Category: प्रेगनेंसी

सिजेरियन की वजह से मौत

By: Editorial Team | 6 min read

दिल्ली की सॉफ्टवेयर काम करने वाले दिलीप ने अपनी जिंदगी को बहुत करीब से बदलते हुए देखा है। बात उन दिनों की है जब दिलीप और उनकी पत्नी रेखा अपनी पहली संतान के लिए बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। नन्हे से बच्चे की जन्म तक सब कुछ ठीक चला लेकिन उसके बाद एक दिन अचानक….

सिजेरियन की वजह से मौत

शिशु के जन्म के समय रेखा की उम्र करीब 26 साल थी।  गर्भावस्था के दौरान रेखा ने अपने खान-पान का पूरा ख्याल रखा।  तथा समय-समय पर डॉक्टरों से भी मिलती रही ताकि स्वास्थ्य के बारे में सभी जानकारी मिल सके और घर में पल रहे शिशु का स्वास्थ्य अच्छा रहे।  यूं देखा जाए तो सब कुछ ठीक चल रहा था।  फिर ड्यू  डेट के कुछ दिन पहले तकलीफें बढ़ने लगी  तो रेखा ने डॉक्टर से परामर्श लेने का निश्चय किया।

 डॉक्टर ने बताया कि  गर्भ में पल रहे बच्चे  ने हिलना डुलना बंद कर दिया है।  डॉक्टर ने  यह भी बताया कि यह एक आम बात है और इसमें घबराने वाली कोई बात नहीं है।  डॉक्टर ने रेखा को सिजेरियन डिलीवरी कराने की  सलाह दी। 

इस लेख मे :

  1. सिजेरियन डिलीवरी के बाद साफ सफाई और स्वास्थ्य
  2. सिजेरियन से मौत का खतरा
  3. सेप्सिस  प्रसव संबंधी मौत का तीसरा सबसे बड़ा कारण
  4. सीरियल में सेप्सिस  की वजह से होने वाली मौत का जिम्मेदार कौन?

सिजेरियन डिलीवरी के बाद साफ सफाई और स्वास्थ्य

सिजेरियन की डिलीवरी में करीब पचीस हजार का खर्चा आया।  पूरी ऑपरेशन प्रक्रिया ठीक तरह पूरी हुई।  शिशु के जन्म के बाद मां और बच्चे दोनों स्वस्थ थे।  बेटी के जन्म से पूरा घर  किलकारीयों से भर गया। परिवार ने बच्ची का नाम तारा  रखा।  

सिजेरियन डिलीवरी के बाद साफ सफाई और स्वास्थ्य

अगले 2 दिन तक पूरे घर में उत्सव का माहौल बना रहा।  लेकिन उसके बाद रेखा का ब्लड प्रेशर अचानक से गिरने लगा।  स्थिति यहां तक पहुंच गई की ब्लड प्रेशर गिरने की वजह से वह कांपने लगी।  आनन-फानन में परिवार वालों ने रेखा को नजदीकी नर्सिंग होम में भर्ती कराया।  लेकिन वहां के डॉक्टर को यह समझ नहीं आया कि क्या किया जाए इस वजह से रेखा को दिल्ली के एक बड़े अस्पताल में शिफ्ट किया गया।  मगर तक हालत इतनी नाजुक हो चुकी थी की रेखा को आईसीयू में भर्ती कराना पड़ गया।  2 दिनों के बाद रेखा की मौत हो गई।  दिलीप को समझ नहीं आ रहा था कि तू कहां हुई।

सिजेरियन से मौत का खतरा

 दोस्तों यह बात सुनने में थोड़ा अजीब लगेगा लेकिन सिजेरियन डिलीवरी में मां का खतरा बना रहता है।  ऐसा इसलिए क्योंकि शिशु को जन्म देने के लिए पेट पर C के आकार का चीर लगाया जाता है। 

सिजेरियन से मौत का खतरा

शिशु के जन्म के बाद सिजेरियन डिलीवरी की वजह से पेट पर बने घाव  के साफ-सफाई का ध्यान रखा जाए तो इसमें बैक्टीरिया से उत्पन्न होने वाले संक्रमण का खतरा बना रहता है। इस संक्रमण को 'सेप्सिस' कहते हैं।  विकसित देशों से अगर भारत की तुलना की जाए तो भारत में सेप्सिस कि मामले बहुत देखने को मिलते हैं।  भारत में हर साल करीब 45000 महिलाओं की मृत्यु सिजेरियन डिलीवरी के बाद सेप्सिस के संक्रमण की वजह से होता है। 

सेप्सिस  प्रसव संबंधी मौत का तीसरा सबसे बड़ा कारण

प्रसव के दौरान महिलाओं में होने वाली मृत्यु का तीसरा सबसे बड़ा कारण सेप्सिस है। इस विषय पर टोरंटो की विश्वविद्यालय में शोध भी किया गया।  

सेप्सिस प्रसव संबंधी मौत का तीसरा सबसे बड़ा कारण

शोध में सेप्सिस की वजह से हुई दस लाख मौतों का विश्लेषण किया गया - और साथ ही इनकी कारणों को समझने की कोशिश की गई। भारत में सेप्सिस के अधिकांश मामले सिजेरियन डिलीवरी की वजह से होते हैं।  यह बहुत ही दुखद बात है।  सिजेरियन डिलीवरी के बाद अगर साफ सफाई का ध्यान रखा जाए  तू किसी भी तरह की इंफेक्शन को फैलने से रोका जा सकता है और सिजेरियन के द्वारा होने वाली मौत   से पूरी  तेरा तरह से बचा जा सकता है। 

सीरियल में सेप्सिस  की वजह से होने वाली मौत का जिम्मेदार कौन?

दिलीप आज भी सदमे में हैं उन्हें यह समझ नहीं आ रहा है कि चुक कहां पर हुई।  उन्हें अभी भी यही लगता है कि गलती शायद डॉक्टर की या अस्पताल की थी।  

सीरियल में सेप्सिस की वजह से होने वाली मौत का जिम्मेदार कौन

दिलीप आज भी उस बात को याद करके कहते हैं कि उस वक्त हम गहरे सदमे में थे और उस हालात में ना तो अस्पताल से और ना ही डॉक्टर से यह पूछ सके कि आखिर हुआ क्या था? रेखा के भाई बताते हैं कि जिस  नर्सिंग होम में पहले लेकर गए थे वहां पर  बहुत ज्यादा गंदगी और धूल था।  वहां पर काम करने वाले लोगों को सफाई का ठीक तरह से प्रशिक्षण नहीं दिया गया था। 

 आज अगर यह बात भारत में रहने वाले सभी लोगों को समझ में आ जाए तो हर साल 45 हजार से ज्यादा महिलाओं को सिजेरियन डिलीवरी की वजह से होने वाली मौत से बचाया जा सकता है। 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

Footer