Category: शिशु रोग

बच्चों में सर्दी और खांसी के घरेलु उपचार

By: Vandana Srivastava | 6 min read

सर्दी - जुकाम और खाँसी (cold cough and sore throat) को दूर करने के लिए कुछ आसान से घरेलू उपचार (home remedy) दिये जा रहे हैं, जिसकी सहायता से आपके बच्चे को सर्दियों में काफी आराम मिलेगा।

child cold and cough home remedy in hindi

हमारे देश में हर तीन महीने पर मौसम बदल जाता है। इस बदलते हुए मौसम में हमारे नाज़ुक से बच्चे कई बीमारियों के चपेट में आ जाते हैं। कहीं आपके बच्चे को भी मौसम की मार ने आहत तो नहीं कर दिया है ? आपका बच्चा यदि सर्दी - जुकाम से परेशान है, उसकी तबियत अनमनी है, तो घबराइए नहीं। हर साल बहुत सारे बच्चे कमजोर होने की वजह से सर्दी खाँसी का शिकार होते हैं। नवजात बच्चे तो अपने जीवन के पहले साल ही लगभग 7 बार सर्दी खाँसी के शिकार होते हैं। ऐसे में घरेलू उपचार बच्चों को सर्दी- खाँसी में राहत पहुँचा सकते हैं। 

इस लेख में आप सीखेंगे - You will read in this article

  1. सर्दी - जुकाम का घरेलु इलाज
  2. ध्यान रखने योग्य बातें
  3. Video: बच्चों में सर्दी - खांसी के घरेलु इलाज

सर्दी - जुकाम का घरेलु इलाज - Home remedy to treat cold cough and sore throat in small children

सर्दी - जुकाम और खाँसी को दूर करने के लिए कुछ आसान से घरेलू उपचार दिये जा रहे हैं, जिसकी सहायता से आपके बच्चे को काफी आराम मिलेगा। 

  1. एक कप सरसो के तेल में अजवाइन और लहसुन की दस कलियां लेकर उसे पकाए, थोड़ा ठंडा होने पर उससे बच्चे की मालिश करे। सरसों के तेल, लहसुन और अजवाइन में कीटाणु-रोधक और विषाणु-रोधक गुण होते हैं। यह आपके बच्चे को काफी मात्रा में आराम प्रदान करने में सहायता करता है। preparing oil for baby massage ajvine, mostard oil and garlic cold winter cough relief
  2. सहजन की कोमल हरी पत्तियों को तोड़ें। एक मोटी पेनी वाली कढ़ाई में १/२ कप नारियल तेल गर्म करें और उसमें मुट्ठीभर सहजन की पत्तियां डालें। पत्ते सूख जाने के बाद, आप कढ़ाई को आंच से हटा सकती हैं। सर्दी, खांसी और कफ जमा होने पर इस तेल को अपने बच्चे के बालों के तेल के रूप में प्रयोग करें। सहजन नारियाल का तेल शिशु को सर्दी, जुकाम, नाक बंद और बुखार में फायेदेमंद
  3. बच्चे को मौसम के अनुसार कपड़े पहनाएं। उसे गर्म रखने के लिए एक के ऊपर एक कपड़े पहनाएं। बच्चों का शारीर बड़ों की तुलना में अपना तापमान नियंत्रित करने में सक्षम नहीं होता है। इसीलिए बच्चों को बड़ों की तुलना में एक लेयर एक्स्ट्रा कपडे पहनने की आवश्यकता होती है। इससे बच्चे ठण्ड से बचे रहेंगे। लेकिन अगर थोड़ी गर्मी हो जाये तो बच्चे आसानी से कपड़ों के एक लेयर को उतर के कम कर सकते हैं - जैसे की निचे दिए चित्र में दिखाया गया है।
    शिशु को सर्दी और जुकाम से बचने के लिए layers में cloths पहनाएंलेयर का मतलब होता है की बच्चों को एक-के-ऊपर-एक कई कपडे पहनाएं। ताकि अगर आवशयकता ना हो तो आसानी से जितनी अव्शाकता है उतनी लेयर कपडे उतार सके। जैसे की सबसे अन्दर बच्चे को बनियाइन पहनाएं, उसके ऊपर पूरी बांह वाली T-shirt, फिर उसके उप्पर एक half स्वेटर, उसके उप्पर फुल स्वेटर, और अंत में उसके उप्पर जैकेट।

    इस तरह आप का बच्चा जाड़े में ठण्ड और जुकाम से बचा रहेगा। साथ ही दोपहर के वक्त अगर उतनी ठण्ड ना हो तो जितनी आवशयकता है उतने कपडे उतार सकेगा और फिरभी ठण्ड से बचा रहेगा।

    मगर कल्पना कीजिये की अगर आप का बच्चा पूरी बांह वाली T-shirt के ऊपर केवल जैकेट पहना है तो क्या जैकेट लायक ठंडी ना होने पे अगर वो जैकेट उतरता है तो क्या उसे ठंडी ना लगेगी? 
  4. बच्चे को सर पे ऐसी टोपी पहना के रखें जिससे की उसके कानो में ठंडी हवा ना घुसे। एक बात जो बच्चे नहीं बता पाते हैं वो यह है की ठण्ड की वजह से उनके कानो में बहुत दर्द होता है। शिशु के लिए एक बेहतरीन टोपी का उदहारण देखने के लिए आप यहाँ click करें।  इस प्रकार की टोपी शिशु को ठण्ड, सर्दी और जुकाम के हर खतरे से बचाती है। 
  5. बच्चे को संक्रमण से बचाने के लिये अपना और बच्चे का हाथ साफ रखे। बच्चे को कुछ खिलाने से पहले हैण्ड वाश करे।
  6. सोते हुए बच्चे का सिर ऊपर रखे, जिससे वह आसानी से साँस ले सके।
  7. बच्चों के सर्दी-खांसी में अजवाइन का काढ़ा पिलायें।
  8. सर्दी-खांसी के दौरान सूप बहुत आरामदायक भोजन होता है। आप सब्जियों का गर्म सूप दे सकती हैं। यदि आपका बच्चा थोड़ा और बड़ा है तो आप उसे चिकन सूप दे सकती हैं। ये सूप बच्चे की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं।
  9. आधी कटोरी देसी घी में एक गांठ अदरक पीस कर उसमें २५ ग्राम गुड़ डालकर पकालें। ठंडा होने पर थोड़ा - थोड़ा बच्चे को खिलाये। यह खाँसी की अचूक दवा है।
  10. बच्चे को गर्म पानी में गुड़, जीरा और काली मिर्च का मिश्रण दे। सर्दी, खांसी और गले में खराश होने पर यह मिश्रण असरदार होता है।
  11. जीरे और मिश्री दोनों को महीन पाउडर में पीस लें। जब भी आपके बच्चे को खांसी आती है तो उसे यह मिश्रण दें।
  12. लहसुन की एक छोटी कली लें, इसे पीसें, और थोड़ा शहद मिलाकर पेस्ट बनाएं। दिन में एक या दो बार इसे दें।
  13. नींबू के रस, दालचीनी पाउडर और शहद का मिश्रण तैयार करें। यह सर्दी और खांसी के वायरस से लड़ने के लिए बहुत अच्छा होता है।
  14. आँवला धुल कर उबाल ले, उसका बीज निकाल कर फेंक दें। आँवले को पीस कर, कड़ाही में थोड़ा सा देसी घी डालकर हलुवा की तरह पकाले। उसमें उसी मात्रा में गुड़ भी डाले। थोड़ा ड्राई फ्रूट डाल कर उसे तैयार कर ले और उसे अपने बच्चे को एक - एक चम्मच रोज खिलाएं।

ध्यान रखने योग्य बातें

यदि आपके बच्चे की सर्दी-खांसी २ सप्ताह या इससे अधिक समय तक बनी रहती है तो कृपया तुरंत अपने बालरोग विशेषज्ञ से परामर्श लें। यह गंभीर संक्रमण हो सकता है जिसके लिए डॉक्टर के हस्तक्षेप की जरुरत होती है।

Video: बच्चों में सर्दी - खांसी के घरेलु इलाज - Home remedy to treat cold and cough in children

 

Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at contest@kidhealthcenter.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

Most Read

Other Articles

indexed_40.txt
Footer