Category: शिशु रोग

बारिश में शिशुओं और बच्चों को स्वस्थ्य रखने के नुस्खे

By: Vandana Srivastava | 2 min read

बच्चे बरसात के मौसम का आनंद खूब उठाते हैं। वे जानबूझकर पानी में खेलना और कूदना चाहते हैं। Barsat के ऐसे मौसम में आप की जिम्मेदारी अपने बच्चों के प्रति काफी बढ़ जाती हैं क्योकि बच्चा इस barish में भीगने का परिणाम नहीं जानता। इस स्थिति में आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा।

rainy season - barsat mein bacchon ko rakehn bimari se dur

वर्षा ऋतु का आगमन हम सभी लोगो के लिए काफी आनंददायक और उल्लासपूर्ण होता हैं। खास कर बच्चे इस मौसम का आनंद खूब उठाते हैं। वे जानबूझकर पानी में खेलना ,कूदना , छाता लेकर इधर - उधर घूमना या रेनकोट पहनकर बाहर लॉन में छपाक - छपाक करना बहुत पसंद करते हैं। सबसे मज़ेदार तो छोटे बच्चो को पापा की गोद में चढ़कर पानी में भीगते हुए स्कूल जाना लगता हैं। उमस भरी गर्मी और सूरज के तीख़े तेवर के बाद बारिश का आना तन और मन दोनों को भिगो जाता हैं।

बारिश के ऐसे मौसम में आप की जिम्मेदारी अपने बच्चों के प्रति काफी बढ़ जाती हैं क्योकि बच्चा इस बारिश में भीगने का परिणाम नहीं जानता। इस स्थिति में आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा:

  1. अपने बच्चे के कमरे का तापमान सामान्य रखे।
  2. कमरे की सफाई पर विशेष ध्यान दे जैसे - फिनायल डालकर पोछा लगवाए।
  3. अपने बच्चे के कमरे को सीलनमुक्त रखे।
  4. उनके कमरे में पर्याप्त हवा आने दे।
  5. शाम के समय खिड़की - दरवाज़े बंद कर दे ताकि मच्छर और कीड़े - मकोड़े कमरे में ना आ सके।
  6. बच्चे यदि बारिश के पानी में भीग जाते हैं तो गुनगुने पानी में डेटोल के कुछ बूंदे डालकर उन्हें स्नान कराए।
  7. सूखे तौलिये से बच्चे के शरीर को सुखाए। सरसों के तेल से बच्चे के शरीर की हलकी मालिश कर दें।
  8. बच्चे के पैरों को साफ पानी से धुलवा कर तौलिये से सुखवा दें।
  9. गर्म दूध में हल्दी डालकर बच्चे को पिलाएं।
  10. खाना ताज़ा और गर्म ही खिलाए।
  11. अदरक ,हल्दी और अन्य जड़ीबूटियों को बच्चे की खुराक में शामिल करें।
  12. अपने बच्चे को गर्म पेय पदार्थ पीने को दें।
  13. फलों को खिलाने के लिए अच्छी तरह से धो कर ही खिलाए।
  14. सब्जी बनाने से पहले गर्म पानी से अच्छी तरीके से धो लें।
  15. सलाद और कच्चे अंडे से परहेज करें।
  16. लस्सी, छाछ और दही बच्चे को ना दें।
  17. इस मौसम में बच्चे को फ़िल्टर का पानी या उबला हुआ ही पानी दें।
  18. बच्चे के शरीर में पानी की कमी ना होने दें , उसे थोड़ी - थोड़ी देर पर पानी या जूस पिलाते रहे। गर्मी अधिक होने पर पसीने के रूप में शरीर से पानी निकल जाता हैं और डिहाइड्रेशन की शिकायत हो जाती हैं।
  19. बारिश के बाद घर के आस - पास पानी इकठा हो जाता हैं जिसमें कीड़े - मकोड़े और मछर अपना घर बना लेते हैं , वह बच्चे को ना जाने दें।
  20. बच्चों को गीले मोज़े ना पहनने दें ,नहीं तो संक्रमण होने का डर रहता हैं।
  21. बारिश के मौसम में बच्चे को ढीले सूती कपड़े पहनाए ,जिससे उनके शरीर में हवा लगाती रहे।
  22. बच्चा जब खेल कर वापस आए ,तो उसके कपड़े बदलवा दें।
  23. किसी टैलकम या मेडिकेटेड पाउडर का प्रयोग करें। उसके जोड़ो और अंदर के हिस्से पर पाउडर लगाए।घर में मौजूद कूलर का पानी रोज़ बदले ,नहीं तो घर में मछर पनपनें लगेंगे।
  24. रात को सोते समाये मछरदानी अवश्य लगवाए।
  25. बारिश के मौसम में किसी भी तरह का इन्फेक्शन जल्दी होता हैं , इसलिए अपने बच्चे के शरीर की सफाई का ध्यान दें।
  26. अपने बच्चे के कपड़े को डेटोल के पानी से अवश्य धोए।
  27. बच्चे के इस्तेमाल की जाने वाली प्रत्येक वास्तु की साफ - सफाई का ध्यान रखें।

 

बारिश का मौसम बच्चे और बीमारी

इस तरह बारिश का मौसम जितना खुशनुमा और आनंददायक होता हैं , उतना ही बच्चों के स्वास्थय सम्बन्धी समस्याए लेकर आता हैं ,लेकिन अगर समझदारी से बच्चे की देख - भाल की जाए तो ये समस्याए बहुत ही आसानी से दूर हो जाएगी। आप और आप का बच्चा दोनों ही इस मानसूनी मौसम का आनंद उठा सकेगे।


Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_120.txt
Footer