Category: शिशु रोग

10 टिप्स - नवजात शिशुओं में कब्ज की समस्या का तुरंत समाधान

By: Salan Khalkho | 13 min read

10 ऐसे आसान तरीके जिनकी सहायता से आप अपने नवजात शिशु में कब्ज की समस्या का तुरंत समाधान कर पाएंगी। शिशु के जन्म के शुरुआती दिनों में कब्ज की समस्या का होना बहुत ही आम बात है। अपने बच्चे को कब्ज की समस्या से होने वाले तकलीफ से गुजरते हुए देखना किसी भी मां-बाप के लिए आसान नहीं होता है। जो बच्चे सिर्फ स्तनपान पर निर्भर रहते हैं उन्हें हर दिन मल त्याग करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि मां के दूध में उपलब्ध सभी पोषक तत्व शिशु का शरीर ग्रहण कर लेता है। यह बहुत ही आम बात है। प्रायर यह भी देखा गया है कि जो बच्चे पूरी तरह से स्तनपान पर निर्भर रहते हैं उनमें कब्ज की समस्या भी बहुत कम होती है या नहीं के बराबर होती है। जो बच्चे फार्मूला दूध पर निर्भर रहते हैं उन्हें प्रायः देखा गया है कि वे दिन में तीन से चार बार मल त्याग करते हैं - या फिर कुछ ऐसे भी बच्चे हैं जिन्हें अगर फार्मूला दूध दिया जाए तो वह हर कुछ कुछ दिन रुक कर मल त्याग करते हैं।

नवजात शिशुओं में कब्ज की समस्या का तुरंत समाधान

इस लेख को पढ़ने से पहले मैं चाहूंगा कि आप इस बात का ध्यान रखें कि हर शिशु का तंत्र भिन्न भिन्न होता है जिस तरह से हर शिशु की कद काठी अलग अलग होती है। इसीलिए जरूरी नहीं कि आपके शिशु के मल त्याग करने का तरीका दूसरे अन्य शिशुओं की तरह ही हो।  

आपको अपने शिशु के लक्षणों को पहचान कर इस बात का अंदाजा लगाना पड़ेगा कि आप की शिशु को कब्ज है या नहीं है।  

शिशु के मल त्याग करने का तरीका (bowel movement patterns) कई बातों पर निर्भर करता है -  मसलन -  शिशु को कौन सा दूध दिया गया,  इस ठोस आहार की शुरुआत की गई है या नहीं -  तथा -   कौन कौन से आहार शिशु खा रहा है जिनसे कब्ज की समस्या हो सकती है।  

अगर शिशु  स्तनपान पर आधारित है तो शिशु के कब्ज की समस्या मां की खानपान पर भी निर्भर करता है। 

मां होने के नाते यह आवश्यक है आपके लिए कि आप अपने बच्चे के कफ के लक्षणों को पहचान सके।  अगर आप अपने बच्चे की कब्ज के लक्षणों को पहचान सकेंगे तो समय रहते शिशु  के कब्ज की समस्या का निदान कर पाएंगी। 

इस लेख में:

  1. शिशु में कब्ज के लक्षण के प्रकार
  2. मल त्याग करते वक्त ताकत या जोर लगाना
  3. पेट का फूलना यह सख्त रहना
  4. शिशु द्वारा आहार ग्रहण करने से इनकार करना
  5. 10 टिप्स - शिशु में कब्ज की समस्या का उपाय
  6. दूध को बदल कर देखिए
  7. फार्मूला दूध बनाने में सावधानी
  8. शिशु में ठोस आहार
  9. पिसा हुआ आहार (Pureed foods)
  10. तरल आहार की मात्रा को बढ़ाएं
  11. अपने शिशु को थोड़ी थोड़ी कसरत कराएं
  12. अपने शिशु का हल्के हाथों से मसाज करें
  13. ग्लिसरीन suppository
  14. जुलाब - laxatives
  15. डॉक्टर की राय लें

शिशु में कब्ज के लक्षण के प्रकार

शिशु में कब्ज के लक्षण के प्रकार

  1. अनियमित मल त्याग (Infrequent bowl movement) 
  2.  मल त्याग करते वक्त ताकत या जोर लगाना
  3.  पेट का फूलना यह सख्त रहना
  4.  शिशु द्वारा आहार ग्रहण करने से इनकार करना 

अनियमित मल त्याग (Infrequent bowl movement) 

आपका शिशु दिन में कितनी बार मल त्याग करता है और किस किस समय पर मल त्याग करता है इसमें हर दिन आप कुछ परिवर्तन देख सकती हैं।  

यह बिल्कुल सहज बात है और चिंता करने का  विषय नहीं है।  अगर आप अपने शिशु को किसी नए प्रकार का आहार भी हैं तो इस वजह से भी उसके मल त्याग करने के तरीके में यह समय में परिवर्तन हो सकता है।  

लेकिन अगर कुछ दिन तक मल त्याग ना करें तो इसका मतलब साफ है कि उसे  कब्ज की समस्या  हो रही है। कब्ज की समस्या केवल इस बात पर निर्भर नहीं करती है कि शिशु कितनी बार मल त्याग करता है और कब कब मल त्याग करता है।  

बल्कि शिशु के कब्ज की समस्या इस बात पर भी निर्भर करती है कि शिशु का मल कितना ठोस है।  अगर यह बहुत  ठोस है तो उसे कब्ज की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

मल त्याग करते वक्त ताकत या जोर लगाना

मल त्याग करते वक्त ताकत या जोर लगाना

अगर मल त्याग करते वक्त आप पाए कि  आपके शिशु को बहुत ज्यादा जोर लगाना पड़ता है तो यह भी कब्ज की समस्या का एक लक्षण है।  

जब बच्चे छोटे होते हैं तो कब्ज की समस्या  की वजह से मल त्याग करते वक्त बहुत जोर लगाने से उनके चेहरे लाल पड़ जाते हैं और कई बार वे रोने भी लगते हैं। 

कई बार तो मल त्याग करते वक्त मल के साथ साथ थोड़ी मात्रा में खून भी निकल आता है।  हालांकि यह चिंता का विषय नहीं है क्योंकि ठोस मल की वजह से मल त्याग की जगह पर सूरज जाने की वजह से खून निकलता है -  लेकिन फिर भी इस बात का ध्यान रखना बहुत जरूरी है कि बच्चे को कब्ज की समस्या का सामना ना करना पड़े। 

कब्ज के दौरान शिशु को मल त्याग करते वक्त बहुत तकलीफ होती है यही वजह है कि कई बार बच्चे मल त्याग करने से ही इनकार कर देते हैं। 

पेट का फूलना यह सख्त रहना

पेट का फूलना यह सख्त रहना

अगर अपनी शिशु के पेट को छूने पर आप पाए कि आपके शिशु का पेट कुछ ज्यादा खुला हुआ है या सामान्य से ज्यादा टाइट है तो इसका मतलब है कि आपका शिशु  कब्ज की समस्या का सामना कर रहा है। 

शिशु द्वारा आहार ग्रहण करने से इनकार करना

शिशु द्वारा आहार ग्रहण करने से इनकार करना 

 कई बार कब्ज की समस्या के कारण ही शिशु आहार ग्रहण करने से भी इनकार कर देते हैं।  तो अगर आप का शिशु अचानक से स्तनपान करने से या फार्मूला दूध पीने से या ठोस आहार ग्रहण करने से इनकार करने लगे तो उसके पेट को टटोल कर के देखिए या दूसरे लक्षणों के द्वारा यह पता लगाने की कोशिश करें कि कहीं उसे कब्ज की समस्या तो नहीं हो रही है। 

शिशु में कब्ज की समस्या का उपाय

10 टिप्स - शिशु में कब्ज की समस्या का उपाय

 अगर आप अपने शिशु में कब्ज की समस्या के कोई भी लक्षण पाए तो आपको उपाय करने चाहिए ताकि उसकी कब की समस्या दूर हो सके।  हम यहां पर आपको 10 आसान तरीके बता रहे हैं जिनकी  सहायता से आप अपने शिशु के कब्ज की समस्या को दूर कर सकेंगी।

  1. दूध को बदल कर देखिए
  2. फार्मूला दूध बनाने में सावधानी
  3. शिशु में ठोस आहार
  4. पिसा हुआ आहार (Pureed foods)
  5. तरल आहार की मात्रा को बढ़ाएं
  6. अपने शिशु को थोड़ी थोड़ी कसरत कराएं
  7. अपने शिशु का हल्के हाथों से मसाज करें
  8. ग्लिसरीन suppository 
  9. जुलाब - laxatives
  10. डॉक्टर की राय लें

दूध को बदल कर देखिए

१. दूध को बदल कर देखिए

 अगर आपने अनुभव किया है कि फार्मूला दूध की वजह से आपके शिशु को कब्ज की समस्या हो रही है तो आप अपने शिशु को दूसरे ब्रांड की फार्मूला दूध देखकर देखिए। 

अगर आपका शिशु स्तनपान पर आधारित है तो अपने आहार के ध्यान दीजिए।  कहीं ऐसा तो नहीं कि आप कोई ऐसा आहार खा रहे हैं जिससे आपके शिशु को कब्ज की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। 

फार्मूला दूध बनाने में सावधानी

२. फार्मूला दूध बनाने में सावधानी

 कहीं पर बच्चों को फार्मूला दूध पीने से इसलिए भी कब्ज की  समस्या होती है क्योंकि उन्हें सही तरीके से तैयार नहीं किया गया है।  अगर आप अपने शिशु को फार्मूला दूध दे रही हैं तो फार्मूला दूध के डब्बे पर  जो instruction  लिखा है उसे सावधानीपूर्वक अवश्य पढ़ने।  

जितना बताया गया है उतना ही  फार्मूला दूध चम्मच से नाप कर उचित मात्रा में पानी में मिलाएं।  फार्मूला दूध को एक निश्चित औसत में पानी में मिलाना चाहिए।  

इसके औसत में बदलाव आने पर मल बहुत खुश हो जाता है और शिशु को मल त्याग करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। 

शिशु में ठोस आहार

3. शिशु में ठोस आहार

 जब आप शिशु में ठोस आहार की शुरुआत करती हैं तो सभी प्रकार के आहार एक साथ देना प्रारंभ ना करें।  अपने शिशु को एक बार में एक ही आहार की शुरुआत करें।  

कुछ आहार ऐसे होते हैं जिनकी वजह से शिशु को कब्ज की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।  इसीलिए जब आप अपने शिशु को एक बार में एक ही आहार देती हैं तो इससे आसानी से पता चल जाता है कि कौन से आहार आपके शिशु में कब्ज की समस्या को पैदा कर सकते हैं।  

आज आ कुछ महीनों के लिए अपने शिशु को वह आज ना दें जिन से उसे कब्ज हो सकता है।  अपने शिशु में ठोस आहार की शुरुआत करते वक्त तीन दिवसीय नियम का पालन अवश्य करें।  यहां हम कुछ ऐसे आहार आपको बताने जा रहे हैं जिनसे आपके शिशु को कब्ज की समस्या हो सकती है - 

  • गोभी
  • नाशपाती 
  • छला  हुआ सेब (skinless apples) 
  • भुजा (puffed rice) 
  • मैदे की रोटी और आनाज (refined cereal) 

पिसा हुआ आहार (Pureed foods)

4. पिसा हुआ आहार (Pureed foods)

अगर आपका शिशु 6 महीने से ऊपर हो गया है और आपने उसे ठोस आहार देना प्रारंभ नहीं किया है तो अब शुरू कीजिए।  खुश  आहार शुरू करने के लिए आप अपने शिशु को पीसा हुआ आहार (Pureed fooods) दे सकती है। 

फल और आहार फाइबर की मात्रा बहुत होती है जो उसके मल के आकार को बढ़ाता है (add bulk to your child’s stool) और मल त्याग  करना आसान बनाता है। ठोस आहार का सेवन शिशु को मल त्याग करने के लिए भी प्रेरित करता है।

तरल आहार की मात्रा को बढ़ाएं

5. तरल आहार की मात्रा को बढ़ाएं

अगर आपके शिशु के शरीर में तरल की मात्रा सही है तो उसे मल त्याग करने (regular bowel movements) में कोई समस्या नहीं होनी चाहिए।  

आप अपने शिशु को दूध और पानी के द्वारा उसके शरीर में तल की मात्रा (Proper hydration) को बनाए रखें।  अगर आपका शिशु 6 महीने से छोटा है तो उसे दूध के अलावा कुछ भी ना दें -  पानी भी नहीं।  6 महीने से छोटे बच्चों के शरीर में पानी की सभी आवश्यकता उनके दूध से पूरी हो जाती है।  

किसी विशेष कारणों से आपके शिशु का डॉक्टर आपके शिशु को पानी देने की सलाह दे सकता है -  केवल तभी अपने शिशु को पानी दे और केवल उतनी ही मात्रा में दे जितना कि आपके शिशु का डॉक्टर कहे।  इसके अलावा कभी भी अपने शिशु को पानी नहीं दें जब तक कि आपका शिशु 6 महीने से बड़ा नहीं हो जाता है। 

अपने शिशु को थोड़ी थोड़ी कसरत कराएं

६. अपने शिशु को थोड़ी थोड़ी कसरत कराएं

 जो बच्चे बहुत क्रियाशील होते हैं उनमें कब्ज की समस्या भी कम पाई गई है।  ऐसा इसलिए क्योंकि जब शरीर क्रियाशील होता है तो यह मल त्याग को सरल बनाता है।  

लेकिन जब शरीर बहुत ज्यादा क्रियाशील नहीं होता है तो मल त्याग करने में भी दिक्कत आता है।  अगर आपके शिशु को कब्ज की समस्या है तो आप अपने शिशु को चलाने की कोशिश करें या उसे लेटाकर उसके पैरों को साइकिल की तरह घूमआए। 

अपने शिशु का हल्के हाथों से मसाज करें

7. अपने शिशु का हल्के हाथों से मसाज करें

 कब्ज की समस्या में हल्की हाथों से मालिश करने में शिशु को आराम मिलता है और शिशु के पेट की मांसपेशियां मल त्याग करने के लिए प्रेरित होती है।  

अगर आपका शिशु कब की समस्या से जूझ रहा है तो आप अपने शिशु को दिन में कई बार मसाज करें जब तक कि आपके शिशु  मल त्याग ना कर दे।  शिशु के पेट पर  निचले हिस्से में और पेट के चारों तरफ हल्के हाथों से मसाज करें। 

ग्लिसरीन suppository

८. ग्लिसरीन suppository 

अगर आपके शिशु को पहले ही मल त्याग करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ चुका है जहां मल त्याग करते वक्त उसके मन में आपको खून दिखा हो या मल त्याग करने के लिए आपके शिशु को बहुत ज्यादा जोर लगाना पड़ा हो -  तब -  ऐसी स्थिति में -  आप ग्लिसरीन suppository का इस्तेमाल कर सकती है।  

इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर की राय अवश्य ले ले।  साथ ही इसे प्रयोग करते वक्त इसके ऊपर लिखे निरीक्षण को सावधानीपूर्वक  पढ़ ले। 

जुलाब - laxatives

9. जुलाब - laxatives

अगर आपका शिशु 6 महीने से पड़ा है तो आप अपने शिशु को दवा की दुकान से जुलाब - laxatives

खरीद कर दे सकती है।  लेकिन इसके इस्तेमाल से पहले अपने शिशु के डॉक्टर से अवश्य राय लेने। जुलाब - laxatives  शिशु के मल को पेट में ढीला बनाता है ताकि यह आसानी से मलद्वार से बाहर आ सके।  इसे 6 महीने से छोटे बच्चों को नहीं देना चाहिए। 

डॉक्टर की राय लें

10. डॉक्टर की राय लें

 अगर आपका शिशु कब की समस्या का सामना कर रहा है  तो आप ऊपर दिए गए उपाय अपना सकती है।  लेकिन छोटे बच्चे अपनी समस्याओं को बोल कर बता नहीं सकते हैं।  

इसी वजह से उनकी कब्ज की समस्या कई कारणों से भी हो सकती है और वह किसी दूसरी समस्या की ओर भी इशारा कर सकती है।  इसीलिए हम हमेशा इस बात की सुझाव देते हैं कि अपने शिशु पर कोई भी उपाय अपनाने से पहले अपने शिशु के डॉक्टर से अवश्य पूछ ले। 

इस लेख में आप पढ़ेंगी: बच्चों का पेट साफ करने के उपाय, हिंदी में नवजात शिशु पॉटी समस्या, शिशुओं में कब्ज के लिए होम्योपैथिक दवा, बच्चा कब्ज कठिन मल, बच्चों में कब्ज के लिए घरेलू उपचार, नवजात शिशु को गैस, बच्चों में कब्ज का इलाज, टाइट पॉटी प्रॉब्लम, बच्चों का पेट साफ करने के उपाय, कैसे जल्दी से बच्चों में कब्ज दूर करने के लिए, बच्चों के लिए कब्ज के लिए घर उपचार, बच्चा कब्ज कठिन मल, बेबी को कब्ज हो तो क्या करे, बच्चों में कब्ज का इलाज, शिशुओं में कब्ज के लिए होम्योपैथिक दवा, बच्चों को कब्ज होने पर क्या करे, कितनी बार नवजात शिशु पॉटी करना, नवजात शिशु में कब्ज, टाइट पॉटी प्रॉब्लम इन हिंदी, शिशुओं की पॉटी रंग, नवजात शिशु को दस्त, बेबी को पॉटी न होना, नवजात शिशु कब्ज उपचार, नवजात शिशु को गैस, टाइट पॉटी प्रॉब्लम, शिशुओं में कब्ज के लिए दवा, शिशुओं में कब्ज के लिए होम्योपैथिक दवा, बच्चों में कब्ज के लिए घरेलू उपचार, बच्चों के लिए कब्ज के लिए घर उपचार, नवजात शिशु कब्ज उपचार, बच्चा कब्ज कठिन मल, बच्चों का पेट साफ करने के उपाय, हिंदी में नवजात शिशु पॉटी समस्या, कितनी बार नवजात शिशु पॉटी करना, बच्चा कब्ज कठिन मल, बच्चों में कब्ज का इलाज, बच्चों में कब्ज के लिए घरेलू उपचार, बच्चों के लिए कब्ज के लिए घर उपचार, कब्ज नवजात उपचार, शिशुओं में कब्ज के लिए होम्योपैथिक दवा, बच्चों का पेट साफ करने के उपाय, टाइट पॉटी प्रॉब्लम इन हिंदी, बेबी को पॉटी न होना, बच्चों के लिए कब्ज के लिए घर उपचार, बच्चों में कब्ज का इलाज, शिशुओं में कब्ज के लिए होम्योपैथिक दवा, बच्चा कब्ज कठिन मल, बच्चों का पेट साफ करने के उपाय, कब्ज नवजात उपचार, बच्चों के लिए घरेलू नुस्खे, बच्चों में कब्ज के घर उपचार, बच्चों में कब्ज (Constipation) के लक्षण, कारण, निदान, बच्चों में क़ब्ज़ का देसी इलाज कैसे करे, टाइट से भी टाइट कब्ज को करे ढीला, टाइट पॉटी प्रॉब्लम इन हिंदी, २ मंथ बेबी पॉटी प्रॉब्लम, बेबी को पॉटी न होना, बच्चों को कब्ज होने पर क्या करे, हिंदी में नवजात शिशु पॉटी समस्या, बच्चा कब्ज कठिन मल, बेबी को कब्ज हो तो क्या करे, बेबी उन्माद नहीं कर रही 5 दिन, कैसे जल्दी से बच्चों में कब्ज दूर करने के लिए, बच्चों के लिए कब्ज के लिए घर उपचार, बच्चा कब्ज कठिन मल, बेबी को कब्ज हो तो क्या करे, शिशुओं में कब्ज के लिए होम्योपैथिक दवा, बच्चों में कब्ज का इलाज, बच्चों को कब्ज होने पर क्या करे, टाइट पॉटी प्रॉब्लम।

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

Footer