Category: टीकाकरण (vaccination)

शिशु को टीके की बूस्टर खुराक दिलवाना क्यों जरुरी है?

By: Vandana Srivastava | 2 min read

बच्चे के जन्म के समय लगने वाले टीके के प्रभाव को बढ़ाने के लिए बूस्टर खुराकें दी जाती हैं। समय बीतने के पश्चात, एंटीबॉडीज का असर भी कम होने लगता है। फल स्वरूप बच्चे के शरीर में बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। बूस्टर खुराक बच्चे के शरीर में एंटीबॉडीज का जरुरी लेवल बनाए रखती है।बूस्टर खुराकें आपके बच्चे को रोगों से सुरक्षित व संरक्षित रखती हैं।

टीके की बूस्टर खुराक

आप का बच्चा जब गर्भ में पल रहा होता है, तभी से आप अपने बच्चे के प्रति जागरूक हो जाती हैं। और अपने बच्चे के लिए आप अपने खान - पान और टीका करण के प्रति सचेत हो जाती हैं। जब बच्चा जन्म लेता है तो, डॉक्टर के परामर्श के अनुसार उसके स्वास्थ और पोषण को ले कर काफी उत्साहित रहती हैं और उनके कथनानुसार आप अपने बच्चे की देख - रेख करती हैं। इसी सन्दर्भ में टीका करण और उसकी बूस्टर डोज़ है, जो आप के बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा कर रोगों से लड़ने की शक्ती प्रदान करता है।

vaccination booster dose

टीके की बूस्टर खुराक का महत्व - Importance of vaccination booster dose

  • बच्चे के जन्म के समय लगने वाले टीके के प्रभाव को बढ़ाने के लिए बूस्टर खुराकें दी जाती हैं। समय बीतने के पश्चात, एंटीबॉडीज का असर भी कम होने लगता है। फल स्वरूप बच्चे के शरीर में बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। बूस्टर खुराक बच्चे के शरीर में एंटीबॉडीज का जरुरी लेवल बनाए रखती है।
  • बूस्टर खुराकें आपके बच्चे को रोगों से सुरक्षित व संरक्षित रखती हैं। बूस्टर खुराकें आपके बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता को याद दिलाती हैं कि उसे बच्चे के रोगों से सुरक्षा करना जारी रखना है।
  • जब बच्चों को खसरा ( मीजल्स ), गलसुआ ( मम्प्स ) और रुबेला जैसे रोगों के खिलाफ एमएमआर का टीका लगाया जाता है,  यह टीकाकरण लगभग सभी मामलों में सफल रहता है।
  • कुछ बच्चे वैक्सीनेशन के बाद भी इन रोगों से सुरक्षित नहीं हो पाते,  उन्हें इसके बाद भी खतरा बना रहता है इसलिए इसके बावजूद, कुछ बच्चे पहले इंजेक्शन के बाद भी इन रोगों से प्रतिरक्षित नहीं हो पाते। उन्हें अभी भी इन रोगों का खतरा रहता है। इसलिए, इन रोगों के खिलाफ रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने के लिए उन्हें बूस्टर खुराक की जरुरत होती है। हालांकि, ऐसे बच्चो की संख्या काफी कम होती है।
  • कुछ बच्चे समय के साथ-साथ ही, निर्धारित बूस्टर डोज नहीं ले पाते और  अपनी प्रतिरोधक क्षमता खोने लगते हैं। इसलिए, बूस्टर खुराकें दी जाती हैं, ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि जिन बच्चो में पहले टीके के बाद प्रतिरोधक क्षमता विकसित नहीं हुई, उनमें बूस्टर खुराक के माध्यम से ही ऐसा हो सकता है।
  • कुछ बीमारियां ऐसी होती हैं, जिन को रोकने के लिए टीके का अलग - अलग समय निर्धारित होता है, इसके बाद भी बूस्टर की खुराक दी जाती है।
  • टीकों की एक ही खुराक अधिकतर बच्चों को जीवन भर की सुरक्षा प्रदान कर देती है, वहीं कुछ अन्य टीकों में सुरक्षा बनायें रखने के लिए एक्स्ट्रा बूस्टर खुराकों की आवश्यकता होती है।
  • कई बार, टीकों की बूस्टर खुराक इसलिए जरुरी होती है, क्योंकि समय के साथ-साथ हमारी प्रतिरोधक क्षमता की रक्षा करने की स्मरणशक्ति भी कमजोर होने लगती है। जैसे एंटी - टिटनस इंजेक्शन प्रत्येक 10 साल में पुनः लगवाना पड़ सकते हैं।
  • अधिकतर स्कूल और प्ले वे सेंटर में एडमिशन के समय बच्चे के स्वास्थ्य और वैक्सीनेशन की रिबूस्टर खुराकें, आपके बच्चे को कई बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करती है।
  • वैक्सीनेशन सूची में देखें कि आपके बच्चे की बूस्टर खुराक कब लगवाई जानी है। स्कूलों में तो बूस्टर खुराक की कैम्प भी लगाया जाता है, ताकि आपके बच्चों को समय पर उनकी बूस्टर खुराक समय पर मिल सके।

आप के बच्चे को जब पहला टीका लगता है तो जिस कार्ड पर टीका करण सूची रहती है उस पर आप डॉक्टर से, जो टीका लग रहा है उस पर निशान लगवालें कि अमुक टीका लग गया है। अगला टीका कब लगेगा इस की भी जानकारी ले लें और कार्ड पर डेट डलवालें इससे आप अपने बच्चे के टीका लगवाने के बारे में सावधान रहेंगी और उसके स्वास्थ्य के प्रति सतर्क रहेंगी।



Terms & Conditions: बच्चों के स्वस्थ, परवरिश और पढाई से सम्बंधित लेख लिखें| लेख न्यूनतम 1700 words की होनी चाहिए| विशेषज्ञों दुवारा चुने गए लेख को लेखक के नाम और फोटो के साथ प्रकाशित किया जायेगा| साथ ही हर चयनित लेखकों को KidHealthCenter.com की तरफ से सर्टिफिकेट दिया जायेगा| यह भारत की सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली ब्लॉग है - जिस पर हर महीने 7 लाख पाठक अपनी समस्याओं का समाधान पाते हैं| आप भी इसके लिए लिख सकती हैं और अपने अनुभव को पाठकों तक पहुंचा सकती हैं|

Send Your article at mykidhealthcenter@gmail.com



ध्यान रखने योग्य बाते
- आपका लेख पूर्ण रूप से नया एवं आपका होना चाहिए| यह लेख किसी दूसरे स्रोत से चुराया नही होना चाहिए|
- लेख में कम से कम वर्तनी (Spellings) एवं व्याकरण (Grammar) संबंधी त्रुटियाँ होनी चाहिए|
- संबंधित चित्र (Images) भेजने कि कोशिश करें
- मगर यह जरुरी नहीं है| |
- लेख में आवश्यक बदलाव करने के सभी अधिकार KidHealthCenter के पास सुरक्षित है.
- लेख के साथ अपना पूरा नाम, पता, वेबसाईट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाईल का पता भी अवश्य भेजे.
- लेख के प्रकाशन के एवज में KidHealthCenter लेखक के नाम और प्रोफाइल को लेख के अंत में प्रकाशित करेगा| किसी भी लेखक को किसी भी प्रकार का कोई भुगतान नही किया जाएगा|
- हम आपका लेख प्राप्त करने के बाद कम से कम एक सप्ताह मे भीतर उसे प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे| एक बार प्रकाशित होने के बाद आप उस लेख को कहीं और प्रकाशित नही कर सकेंगे. और ना ही अप्रकाशित करवा सकेंगे| लेख पर संपूर्ण अधिकार KidHealthCenter का होगा|


Important Note: यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो kidhealthcenter.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है।

आयरन-से-भरपूर-आहार
सर्दी-जुकाम-से-बचाव
बच्चों-में-टाइफाइड
बच्चों-में-अंजनहारी
बच्चों-में-खाने-से-एलर्जी
बच्चों-में-चेचक
डेंगू-के-लक्षण
बच्चों-में-न्यूमोनिया
बच्चों-का-घरेलू-इलाज
बच्चों-में-यूरिन
वायरल-बुखार-Viral-fever
बच्चों-में-सर्दी
एंटी-रेबीज-वैक्सीन
चिकन-पाक्स-का-टिका
टाइफाइड-वैक्सीन
शिशु-का-वजन-बढ़ाने-का-आहार
दिमागी-बुखार
येलो-फीवर-yellow-fever
हेपेटाइटिस-बी
हैजा-का-टीकाकरण---Cholera-Vaccination
बच्चों-का-मालिश
गर्मियों-से-बचें
बच्चों-का-मालिश
बच्चों-की-लम्बाई
उल्टी-में-देखभाल
शहद-के-फायदे
बच्चो-में-कुपोषण
हाइपोथर्मिया-hypothermia
ठोस-आहार
बच्चे-क्यों-रोते
Footer