Category: टीकाकरण (vaccination)

दिमागी बुखार - मेनिन्जइटिस (Meningitis) का वैक्सीन

By: Vandana Srivastava | 6 min read

दिमागी बुखार (मेनिन्जइटिस) की वजह से दिमाग को नुकसान और मौत हो सकती है। पहले, बहुत अधिक बच्चों में यह बीमारियां पाई जाती थी, लेकिन टीकों के इस्तेमाल से इस पर काबू पाया गया है। हर माँ बाप को अपने बच्चों को यह टिका अवश्य लगवाना चाहिए।

brain fever

अपने बच्चे को पूरी तरह से फिट रखने के लिए आप को टीका करण पर विशेष ध्यान देना होगा और समय - समय पर टीका चार्ट के अनुसार उसे टीका लगवाना होगा, जिससे वह मेनिन्जइटिस जैसी बीमारी से बच सके।

इस लेख में आप सीखेंगे - You will read in this article

  1. दिमागी बुखार कया है?
  2. वक्सीनशन खुराक / मात्रा
  3. टीका लगवाने का कारण
  4. मेनिन्जइटिस वैक्सीन  कब और किसे देना चाहिए?
  5. कुछ बच्चों कों मेनिन्जइटिस वैक्सीन  नहीं लगवाना चाहिए।
  6. मेनिन्जइटिस वैक्सीन  से क्या खतरे हैं?
  7. मेनिन्जइटिस वैक्सीन का रिएक्शन
  8. गंभीर प्रतिक्रिया होने पर क्या करें
  9. Video: बच्चों में दिमागी बुखार

 दिमागी बुखार कया है? - What is brain fever (Meningitis) in children?

 मेनिन्जइटिस या सेरिब्रो - स्पाइनल बुखार ( जिसे साधारणतः : “ ब्रेन फीवर ” या गर्दनतोड़ बुखार ” कहते हैं ) ब्रेन की झिल्लियों में होने वाला यह एक भयंकर रोग है। 

यह  विभिन प्रकार के वायरस व बैक्टीरिया आदिः के कारण हो सकता है। मेनिन्जइटिस का हर प्रकार, संक्रामक तथा रोकथाम किया जा सकने वाला होता है। 

केवल एक बैक्टीरिया जिसे मेनिंगोकोकस कहते हैं, उससे होने वाली मेनिन्जइटिस बीमारी को रोकने के लिए वैक्सीन  उपलब्ध है। यह वैक्सीन 50 रू प्रति खुराक की दर से बाजार में उपलब्ध है।

Japanese fever

 वक्सीनशन खुराक / मात्रा - Meningitis Vaccination Dose

त्वचा के नीचे ( सबकूटेनिअस ) या मांसपेशी में ( इंट्रामस्कुलर ) इंजेक्शन के द्वारा –  0.5 मी. ली. की केवल एक खुराक।

  • इसकी खुराक हर 3 साल बाद दोहराएँ।
  • यह वैक्सीन 2 वर्ष से अधिक आयु के बच्चों को लगवाना चाहिए। 

 टीका लगवाने का कारण - Importance of Meningitis vaccination

बच्चो में खसरा, गलगंड ( मम्स ) और जर्मन खसरा ( रूबेल ) गंभीर बीमारियां होती हैं। इससे दिमाग को नुकसान और मौत हो सकती है। 

पहले, बहुत अधिक बच्चों में यह बीमारियां पाई जाती थी, लेकिन टीकों  के अविष्कार के बाद इस पर काबू पाया गया है। मेनिन्जइटिस वैक्सीन खसरा, मंप्से और रूबेल इन तीनों बीमारियों से बच्चोंर की रक्षा करता है।

टीकाकरण की  बदौलत, ये बीमारियां अब भारत में पहले से कहीं कम हैं। परंतु यदि हम टीकाकरण को रोक दें तो वे लौट आएंगी।

dimagi bukhar

 मेनिन्जइटिस वैक्सीन  कब और किसे देना चाहिए ? - Meningitis Vaccine timings

बच्चों को मेनिन्जइटिस वैक्सीन की 2 खुराकें दी जानी चाहिएं।

  • पहली खुराक: 12-15 माह की उम्र पर।
  • दूसरी खुराक: 4-6 वर्ष की उम्र पर ( पहले भी दी जा सकती है, यदि वह पहली खुराक के कम से कम 28 दिन बाद हो )।
  • 12 माह से छोटी उम्र के कुछ शिशुओं को मेनिन्जइटिस वैक्सीन की एक खुराक दी जानी चाहिए यदि वे विदेश यात्रा कर रहा हो। कुछ वयस्कों  को भी मेनिन्जइटिस वैक्सीन लगवाना चाहिए। जिनकी उम्र 18 वर्ष या उससे बड़ी हो, मेनिन्जइटिस वैक्सीन की कम से कम एक खुराक लेनी चाहिए, जब तक वे यह न दिखाएं कि या तो उनका टीका करण हो चुका है या उन्हेंी तीनों बीमारियां हो चुकी हैं।
  • मेनिन्जइटिस वैक्सीन, दूसरे टीकों के साथ ही दिए जा सकते हैं।
  • 1 से 12 वर्ष की उम्र के बीच के बच्चों  को एक “ संयोजन ” टीका दिया जा सकता है। जिसे मेनिन्जइटिस वैक्सीन कहते हैं। इसमें मेनिन्जइटिस वैक्सीन और छोटी माता ( चिकनपॉक्सस ) दोनों टीके होते हैं।

 कुछ बच्चों कों मेनिन्जइटिस वैक्सीन  नहीं लगवाना चाहिए - Conditions when Meningitis vaccine should not be given

  • यदि आप के बच्चे को एंटीबायोटिक से कभी जीवन को खतरे में डालने वाली एलर्जी प्रतिक्रिया हुई हो, अथवा किसी अन्यट टीके से ऐसा हुआ हो तो। यदि बच्चे को कोई गंभीर एलर्जी हैं तो अपने डॉक्ट र को बताएं।
  • किसी भी बच्चे को जिसे MMR  अथवा MMRV  टीके की पहली खुराक से कभी जीवन को खतरे में डालने वाली एलर्जी प्रतिक्रिया हुई हो, उसे दूसरी खुराक नहीं दी जानी चाहिए।
  • किसी भी बच्चे को, जो टीके के लिए निर्धारित समय पर बीमार हों उन्हें  सलाह दी जाएगी कि वे ठीक होने तक इंतजार करें और उसके बाद ही मेनिन्जइटिस का टीका लगवाएं।

 मेनिन्जइटिस वैक्सीन  से क्या खतरे हैं ? Dangers of Meningitis vaccination

  • किसी भी दवा की भांति, टीके से भी संभाव्यह रूप से गंभीर समस्या एं हो सकती हैं, जैसे कि गंभीर एलर्जी प्रतिक्रियाएं।
  • मेनिन्जइटिस वैक्सीन  से गंभीर नुकसान, या मृत्युल होने का खतरा बहुत की कम होता है।
  • मेनिन्जइटिस वैक्सीन लगवाना उस स्थिति से कहीं अधिक सुरक्षित है जितना कि खसरा, मंप्स। अथवा रूबेल की बीमारी हो जाना।

 मेनिन्जइटिस वैक्सीन का रिएक्शन - Reaction of Meningitis vaccination

मेनिन्जइटिस वैक्सीन लगवाने वाले अधिकांश बच्चों को इसके कारण कोई भी गंभीर समस्या नहीं होती। कभी - कभी दवा के रिएक्शन के समान हल्कीं समस्या्एं होती हैं। जैसे:

  • बुखार आना।
  • चकत्ता पड़ना।
  • गालों अथवा गर्दन की ग्लैंड में सूजन आना।

यदि ये समस्याएं होती हैं तो सामान्यत: ये वैक्सीन दिए जाने के 6-14 दिनों के भीतर होती हैं। दूसरी खुराक के बाद ये और भी कम होती हैं।

मेनिन्जइटिस

 गंभीर प्रतिक्रिया होने पर क्या करें  

कोई भी असामान्यय दशा, जैसे कि अधिक बुखार अथवा असामान्य: व्यकवहार होने पर डॉक्टिर को फोन करें,  अथवा प्रभावित व्यैक्ति को तुरंत डॉक्टार के पास ले जाएं।

  • अपने डॉक्टयर को बताएं कि क्या् हुआ,  होने की तारीख और समय, और टीका कब दिया गया था।
  • अपने डॉक्टयर से पूछें कि आपको एक वैक्सीआन एडवर्स र्इवेंट रिपोर्टिंग सिस्ट म ( VAERS ) फार्म प्रतिक्रिया की रिपोर्ट करनी है। अथवा आप यह रिपोर्ट VAERS की वेबसाइट www.vaers.hhs.gov पर भरकर,  अथवा 1-800-822-7967 पर कॉल कर के दे सकते हैं।

 Video: बच्चों में दिमागी बुखार - Brain fever in children

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

बच्चों-मे-सीलिएक
बच्चों-में-स्किन-रैश-शीतपित्त
बच्चों-में-अण्डे-एलर्जी
बच्चे-को-दूध-से-एलर्जी
दस्त-में-शिशु-आहार
टीकाकरण-चार्ट-2018
बच्चों-का-गर्मी-से-बचाव
आयरन-से-भरपूर-आहार
सर्दी-जुकाम-से-बचाव
बच्चों-में-टाइफाइड
बच्चों-में-अंजनहारी
बच्चों-में-खाने-से-एलर्जी
बच्चों-में-चेचक
डेंगू-के-लक्षण
बच्चों-में-न्यूमोनिया
बच्चों-का-घरेलू-इलाज
बच्चों-में-यूरिन
वायरल-बुखार-Viral-fever
बच्चों-में-सर्दी
एंटी-रेबीज-वैक्सीन
चिकन-पाक्स-का-टिका
टाइफाइड-वैक्सीन
शिशु-का-वजन-बढ़ाने-का-आहार

Most Read

Other Articles

indexed_40.txt
Footer