कर देती है।
Read More...

Copyright: Kidhealthcenter.com